रेलवे ने 30 जून तक के सभी बुक टिकट किए कैंसिल, ऐसे पाएं अपने पैसे वापस

ट्रैवल के लिए अनफिट यात्रियों की टिकट रिफंड के बारे में रेलवे ने जानकारी दी है.
ट्रैवल के लिए अनफिट यात्रियों की टिकट रिफंड के बारे में रेलवे ने जानकारी दी है.

रेलवे (Indian Railways) ने उन यात्रियों के लिए रिफंड नियमों के बारे में जानकारी दी है, जिन्हें स्पेशल ट्रेनों में यात्रा से पहले स्क्रीनिंग के पहले ट्रैवल के लिए अनफिट पाया जाता है. ऐसी स्थिति में यात्रियों को फुल रिफंड मिल सकेगा.

  • Share this:
नई दिल्ली. स्पेशल ट्रेनों (Special Trains) में टिकट बुक करने के बाद अगर किसी यात्री को रेलवे स्टेशन पर कोविड-19 के किसी लक्षण की वजह से यात्रा करने से रोका जाता है तो भी रेलवे टिकट का पूरा पैसा रिफंड (Train Ticket Refund) करेगा. रेलवे ने बुधवार को इस बारे में जानकारी दी है. रेलने ने बताया कि गृह मंत्रालय (Ministry of Home Affairs) की गाइडलाइंस के अनुसार स्पेशल ट्रेनों में ट्रैवल करने सभी यात्रियों की यात्रा शुरू होने से पहले ही रेलवे स्टेशन पर स्क्रीनिंग की जाएगी. इस स्क्रीनिंग की दौरान अगर कोई यात्री को ट्रैवल के लिए अनफिट पाया जाता है तो उन्हें यात्रा नहीं करने दिया जाएगा और उनके टिकट का पूरा पैसा रिफंड किया जाएगा.

रेलवे ने कहा है कि जिन यात्रियों को कोरोना वायरस से जुड़े लक्षणों के कारण ट्रेनों में यात्रा करने की अनुमति नहीं दी जाएगी, उन्हें उनके टिकट के लिए पूरे पैसे रिफंड किए जाएंगे.

गृह मंत्रालय द्वारा जारी दिशा-निर्देशों के अनुसार सभी यात्रियों को अनिवार्य रूप से जांच की जाएगी और केवल असंक्रमित यात्रियों को ट्रेनों में प्रवेश करने की अनुमति दी जाएगी.



रेल मंत्रालय ने पहले से बुक किए गए टिकटों को रद्द करने और उसके रिफंड को लेकर गाइडलाइन जारी की है. रेलवे ने वह सभी टिकट कैंसिल कर दिए हैं, जो 21 मार्च के बाद बुक कराए गए हैं.
रेलवे द्वारा रद्द की गई ट्रेनों के संबंध मे रेल मंत्रालय के दिशा-निर्देशों में कहा गया है कि काउंटर पर रिफंड, यात्रा की तारीख से छह महीने तक टिकट जमा करने पर लिया जा सकता है.

सवाल: अगर एक PNR पर एक पैसेंजर का टिकट बुक है और स्क्रीनिंग के दौरान उन्हें ट्रैवल के लिए अनफिट पाया जाता है तो क्या फुल रिफंड मिलेगा?
जवाब: रेलवे ने बताया कि ऐसी स्थिति में यात्री को उनके टिकट का फुल रिफंड मिलेगा.

यह भी पढ़ें: इस दिन से स्पेशल ट्रेनों में मिलेगी वेटिंग टिकट, लेकिन ये है रेलवे की शर्त
सवाल: अगर किसी PNR नंबर पर एक से अधिक यात्रियों का टिकट बुक है और उनमें से किसी एक को ट्रैवल के लिए अनफिट पाया जाता है. इस पीएनआर वाले सभी यात्री ट्रैवल करने से मना करते हैं तो क्या होगा?


जवाब: ऐसी स्थिति में अगर सभी यात्री ट्रैवल करने से मना कर देते हैं तो सभी यात्रियों को फुल रिफंड किया जाएगा.

सवाल: अगर किसी एक PNR के एक पैसेंजर को अनफिट पाया जाता है, लेकिन अन्य सभी पैसेंजर्स ट्रैवल करना चाहते हैं तो क्या होगा?

जवाब: ऐसी स्थिति में केवल उसी यात्री का फुल रिफंड किया जाएग, जो ट्रैवल के लिए अनफिट पाया गया है.



अनफिट यात्रियों को जारी होगा ​सर्टिफिकेट
रेलवे ने बताया कि ट्रैवल से पहले अगर किसी यात्री को अनफिट पाया जाता है तो उन्हें TTE सर्टिफिकेट जारी किया जाएगा. इसी TTE सर्टिफिकेट की मदद से आनलाइन TDR (Ticket Deposit Receipt) फाइल कर रिफंड प्राप्त किया जा सकता है. इसके यात्रा की तारीख से 10 दिन के अंदर पूरा करना होगा.

लॉकडाउन से पहले बुक किए गए 94 लाख टिकट रेलवे ने कैंसिल किए और 1490 करोड़ रुपये ग्राहकों को वापस किए हैं.

लॉकडाउन के पहले चरण में 22 मार्च से 14 अप्रैल के बीच योजनाबद्ध तरीके से 830 करोड़ रुपये वापस किए गए.

25 मार्च को लॉकडाउन की शुरुआत से तीन दिन पहले 22 मार्च से ही नियमित यात्री सेवाओं समेत सभी गैर-जरूरी ट्रेनों को निलंबित कर दिया गया था.

(दिपाली नंदा, CNBC आवाज़)

यह भी पढ़ें:  नौकरीपेशा को मिली बड़ी राहत,PF पर फैसले के बाद अब अकाउंट में आएगी ज्यादा सैलरी
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज