दिवालिया हो चुकी कंपनी के शेयर ने 4 महीने में दिया 6500 फीसदी का तगड़ा मुनाफा, हर दिन स्‍टॉक में लगा अपर सर्किट

एनसीएलटी रेजॉल्‍यूशन प्‍लान के तहत धनुका लैब ने दिवालिया कंपनी को खरीदा था.

एनसीएलटी रेजॉल्‍यूशन प्‍लान के तहत धनुका लैब ने दिवालिया कंपनी को खरीदा था.

फार्मा कंपनी ऑर्किड फार्मा लिमिटेड (Orchid Pharma Ltd) के शेयर में नवंबर 2020 से अब तक के 4 महीने के भीतर करीब 6500 फीसदी का उछाल दर्ज किया जा चुका है. धनुका लैब (Dhanuka Lab) ने एनसीएलटी रेजॉल्‍यूशन प्‍लान के तहत दिवालिया घोषित ऑर्किड फार्मा को खरीदकर 3 नवंबर 2020 को फिर स्‍टॉक मार्केट में सूचीबद्ध (Listed in Stock Exchange) कराया था.

  • Share this:
नई दिल्‍ली. दिवालिया हो चुकी फार्मा कंपनी ऑर्किड फार्मा लिमिटेड (Orchid Pharma Ltd) के स्टॉक्स में नवंबर 2020 से अब तक के 4 महीनों के भीतर करीब 6500 फीसदी का जबरदस्‍त उछाल दर्ज किया जा चुका है. दिवालिया घोषित होने के बाद ऑर्किड फार्मा को एनसीएलटी (NCLT) के रेजॉल्यूशन प्लान के तहत धनुका लैब (Dhanuka Lab) ने खरीदा था. फिर 3 नवंबर, 2020 को फिर इसे स्टॉक एक्सचेंज (Stock Exchange) में सूचीबद्ध कराया गया था. इसके बाद कभी कंपनी के स्टॉक्स में गिरावट नहीं आई. रीलिस्टिंग के दिन से अब तक कंपनी के स्टॉक्स में हर दिन अपर सर्किट (Upper Circuit) लगा है. आज भी कंपनी के स्टॉक्स में 5 फीसदी उछाल के बाद अपर सर्किट लगा.

रीलिस्टिंग के समय 18 रुपये थी कंपनी के स्‍टॉक की कीमत
ऑर्किड फार्मा की 3 नवंबर, 2020 को जब दोबारा रीलिस्टिंग हुई तो उसके स्टॉक्स की कीमत 18 रुपये थी. आज कंपनी के एक शेयर की कीमत 1186 रुपये हो गई है. बता दें कि मार्च, 2020 में कंपनी का रेवेन्यू 505.45 करोड़ रुपये था और 149.84 करोड़ रुपये का शुद्ध घाटा हुआ था. वहीं, वित्त वर्ष 2020-21 की दिसंबर तिमाही में कंपनी का रेवेन्यू 102.63 करोड़ रुपये रहा और 45.33 करोड़ का घाटा हुआ. इसके बावजूद कंपनी के स्टॉक्स में जबरदस्‍त बढ़ोतरी हुई है. ऑर्किड फार्मा में धनुका लैब की हिस्सेदारी 98.04 फीसदी है. इसके अलावा वित्तीय संस्थानों की हिस्सेदारी 1.19 फीसदी है. वहीं, रिटेल इंवेस्टर्स के पास कंपनी के सिर्फ 0.5 फीसदी शेयर हैं.

ये भी पढ़ें- Fitch Ratings की रिपोर्ट में अनुमान, वित्‍त वर्ष 2021-22 में बढ़ सकता है भारतीय बैंकों पर बैड लोन का दबाव
स्‍टॉक्‍स की कमी के चलते ऑर्किड फार्मा में आया तेज उछाल


फार्मा कंपनी ऑर्किड के स्टॉक्स की इसी शॉर्टेज की वजह से इसकी कीमतों में तेज उछाल आया है. पतंजलि की कंपनी रुचि सोया (Ruchi Soya) और दिवालिया हो चुकी आलोक इंडस्ट्रीज (Alok Industries) के साथ भी यही हुआ था. रुचि सोया जब लिस्ट हुई थी तो फरवरी 2020 में इसकी कीमत 21.55 रुपये थी, जो 26 जून को 1,519.55 रुपये पर पहुंच गई. वहीं, आलोक इंडस्‍ट्रीज के स्टॉक्स की कीमत 27 मार्च 2020 को 4.35 रुपये थी, जो 3 जुलाई को 53 रुपये तक पहुंच गई. अभी रुचि सोया के शेयर की कीमत 731.80 रुपये है, जबकि आलोक इंडस्‍ट्रीज के स्टॉक्स की कीमत 22.20 रुपये पर आ गई है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज