जानिए साल 2019 में कौन से आईपीओ ने किया मालामाल!

जानिए साल 2019 में कौन से आईपीओ ने किया मालामाल!
प्रारम्भिक सार्वजनिक निर्गम (IPO)

साल 2019 में IPO के जरिए कुल 12,362 करोड़ रुपये ही जुटाए गए. 2017 के मुकाबले 2019 का कुल IPO 49 फीसदी कम रहा.

  • Share this:
नई दिल्ली. देश में इस साल यानी 2019 में इनिशियल पब्लिक ऑफर (IPO) के जरिये कंपनियों ने 12,362 करोड़ रुपये जुटाये है. वहीं, इससे पहले साल यानी 2018 में 30,959 करोड़ रुपये आईपीओ के जरिए जुटाए गए थे. यह पिछले साल के मुकाबले 60 प्रतिशत कम रही है. हालांकि, इस दौरान OFS और पात्र संस्थागत नियोजन के जरिये प्राप्त राशि में 28 प्रतिशत वृद्धि दर्ज की गई. प्राइम डेटाबेस के आंकड़ों के अनुसार, 2018 में 24 IPO आये जबकि 2019 में महज 16 IPO आये. प्राइम डेटाबेस समूह के प्रबंध निदेशक प्रणव हल्दिया ने कहा हालांकि आलोच्य अवधि में बिक्री पेशकश (OFS) और पात्र संस्थागत नियोजन के जरिये जुटायी गयी कुल पूंजी 2018 के 63,651 करोड़ रुपये से 28 प्रतिशत बढ़कर 81,174 करोड़ रुपये पर पहुंच गयी. लेकिन 2017 के 1,60,032 करोड़ रुपये के सर्वकालिक उच्च स्तर से 49 प्रतिशत कम है.

ये भी पढ़ें: अगर नहीं भरा GST Return तो फ्रीज हो सकता है आपका बैं​क अकाउंट या जब्त हो जाएगी प्रॉपर्टी

सभी आईपीओ का औसत आकार 773 करोड़ रुपये
वर्ष 2019 में सबसे बड़ा IPO स्टर्लिंग एंड विल्सन सोलर का 2,850 करोड़ रुपये का रहा. वर्ष के दौरान IPO का औसत आकार 773 करोड़ रुपये का रहा. वर्ष के दौरान सिर्फ सात IPO को 10 गुना से अधिक अभिदान मिला. एक IPO को तीन प्रतिशत से अधिक अभिदान मिला. शेष IPO को एक से तीन प्रतिशत का अभिदान प्राप्त हुआ.
IRCTC के IPO को जहां 109 गुणा आवेदन प्राप्त हुये वहीं उज्जीवन समॉल फाइनेंस बैंक के IPO को 100 गुणा तक आवेदन मिले. CSB बैंक को 48 गुणा, एफ्फल को 48 गुणा, पॉलिकैब 36 गुणा, निओजेन केमिकल्स को 29 गुणा और इंडियामार्ट इंटरमेश के आईपीओ को 20 गुणा अभिदान प्राप्त हुआ.





ये भी पढ़ें: इस वजह से सेंसेक्स 335 और निफ्टी 100 अंक उछला! कुछ घंटों में हुआ 1 लाख करोड़ का फायदा

सबसे सफल रहा IRCTC का IPO
वर्ष के दौरान जितने IPO बाजार में आये उनकी शेयर बाजार में सूचीबद्धता की यदि बात की जाये तो 2019 इस लिहाज से अच्छा रहा. इस दौरान 15 आईपीओ सूचीबद्ध होने के बाद इनमें से सात ने निवेशकों को 10 प्रतिशत से अधिक का अच्छा प्रतिफल दिया. यह आकलने इन आईपीओ के सूचीबद्ध होने के पहले दिन के बंद भाव के आधार पर किया गया है. रेलवे मंत्रालय की इकाई आईआरसीटीसी ने तो पहले दिन 128 प्रतिशत तक का प्रतिफल दिया. इसके बाद सीएसबी बैंक का शेयर उसके इश्यू मूल्य से 54 प्रतिशत ऊंचा रहा.

उज्जीवन का शेयर 51 प्रतिशत, इंडिया माय इंटमेश का शेयर मूल्य 34 प्रतिशत और नियोजेन केमिकल्स का शेयर मूल्य सूचीबद्ध होने के पहले दिन उसके इश्यू मूल्य से 23 प्रतिशत ऊंचा रहा.

ये भी पढ़ें: बैंकों के साथ वित्त मंत्री की अहम बैठक कल, इन चीजों पर होगी चर्चा

वर्ष 2019 के दौरान केवल दो IPO ही ऐसे रहे जो कि उनके इश्यू मूल्य से नीचे चल रहे थे जबकि शेष 13 शेयर इश्यू मूल्य से 21 से लेकर 170 प्रतिशत तक ऊंचे भाव पर चल रहे थे. यह आकलन 23 दिसंबर की स्थिति के मुताबिक किया गया है.

एसबीआई लाइफ और एचडीएफसी लाइफ को मिले इतने रुपये
ओएफएस के मामले जहां प्रवर्तकों ने अपनी हिस्सेदारी को बाजार में बेचा. इससे जुटाई गई राशि 2018 में जहां 25,811 करोड़ रुपये थी वहीं 2019 में यह 25,811 करोड़ रुपये पर पहुंच गई. इसमें सरकार की हिस्सेदारी बिक्री से 5,871 करोड़ रुपये जुटाये गये. सबसे ज्यादा 5,358 करोड़ रुपये उसे एक्सिस बैंक में अपनी हिस्सेदारी बेचने से प्राप्त हुये. एसबीआई लाइफ में हिस्सेदारी बेचने से मूल कंपनी को 3,524 करोड़ रुपये और एचडीएफसी लाइफ में हिस्सेदारी बेचने से उसकी मूल कंपनी को 3,366 करोड़ रुपये प्राप्त हुये.

ये भी पढ़ें:  गुम हो गया है पैन कार्ड तो न हों परेशान, आसानी से ऐसे मिलेगी डुप्लीकेट कॉपी
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज