PPF में करें निवेश, टैक्स छूट के साथ मिलेगा ज्यादा ब्याज, जानें अन्य शानदार फायदे..

PPF

PPF

PPF एक सुरक्षित निवेश माना जाता है और कई लोग इसमें पैसा लगाते हैं. बता दें कि पीपीएफ अकाउंट को सरकार का संरक्षण प्राप्त है इसलिए यहां निवेश में कोई जोखिम नहीं है. इसके बदले आपको कुछ गिरवी नहीं देना होता और ब्याज दर भी कम रहती है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 26, 2021, 4:52 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. आज पर कोई कहीं न नहीं निवेश करके पैसे कमाने की सोचता है. अगर आप भी निवेश करके अच्छी खासी रकम पाना चाहते हैं तो आप पब्लिक प्रोविडेंट फंड (Public provident fund, PPF)में निवेश कर सकते हैं. PPF एक सुरक्षित निवेश माना जाता है और कई लोग इसमें पैसा लगाते हैं. बता दें कि पीपीएफ अकाउंट को सरकार का संरक्षण प्राप्त है इसलिए यहां निवेश में कोई जोखिम नहीं है. इसके बदले आपको कुछ गिरवी नहीं देना होता और ब्याज दर भी कम रहती है. इसके अलावा लोन को चुकाना भी आसान रहता है. दूसरी ओर यहां निवेश के कई फायदे भी हैं. सबसे बड़ा फायदा यह है कि पीपीएफ में निवेश करने से टैक्स में छूट मिलती है. तो आइए जान लेते हैं PPF में निवेश करने से पहले इसके बारें में सबकुछ..

लोन लेने में मिलती है सुविधा
पब्लिक प्रोविडेंट फंड अकाउंट में निवेश का एक बड़ा फायदा यह है कि आप जरूरत के समय लोन ले सकते हैं. इस लोन के बदले में कुछ भी गिरवी देने की जरुरत नहीं होती. साथ ही इसे चुकाना काफी आसान होता है. बता दें कि PPF पर जिस साल में आपने अकाउंट खोला था, उसके खत्म होने से लेकर अगले एक साल के बाद आप कभी भी लोन ले सकते हैं.

ये भी पढ़ें-  Good News: दिल्ली सरकार की नई स्कीम, अब सीधे आपके घर पहुंचाया जाएगा राशन
अकाउंट राशि का 25% मिलता है लोन


PPF अकाउंट के खुलने के साल से लेकर अगले पांच सालों के अंदर इसके आधार पर लोन लिया जा सकता है. जिस समय लोन के लिए अप्लाई किया जा रहा है, उस दौरान खाते में जितनी राशि होगी, उसका 25 फीसदी तक लोन लिया जा सकता है.


जानें, लोन की ब्याज दर
केंद्र सरकार हर तिमाही में PPF अकाउंट पर ब्याज दर को संशोधित करती है. अन्य निवेश के मामले में पीपीएफ में निवेश करने पर ब्याज दर हमेशा ज्यादा मिलता है. इसमें आप अकाउंट खोलने से तीसरे और छठें साल में लोन का फायदा ले सकते हैं. ब्याज दर आमतौर पर 7 से 8 प्रतिशत तक रहती है जो कि आर्थिक स्थिति को देखते हुए थोड़ी कम या बढ़ सकती है. फिलहाल ब्याज दर 1 प्रतिशत है, जो सालाना तौर पर चक्रवृद्धि है. यह कई बैंकों की फिक्स्ड डिपॉजिट से ज्यादा है. सब्सक्राइबर्स के लिए 15 साल की अवधि है जिसके बाद टैक्स छूट के तहत आने वाली राशि को निकाला किया जा सकता है. सब्सक्राइबर्स के पास इसे 5 साल और बढ़ाने का भी विकल्प है. वे यह भी चुन सकते हैं कि योगदान को जारी रखना है या नहीं.

ये भी पढ़ें-  पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों पर RBI गवर्नर: केन्द्र और राज्य सरकारें मिलकर कम करें टैक्स

टैक्स में मिलता है बेनेफिट
आईटी एक्ट के सेक्शन 80C के तहत टैक्स बेनेफिट मिलता है. स्कीम में निवेश की गई राशि पर 1.5 लाख रुपये तक का डिडक्शन लिया जा सकता है. PPF में कमाई गई ब्याज और मेच्योरिटी की राशि दोनों पर टैक्स छूट मिलती है.

इनके लिए फायदेमंद है पीपीएफ में निवेश:-
सेल्फ इम्प्लायड प्रोफेशनल और EPFO के दायरे में नहीं आने वाले कर्मचारियों के लिए यह फायदेमंद हो सकता है.
जिनके पास नौकरी या कारोबार, कोई संगठित ढ़ांचा नहीं है. वे यहां निवेश कर सकते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज