इन दो रूट पर चलेगी देश की पहली 'प्राइवेट ट्रेन', रेलवे ने लिया फैसला

News18Hindi
Updated: August 21, 2019, 9:00 AM IST
इन दो रूट पर चलेगी देश की पहली 'प्राइवेट ट्रेन', रेलवे ने लिया फैसला
इन दो रुट पर चल सकती हैं देश की पहली 'प्राइवेट ट्रेन', रेलवे ने लिया फैसला

दिल्ली और लखनऊ के बीच चलने वाली तेजस एक्सप्रेस (Tejas Express) देश की पहली प्राइवेट ट्रेन (India First Private Train) होगी. कुछ खास ट्रेनों को निजी हाथों में सौंपने की कवायद के तहत रेलवे ने फैसला ले लिया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 21, 2019, 9:00 AM IST
  • Share this:
दिल्ली और लखनऊ के बीच चलने वाली तेजस एक्सप्रेस (Tejas Express) देश की पहली प्राइवेट ट्रेन (India First Private Train) हो सकती है. न्यूज एजेंसी पीटीआई ने सूत्रों के हवाले से बताया कि कुछ खास ट्रेनों को निजी हाथों में सौंपने की कवायद के तहत रेलवे ने फैसला ले लिया है. अहमदाबाद-मुंबई सेंट्रल तेजस एक्सप्रेस और दिल्ली-लखनऊ तेजस एक्सप्रेस को पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर IRCTC को सौंपा जाएगा. साथ ही, इन ट्रेनों का किराया मांग आधारित होगा और इसे आईआरसीटीसी तय करेगा. आपको बता दें कि दिल्ली से तेजस एक्सप्रेस को चलाए जाने का ऐलान साल 2016 में हुआ था.

तीन साल के लिए मिलेगी इन दोनों ट्रेन को चलाने की जिम्मेदारी- पायलट प्रोजेक्ट के रूप में दो ट्रेनों को तीन साल की अवधि के लिए रेलवे की पर्यटन और खानपान शाखा को सौंपने के वास्ते रेलवे बोर्ड द्वारा तैयार किए गए ब्लूप्रिंट के अनुसार इन ट्रेनों में कोई छूट, विशेषाधिकार या ड्यूटी पास की अनुमति नहीं दी जाएगी.

तेजस ट्रेन में मिलती है हवाई जहाज जैसे सुविधाएं (फाइल फोटो)


ये भी पढ़ें-जानिए क्या है भारतीय रेल का 'जनता फ्रिज'

>> रेलवे ने यह भी कहा कि आईआरसीटीसी को सौंपी गई ट्रेनों में टिकट जांच का कार्य रेलवे स्टाफ द्वारा नहीं किया जाएगा.

>> इन दोनों ट्रेनों का एक अलग तरह का नंबर होगा और इन्हें रेलवे स्टाफ-लोको, पायलट, गार्ड और स्टेशन मास्टर द्वारा परिचालित किया जाएगा.

>> सूत्रों ने बताया कि इन दोनों ट्रेनों की सेवाएं शताब्दी एक्सप्रेस ट्रेनों जैसी ही होंगी और इन्हें उसी तरह की प्राथमिकता दी जाएगी. विश्वस्तरीय यात्री सेवा उपलब्ध कराने के लिए निजी परिचालकों को लाने का प्रस्ताव रेलवे द्वारा इसकी 100 दिन की योजना में लाया गया था.
Loading...

>> सूत्रों ने कहा कि दो तेजस ट्रेन आईआरसीटीसी को सौंपना उस दिशा में पहला कदम है.

ये भी पढ़ें-इन दो शहरों के बीच चलेगी डबल डेकर AC ट्रेन, जानें टाइम टेबल

मिलती है हवाई जहाज जैसे सुविधाएं
>> हवाई जहाज की तरह तेजस एक्सप्रेस की हर सीट पर LCD स्क्रीन लगी है. हर सीट पर अटेंडेंट बटन लगा है जिससे दबा कर आप अपनी सहायता के लिए अटेंडेंट को बुला सकते हैं.

तेजस ट्रेन में हर सीट पर अटेंडेंट बटन लगा होता है जिससे दबा कर आप अपनी सहायता के लिए अटेंडेंट को बुला सकते हैं (फाइल फोटो)


>> इस ट्रेन में LED लाइट लगी हुई हैं. सिगरेट स्मोकिंग को डिटेक्ट करने के लिए ऑटो डिटेक्टर लगे हुए हैं. इस ट्रेन में सीसीटीवी कैमरा लगा हुआ है. हर सीट पर चार्जिंग और यूएसबी केवल लगे हुए हैं.

>> ट्रेनों को इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉरपोरेशन (आईआरसीटीसी) को सौंपा जाएगा . वह लीज शुल्क समेत इसके लिए वित्तीय कंपनी आईआरएफसी को भुगतान करेगी.

ये भी पढ़ें-रेल मंत्री पीयूष गोयल ने किए ये 2 बड़े ऐलान

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 21, 2019, 8:41 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...