Investment Tips : हेल्थ इंश्योरेंस के जरिए एक लाख रुपए तक कर सकते हैं टैक्स सेविंग, जाने सबकुछ

प्रिवेंटिव हेल्थ चेक-अप पर हुए 5 हजार रुपए तक के खर्च पर डिडक्शन का क्लेम भी मिलता है.

प्रिवेंटिव हेल्थ चेक-अप पर हुए 5 हजार रुपए तक के खर्च पर डिडक्शन का क्लेम भी मिलता है.

आयकर एक्ट (Income Tax Act) के विभिन्न धाराओं के तहत मिलने वाले टैक्स डिडक्शन (Tax Deduction) का लाभ स्वास्थ्य बीमा (Health Insurance) पर भी लिया जा सकता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 25, 2021, 7:31 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. वित्त वर्ष 2020-21 की समाप्ति में अब चंद दिन ही रह गए हैं. ऐसे में एक अप्रैल से पहले उन लोगों के पास अभी भी वक्त है कि वे टैक्स सेविंग (Tax Saving) कर लें. ऐसा ही एक विकल्प हेल्थ इंश्योरेंस (Health Insurance) का है. इसके जरिए टैक्स सेविंग के साथ ही मेडिकल की फैसिलिटी भी मिल जाती है.

आयकर एक्ट (Income Tax Act) के विभिन्न धाराओं के तहत मिलने वाले टैक्स डिडक्शन (Tax Deduction) का लाभ स्वास्थ्य बीमा पर भी लिया जा सकता है. यदि कोई अपने या अपने परिवार के लिए स्वास्थ्य बीमा प्रीमियम (Health Insurance) का भुगतान कर रहा है तो वह एक वित्त वर्ष में 1 लाख रुपए तक का डिडक्शन क्लेम कर सकता है. आईए जानते हैं ऐसा कैसे संभव है...

हेल्थ इंश्योरेंस की प्रीमियम पर डिडक्शन क्लेम कर सकते हैं

हेल्थ इंश्योरेंस प्रीमियम के भुगतान पर आयकर कानून के सेक्‍शन 80D के तहत डिडक्शन क्लेम किया जा सकता है. व्यक्ति या HUF सेक्‍शन 80D के तहत खुद के लिए, पति/पत्नी और निर्भर बच्चों के मेडिकल इंश्योरेंस समेत माता-पिता के हेल्थ इंश्योरेंस के लिए भरे जा रहे प्रीमियम पर डिडक्शन क्लेम कर सकते हैं.
यह भी पढें :  नौकरी की बात: पुरानी कंपनी, बॉस और सहकर्मियों के संपर्क में रहिए, लग सकती है जॉब्स की लॉटरी 

​डिडक्शन क्लेम की अलग-अलग सीमा


60 वर्ष से कम उम्र का व्यक्ति या HUF खुद के लिए, पति/पत्नी और निर्भर बच्चों के हेल्थ इंश्योरेंस के लिए चुकाए गए प्रीमियम पर अधिकतम 25 हजार रुपये तक का टैक्स डिडक्शन क्लेम कर सकता है. सीनियर सिटीजन करदाता के मामले में डिडक्शन की लिमिट 50 हजार रुपये तक की है. अगर करदाता, अपने जीवनसाथी व बच्चों के साथ 60 वर्ष से कम उम्र के माता-पिता के लिए भी मेडिकल इंश्योरेंस प्रीमियम और/या मेडिकल खर्चों का वहन कर रहा है तो उसे 25 हजार रुपये का अतिरिक्त टैक्स डिडक्शन मिलेगा. अगर माता-पिता 60 वर्ष से अधि‍क आयु के हैं तो 50 हजार रुपये का अतिरिक्त डिडक्शन क्लेम किया जा सकेगा.



यह भी पढ़ें :  1.3 लाख करोड़ रुपए का बैड लोन बढ़ेगा, फिर भी उछल रहे बैंकों के शेयर, जानिए वजह

​दोनों ही पॉलिसियों पर 50-50 हजार रुपए तक का मिलेगा डिडक्शन क्लेम

यदि किसी टैक्सपेयर और उसके पेरेटेंस दोनों की आयु 60 वर्ष या उससे अधिक हैं और टैक्सपेयर एक पॉलिसी अपने जीवनसाथी व बच्चों और दूसरी पॉलिसी अपने अभिभावकों के लिए खरीदता है तो दोनों ही पॉलिसीज पर 50-50 हजार रुपए तक का डिडक्शन क्लेम किया जा सकता है. यानी कुल मिलाकर अधिकतम 1 लाख रुपए तक की टैक्स सेविंग की जा सकती है.

यह भी पढें : 31 मार्च तक टैक्स सेविंग के लिए यह विकल्प है सबसे सुरक्षित, मिलेगा गारंटीड रिटर्न 

प्रिवेंटिव हेल्थ चेक-अप पर 5 हजार रुपए तक का डिडक्शन

यह भी प्रावधान है कि रेगुलर हेल्थ इंश्योरेंस के अलावा कोई व्यक्तिगत करदाता आयकर कानून के सेक्शन 80D के तहत प्रिवेंटिव हेल्थ चेक-अप पर हुए खर्च के लिए 5 हजार रुपए तक के डिडक्शन का क्लेम भी कर सकता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज