इंश्‍योरेंस पॉलिसी खरीदने वाले ग्राहकों के लिए बड़ी खबर, शुरू हुई Video KYC, जानें पूरी प्रक्रिया

इंश्‍योरेंस रेग्‍युलेटर इरडा ने बीमा कंपनियों को अपने ग्राहकों के वीडियो आधारित केवाईसी की मंजूरी दे दी है.
इंश्‍योरेंस रेग्‍युलेटर इरडा ने बीमा कंपनियों को अपने ग्राहकों के वीडियो आधारित केवाईसी की मंजूरी दे दी है.

इंश्‍योरेंस रेग्‍युलेटर एंड डेवलपमेंट अथॉरिटी ऑफ इंडिया (IRDAI) ने बीमा कंपनियों को पॉलिसी की ऑनलाइन खरीद (Online Insurance Policy) के लिए वीडियो केवाईसी (Video KYC) सुविधा उपलब्‍ध करा दी है. आइए जानते हैं कि इस प्रक्रिया को पूरा करने के लिए क्‍या डॉक्‍युमेंट्स जरूरी होंगे और इससे ग्राहकों को कैसे फायदा मिलेगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 2, 2020, 7:09 AM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. इंश्‍योरेंस रेग्‍युलेटर एंड डेवलपमेंट अथॉरिटी ऑफ इंडिया (IRDAI) ने पॉलिसीधारकों के लिए बीमा पॉलिसियों (Insurance Policy) की ऑनलाइन खरीद के लिए वीडियो केवाईसी (Video KYC) की सुविधा मुहैया करा दी है. इरडा ने बीमा कंपनियों (Insurance Company) और एजेंट्स को ऑनलाइन पॉलिसी जारी करने की मंजूरी भी दे दी है. अब ग्राहक बिना बैंक (Bank) जाए या बीमा अधिकारी के संपर्क में आए वीडियो केवाईसी कर पॉलिसी खरीदने की प्रक्रिया पूरा कर सकेंगे.

बीमा अधिकारी डिजिटल सिग्‍नेचर को करेगा वेरिफाई
ऑनलाइन पॉलिसी में बीमा अधिकारी को ग्राहक के दस्तावेजों पर हस्ताक्षर को मान्य करने के लिए डिजिटल मोड का उपयोग करने की अनुमति होगी. इससे पहले भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) और पूंजी बाजार नियामक सेबी (SEBI) ने भी बैंकों और म्यूचुअल फंड मैनेजर्स (Mutual Funds) को अनिवार्य केवाईसी प्रक्रिया पूरा करने के लिए वीडियो-आधारित उपकरणों का इस्‍तेमाल करने की मंजूरी दे दी थी. पेंशन फंड रेग्‍युलेटर एंड डेवलपमेंट अथॉरिटी (PFRDA) ने भी वितरकों को नेशनल पेंशन सिस्‍टम (NPS) की सब्‍सक्रिप्‍शन के लिए वीडियो केवाईसी की मंजूरी दी है.

ये भी पढ़ें- अब एयरपोर्ट पर ही होगा विदेशी यात्रियों का कोरोना टेस्‍ट, शुरू की गई आरटी-पीसीआर जांच सुविधा
ऐसी होगी वीडियो केवाईसी


>> बीमा कर्मचारी या अधिकृत प्रतिनिधि घर बैठे ही लाइव वीडियो रिकॉर्डिंग के जरिये ग्राहक का पूरा ब्‍योरा लेगा.

>> आधिकारिक ऐप (Official App) के जरिये पॉलिसी धारक (Policy Holders) बीमा कंपनी के कर्मचारी से जुड़ेगा और इरडा की गाइडलाइन के अनुसार वीडियो पर केवाईसी प्रकिया को शुरू करेगा.

>> दूसरे विकल्प में पॉलिसीधारक को एक आधिकारिक वेब लिंक (Official Web link) भेजा जाएगा, जिसके जरिये बीमा कर्मचारी ग्राहक की जानकारी जुटाएगा.

>> ग्राहक को आधार कार्ड, पासपोर्ट, ड्राइविंग लाइसेंस में कोई एक पेश करना होगा. अगर ग्राहक डिजिलॉकर सुविधा का इस्‍तेमाल करता है तो वह डिजिटल हस्ताक्षर वाली कॉपी जमा करा सकता है.

>> वीडियो केवाईसी प्रक्रिया में ग्राहक इन दस्तावेजों को फोटो के रूप में भी साझा कर सकते हैं या फिर ई-साइन सिस्टम (E-Sign System) के जरिये दस्तावेजों को स्कैन कर साझा कर सकते हैं.

>> वीडियो केवाईसी के दौरान ग्राहकों की लोकेशन, तारीख और टाइम-स्टांप भी रिकॉर्ड होगा. इसमें जियोटैगिंग (Geotagging) भी अनिवार्य होगी.

>> पॉलिसीधारक के भारत में होने पर ही वीडियो केवाईसी प्रकिया मान्य होगी.

ये भी पढ़ें- कोरोना संकट के बीच भारतीय रेलवे की एक और बड़ी उपलब्धि! सितंबर 2020 में हुई बंपर कमाई

वीडियो केवाईसी ग्राहकों की ऐसे करेगा मदद
>> कोरोना वायरस के मद्देनजर देश की मौजूदा स्थिति के हिसाब से ग्राहकों के लिए यह प्रक्रिया काफी सुविधाजनक होगी.

>> इसके लिए किसी भी ग्राहक को केवाईसी सत्यापन (KYC verification) के साथ पॉलिसी खरीद प्रक्रिया के लिए बीमा कार्यालय नहीं जाना पडे़गा.

>> बीमा कंपनियां अभी इस प्रक्रिया में थोड़ा बदलाव करेंगी. इसके बाद कंपनी की ओर से शेयर किए गए लिंक और ऐप ये ग्राहक सीधे बीमाकर्ता से जुड़ सकेंगे.

>> केवाईसी की प्रक्रिया पूरा करने के लिए ग्राहकों को केवाईसी दस्तावेजों को ऑनलाइन साझा करने के अलावा, फेस टू फेस आने के बजाय वीडियो से ही सवालों के जवाब देने होंगे.

>> वीडियो केवाईसी सत्यापन के लिए ग्राहकों से किसी भी तरह का अतिरिक्त चार्ज नहीं वसूला जाएगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज