• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • एसबीआई जनरल इंश्योरेंस से किया है बीमा तो अब तुरंत होगा क्लेम सेटलमेंट! जानिए कैसे

एसबीआई जनरल इंश्योरेंस से किया है बीमा तो अब तुरंत होगा क्लेम सेटलमेंट! जानिए कैसे

छोटे मूल्य के मोटर बीमा दावों को तुरंत निपटारा होगा

छोटे मूल्य के मोटर बीमा दावों को तुरंत निपटारा होगा

मालूम हो एसबीआई जनरल इंश्योरेंस से तेजी से बढ़ती निजी जनरल इंश्योरेंस कंपनियों में से एक है, जिसमें एसबीआई का मजबूत हिस्सा शामिल है.

  • Share this:
    नई दिल्ली. यदि आपने अपने वाहन का इंश्योरेंस एसबीआई जनरल इंश्योरेंस के माध्यम से करवाया है तो आपके लिए एक अच्छी ख़बर है. कंपनी ने अपने मोटर बीमा ग्राहकों के लिए वैल्यू एड सर्विस के रूप में फास्टलेन क्लेम सेटलमेंट की शुरुआत की है. कंपनी द्वारा जारी एक बयान के अनुसार, इस वैल्यू एड सर्विस के एक हिस्से के रूप में, ग्राहकों के पास अपने छोटे मूल्य के मोटर बीमा दावों को तुरंत निपटाने का विकल्प है. कंपनी का लक्ष्य सेटलमेंट के समय को कुछ मिनटों तक कम करके ग्राहक अनुभव को बढ़ाना है.

    ग्राहक केंद्रित समाधान पर फोकस
    लॉन्च पर बोलते हुए, एसबीआई जनरल इंश्योरेंस के हेड क्लेम और डिजिटल अतुल देशपांडे ने कहा, “एसबीआई जनरल में, हमने हमेशा ग्राहक-केंद्रित समाधान देने पर ध्यान केंद्रित किया है जो अंततः ग्राहकों की संतुष्टि को ग्राहकों की खुशी में बदल देगा. हम दृढ़ता से मानते हैं कि प्रौद्योगिकी और डिजिटल समाधान ग्राहक अनुभव को बेहतर बनाने में एक अभिन्न भूमिका निभा सकते हैं.

    ये भी पढ़ें - कोविड क्‍लेम बढ़ने से घटा SBI Life का मुनाफा, जून 2021 तिमाही में रह गया 223 करोड़ रुपये

    टर्न-अराउंड समय को कम करना
    फास्टलेन क्लेम सेटलमेंट के साथ, हमारा लक्ष्य मोटर वाहन दावों के निपटान के लिए टर्न-अराउंड समय को कम करना है, जिससे फिजिकल इंस्पेक्शन , डॉक्यूमेंटेशन और क्वेरी मैनेजमेंट की आवश्यकता कम हो सके. मालूम हो एसबीआई जनरल इंश्योरेंस  वर्तमान में, तीन कस्टमर सेगमेंट- रिटेल सेगमेंट (इंडीविजुअल और परिवारों के लिए), कॉरपोरेट सेगमेंट (मध्य से बड़े आकार की कंपनियों के लिए) और SME सेगमेंट में काम कर रही है.

    ये भी पढ़ें - Corona Impact: एक साल में बंद हो गईं 16500 से ज्‍यादा कंपनियां, जानें कितनों को हुआ घाटा

    भारत में अनिवार्य है मोटर का बीमा
    मालूम हो नियमानुसार हर वाहन का चाहे फिर वो टू व्हीलर हो या फोर व्हीलर या अन्य कर्मशियल वाहन सभी का इंश्योरेंस होना अनिवार्य है. यदि कोई चालक ऐसे वाहन को चलाते हुए पकड़ा जाता है जिसका इंश्योरेंस नहीं हो तो यातायात पुलिस उसे पकड़ सकती है और मोटर व्हीकल एक्ट 1988 के अनुसार उस पर चालानी कार्रवाई की जाती है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज