Women's Day Special: जानिए हाउस वाइव्स की कहानी.. जो किचन में रोजाना करती है 303 रुपये का काम, पढ़ें ये रिपोर्ट

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)

International women's Day: एक हाउस वाइफ (House Wife) दिनभर के 8 घंटे से ज़्यादा किचन का काम करती है. लेकिन घर के बाहर जाकर काम करने वाली महिलाओं के काम को ही नोटिस में लिया जाता है. उसी इनकम को सरकार भी नेशनल इनकम में काउंट करती है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 8, 2021, 12:11 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. एक हाउस वाइफ (House Wife) दिनभर के 8 घंटे से ज़्यादा किचन का काम करती है. लेकिन घर के बाहर जाकर काम करने वाली महिलाओं के काम को ही नोटिस में लिया जाता है. उसी इनकम को सरकार भी नेशनल इनकम में काउंट करती है. लेकिन एक हाउस वाइफ जो सिर्फ किचन में ही रोज़ाना करीब 303 रुपये का काम करती है, उसे न तो मेहनताना मिलता है और न ही उसे नेशनल इनकम में जोड़ा जाता है. यह कहना है अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (AMU) की असिस्टेंट प्रोफेसर जेबा  का. हाल ही में जेबा का एक रिसर्च पेपर बड़े जर्नल में पब्लिश हुआ है. रिसर्च पेपर का विषय महिलाएंः समस्याएं और चुनौतियां’ है. राष्ट्रीय महिला आयोग National commission Women) ने भी इस पेपर के लिए जेबा को सम्मानित किया है.

8.41 घंटे और 303 रुपये के काम पर नहीं है किसी की निगाह
असिस्टेंट प्रोफेसर जेबा के रिसर्च पेपर की मानें तो एक हाउस वाइफ घर में रहते हुए किचन के काम के साथ ही घर की साफ-सफाई, कपड़े वाशिंग का काम करने के साथ ही परिवार के और भी काम करती है. लेकिन इस रिसर्च में किचन के सिर्फ 8 काम शामिल किए हैं. जिन महिलाओं से बातचीत कर उन्हें रिसर्च में शामिल किया गया है वो 30 से 35 साल की हैं और उनके परिवार में चार लोग पति, एक स्कूल जाने वाला बच्चा, एक छोटा बच्चा और खुद हैं.

international women's Day
अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (AMU) की असिस्टेंट प्रोफेसर जेबा को राष्ट्रीय महिला आयोग द्वारा सम्मानित किया गया है.

ये भी पढ़ें- Women's Day: अब कंपनी की बागडोर संभालेंगी महिलाएं! जाॅब, वेतन, प्रमोशन और लीडरशिप पोस्ट में मिलेगी बराबरी



किचन में जिन काम को उनके वक्त को शामिल किया गया है वो कुछ इस तरह से हैं, किचन में तीन वक्त सब्ज़ी और राइस बनाने के 4500 रुपये, तीन वक्त की सब्ज़ी काटने के 300, दो वक्त हाथ से मसाला पीसने के 600, किचन की 8 बार सफाई 100, एक बार आटा गूंदने के 100, 5 बार किचन की स्लेब साफ करने के 100, दिन में तीन बार बर्तन धोने के 1500 और तीन बार चपाती बनाने के भी 1500 रुपये होते हैं. ज़ेबा की रिसर्च के मुताबिक इन सभी काम में एक हाउस वाइफ को 8.41 घंटे लगते हैं. खास बात यह है कि इतना सब करने के बाद एक दिन की छुट्टी भी नहीं है.

नोएडा की मदद से गर्मियों में ग्रेटर नोएडा वालों को परेशान नहीं करेगा पावर कट, जानिए पूरा प्‍लान
ज़ेबा का कहना है कि अफसोस की बात यह है कि एक हाउस वाइफ के 8.41 घंटे के काम और महीने के 9100 रुपये की इनकम को नेशनल इनकम में काउंट नहीं किया जाता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज