लाइव टीवी

मोदी सरकार की इस स्कीम में हर दिन 400 रुपये लगाकर हो सकते हैं मालामाल, जानिए क्या है तरीका

News18Hindi
Updated: December 9, 2019, 8:07 AM IST
मोदी सरकार की इस स्कीम में हर दिन 400 रुपये लगाकर हो सकते हैं मालामाल, जानिए क्या है तरीका
नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट

नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट (NSC) एक सरकारी स्कीम है, जिसमें मौजूदा समय पर 7.9 फीसदी की दर से ब्याज मिलता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 9, 2019, 8:07 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट (NSC) पर वर्तमान समय में 7.9 फीसदी की दर से ब्याज मिलता है. यह पब्लिक प्रोविडेंट फंड (PPF) पर मिलने वाले ब्याज दर के बराबर ही है. NSC पर गारंटीड रिटर्न्स के साथ-साथ निवेश की गई रकम पर टैक्स छूट भी मिलती है. इस स्कीम की मैच्योरिटी अवधि 5 साल के लिए होती है. बता दें कि NSC पर मिलने वाले ब्याज को हर तिमाही में रिवाइज किया जाता है. आइए जानते हैं कि आखिर क्यों यह इन्वेस्टमेंट आपके लिए बेहतर है.

1. अगर आप इसमें अभी निवेश करना शुरू करते हैं तो आपको 7.9 फीसदी की दर से ब्याज मिलेगा.

2. NSC में 100 रुपये के निवेश पर आपको 5 साल में 146.25 रुपये मिलेंगे.

3. इसमें आप कम से कम 100 रुपये निवेश कर सकते है. इसके बाद आप 100 रुपये के लिए मल्टीपल में निवेश कर सकेंगे.

ये भी पढ़ें: अगर मकान मालिक नहीं दे PAN कार्ड तो ऐसे क्लेम कर सकते हैं HRA, जानिए नियम

4. NSC में निवेश करने की कोई अधिकतम लिमिट नहीं है.

5. इसमें निवेशक को सालाना आधार पर ब्याज का भुगतान नहीं किया जाता है, लेकिन यह जमा होता रहता है. इसकी मैच्योरिटी की अवधि 5 साल की होती है. कुछ जरूरी मौकों पर ही इससे पहले आप निकासी कर सकते हैं, जैसे निवेशक की मौता होने पर या किसी मामले में कोर्ट के आदेश पर.6. NSC में एक साल में 1.5 लाख रुपये के निवेश पर इनकम टैक्स एक्ट के सेक्शन 80सी के तहत टैक्स छूट का लाभ मिलता है.

ये भी पढ़ें: सिर्फ 1 घंटे में 10 हजार रुपये तक कमाने का शानदार मौका! जानिए क्या है शर्त

7. टैक्स के मामले में NSC पर मिलने वाला सालाना ब्याज को माना जाता है कि इसे ​भी निवेश किया जाता है. टैक्स छूट मिलने वाले रकम में यह भी शामिल होता है.

8. आपको यह भी जानना जरूरी है कि पांचवें साल में मिलने वाले ब्याज को फिर से निवेश नहीं किया जाता है. ऐसे में यह इस रकम पर आपको टैक्स छूट नहीं मिलेगी.

9. इसके बाद अंतिम साल का ब्याज NSC में निवेशक के नाम पर जोड़ा जाता है. इसी आधार पर टैक्स भी देय होता है.

10. अगर आप लोन लेना चाहते हैं तो NSC को सिक्योरिटी के तौर पर रखकर लोन ले सकते हैं.

ये भी पढ़ें: घर बैठे Post Office में खुलवाएं खाता, अकाउंट में पैसे नहीं होने पर भी नहीं देना होगा कोई चार्ज

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 9, 2019, 7:16 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर