लाइव टीवी

देश में अब सिंगल यूज प्लास्टिक से बनेगी सड़क! सरकारी कंपनी IOC ने की शुरुआत

News18Hindi
Updated: October 3, 2019, 9:59 AM IST
देश में अब सिंगल यूज प्लास्टिक से बनेगी सड़क! सरकारी कंपनी IOC ने की शुरुआत
देश में अब सिंगल यूज प्लास्टिक से बनेगी सड़क! सरकारी कंपनी IOC ने की शुरुआत

सरकारी कंपनी IOC ( Indian Oil Corporation) ने सिंगल यूज प्लास्टिक के जरिए सड़क बनाई है. IOC ने फरीदाबाद के रिसर्च एंड डेवल्पमेंट सेंटर के बाहर 850 मीटर की सड़क सिंगल यूज प्लास्टिक के जरिए बनाई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 3, 2019, 9:59 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. सड़क निर्माण में सरकार बड़े पैमाने पर प्लास्टिक के कचरे का इस्तेमाल करने वाली है. सरकारी कंपनी IOC ( Indian Oil Corporation) ने सिंगल यूज प्लास्टिक के जरिए सड़क बनाई है. IOC ने फरीदाबाद के रिसर्च एंड डेवल्पमेंट सेंटर के बाहर 850 मीटर की सड़क सिंगल यूज प्लास्टिक के जरिए बनाई है. रिसर्च में सामने आया है कि सिंगल यूज प्लास्टिक से बनी सड़के आमतौर पर बनने वाली सड़कों के मुकाबले सस्ती और ज्यादा बेहतर है. आपको बता दें कि नेशनल हाइवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया (NHAI) ने इस साल अक्टूबर के अंत तक 500 टन प्लास्टिक कचरे से 100 किलोमीटर का हाइवे बनाने का लक्ष्य तय किया है. एनएचएआई कश्मीर में भी प्लास्टिक कचरे से सड़क बनाने का काम कर रहा है. 270 किमी लंबे जम्मू-श्रीनगर नेशनल हाइवे को बनाने में इसका इस्तेमाल किया जाएगा.

एनएचएआई ने एक सर्कुलर में कहा कि प्लास्टिक वेस्ट से बनने वाली सड़क पर देखरेख NHAI खुद करेगी. इसकी साल में दो बार समीक्षा की जाएगी.

ये भी पढ़ें-मोदी सरकार ने छोटे कारोबारियों को दिया तोहफा! सिर्फ SMS से भरें GST रिटर्न



>> एक अनुमान के मुताबिक सात टन प्लास्टिक कचरे से एक किलोमीटर लंबी सड़क बनाई जा सकती है. दिल्ली के धौला कुआं से एयरपोर्ट की तरफ जाने में एक किलोमीटर सर्विस लेन प्लास्टिक कचरे से बनाई गयी है.

>> इसके साथ ही यूपी गेट के पास करीब दो किलोमीटर की दूरी में प्लास्टिक कचरे से सड़क बनाई जाएगी जो मेरठ एक्सप्रेस वे के एक लेन का हिस्सा होगी.

>> यह एक किलोमीटर की सड़क बनाने में 1.6 टन प्लास्टिक का इस्तेमाल किया गया है. इसे रसूल खान की मदद से बनाया जा रहा है. राजुल खान बैंगलुरु में इस मटीरियल से 3 हजार किलोमीटर से ज्यादा लंबी सड़क बना चुके हैं.
Loading...



ये भी पढ़ें-सरकार ने लॉन्च किया गाय के गोबर से बना साबुन, यहां से खरीदें



>> एनएचएआई प्लास्टिक की तरफ से शुरुआती तौर पर कचरे को इकठ्ठा करने के लिए तीन जगहों पर कलेक्शन सेंटर बनाए गए हैं.

>> सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय ने की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि राजमार्ग निर्माण में विशेषकर पांच लाख या उससे अधिक आबादी वाले शहरी क्षेत्रों के 50 किलोमीटर के दायरे में राष्ट्रीय राजमार्ग निर्माण में प्लास्टिक कचरे के उपयोग को बढ़ावा दे रही है.

>> प्लास्टिक कचरे का बड़े पैमाने पर उपयोग करने के लिए एक मिशन ‘स्वच्छता ही सेवा’ शुरू किया है. उसने देशभर में करीब 26,000 लोगों को प्लास्टिक कचरा प्रबंधन के बारे में जागरुक किया है.

>> प्लास्टिक कचरे के संग्रहण में 61,000 घंटे का श्रमदान किया है. इसके तहत देशभर में 18,000 किलोग्राम प्लास्टिक कचरे का संग्रह हुआ है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 2, 2019, 7:41 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...