ट्रेन से होली पर घर जाते वक्त नहीं होगी आपको ID प्रूफ दिखाने की जरूरत, बदल गया ये नियम

होली के त्यौहार से ठीक पहले नौचंदी एक्सप्रेस ट्रेन के अचानक रद्द होने से यात्रियों में गुस्सा है. (प्रतीकात्मक फोटो)
होली के त्यौहार से ठीक पहले नौचंदी एक्सप्रेस ट्रेन के अचानक रद्द होने से यात्रियों में गुस्सा है. (प्रतीकात्मक फोटो)

आपने होली पर घर जाने की तैयारी पूरी कर ली है तो आपको बता दें कि इस बार ट्रेन में सफर करते वक्त आईडी प्रूफ की हार्ड कॉपी साथ ले जाने की जरुरत नहीं है. इसके लिए यात्री डिजिलॉकर से आधार और ड्राइविंग लाइसेंस दिखा सकते हैं. इतना ही सबूत काफी होगा. आइए जानें इससे बारे में...

  • Share this:
नई दिल्ली. होली पर घर जाते वक्त यात्रियों को अब ट्रेन में सफर के दौरान अपनी आईडी प्रूफ की हार्ड कॉपी लेकर चलने की जरुरत नहीं है. भारतीय रेलवे (Indian Railway) यात्रियों को एक खास सुविधा देता है. जी हां. अब यात्री डिजिलॉकर से आधार और ड्राइविंग लाइसेंस दिखा सकते हैं. इतना ही सबूत काफी होगा. भारतीय रेलवे ने यात्रियों की सुविधा के लिए यह कदम उठाया है. इस तरह आगे से अब आप ट्रेन में सफर करते हैं तो आप अपने डिजिलॉकर ऐप में मौजूद इन पहचान संबंधी दस्‍तावेजों को टिकट चेक करने वाले स्‍टाफ को दिखा सकते हैं. भारत सरकार ने डिजिटल इंडिया मुहिम के तहत डिजिलॉकर अकाउंट की सुविधा दी है.

आइए जानें कैसे उठा सकते हैं इसका फायदा...

यात्री अब एम-आधार (M-Aaadhaar) को आई-डी प्रूफ के तौर पर इस्तेमाल कर सकते हैं. इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉरपोरेशन (IRCTC) की ट्वीट के मुताबिक, अब यात्रा के दौरान एम-आधार, ई-आधार, ड्राइविंग लाइसेंस को वैलिड आईडी प्रूफ का काम करेगा. यानी यात्री मोबाइल की मदद से ही अपना वेरिफिकेशन करवा सकते हैं. इसमें आप 1 जीबी तक का क्लाउड स्पेस मुफ्त पाते हैं. इस एप में अपने डॉक्यूमेंट को स्कैन कर रखा जा सकता है. जरूरत पड़ने पर इस डिजिलॉकर का इस्तेमाल किया जा सकता है.



डिजिलॉकर ने ट्वीट करके बताया है कि अब ट्रेन में सफर करते हुए यात्री डिजिलॉकर से आधार और ड्राइविंग लाइसेंस को पहचान के मान्‍य सबूत के तौर पर दिखा सकते हैं. इस ट्वीट पर बाद में भारतीय विशिष्‍ट पहचान प्राधिकरण (यूआईडीएआई) ने रीट्वीट किया.
सबसे पहले आपको अपने फोन में डाउनलोड m-Aadhaar- डाउनलोड करना होगा.  आधार कार्ड होल्डर प्लेस्टोर से m-Aadhaar ऐप अपने मोबाइल फोन में डाउनलोड करें.



इससे पहचान को वेरीफाई करने की और आईडी प्रूफ दिखाने की प्रक्रिया और आसान हो जाती है. इस इंटरफेस के जरिए आधार कार्ड होल्डर अपना पता, नाम, उम्र, फोटो जैसी जानकारी फोन में अपने साथ लेकर चल सकता है.

यह ऐप फिलहाल एंड्रॉयड यूजर्स के लिए उपलब्ध है. आईओएस यूजर को इस एप के लिए थोड़ा इंतजार करना पड़ेगा. एंड्रॉयड यूजर्स इस एप को गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड कर सकते हैं.

आपको बता दें कि  ई-आधार पासवर्ड से सुरक्षित आधार की इलेक्ट्रॉनिक प्रति है. इस पर यूआईडीएआई के डिजिटल हस्ताक्षर होते हैं. आधार अधिनियम के अनुसार, ई-आधार सभी उद्देश्यों के लिए आधार की फिजिकल कॉपी जितना ही मान्य है.

क्‍या होता है डिजिलॉकर- डिजिलॉकर स्कीम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के डिजिटल इंडिया प्रोग्राम का महत्वपूर्ण हिस्सा है. इंटरनेट आधारित इस सेवा के जरिये आप जन्म प्रमाण पत्र, पासपोर्ट, शैक्षणिक प्रमाण पत्र जैसे अहम दस्तावेजों को ऑनलाइन रख सकते हैं. इसके लिए आपके पास आधार कार्ड होना चाहिए. आधार नंबर के इस्तेमाल से आप अपना डिजिटल लॉकर खोल सकते हैं.आप अपने दस्तावेजों को स्कैन कर डिजिलॉकर पर अपलोड कर सकते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज