कोविड-19 के टीकों का IP निलंबन एक विनाशकारी सोच है: WSJ

कोरोना वैक्सीन. (प्रतीकात्मक तस्वीर-  news18 English Reuters)

कोरोना वैक्सीन. (प्रतीकात्मक तस्वीर- news18 English Reuters)

भारत, दक्षिण अफ्रीका और कई अन्य देशों द्वारा लाए गए इस प्रस्ताव का मकसद निम्न और मध्यम आय वाले देशों को आसानी से और उचित कीमत पर वैक्सीन उपलब्ध कराना है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 25, 2021, 2:00 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. अमेरिका के प्रमुख वित्तीय समाचार पत्र वॉल स्ट्रीट जर्नल ने कोविड-19 टीकों के बौद्धिक संपदा अधिकारों को निलंबित करने के प्रस्ताव को विनाशकारी विचार करार दिया है.भारत तथा दक्षिण अफ्रीका ने पिछले साल डब्ल्यूटीओ में यह प्रस्ताव रखा था और इसे कई प्रगतिशील अमेरिकी डेमोक्रेट सांसदों का समर्थन हासिल है.

वॉल स्ट्रीट जर्नल के संपादकीय बोर्ड ने शुक्रवार को इस प्रस्तावित कदम के खिलाफ लिखा, और सीनेटर क्रिस कॉन्स का समर्थन किया, जिन्होंने इस सप्ताह की शुरुआत में कहा था कि बौद्धिक संपदा (आईपी) अधिकारों पर बाहरी और आंतरिक हमले हो रहे हैं.

भारत, दक्षिण अफ्रीका और कई अन्य देशों द्वारा लाए गए इस प्रस्ताव का मकसद निम्न और मध्यम आय वाले देशों को आसानी से और उचित कीमत पर वैक्सीन उपलब्ध कराना है. इस प्रस्ताव को 60 से अधिक शीर्ष अमेरिकी सांसदों का समर्थन हासिल है, जिनमें से ज्यादातर प्रगतिशील हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज