17 अक्टूबर से इन रूट्स पर चलेगी प्राइवेट ट्रेन तेजस, 8 अक्टूबर से शुरू होगी बुकिंग, जानिए नए नियमों के बारे में...

तेज एक्सप्रेस ट्रेन टिकट की बुकिंग 8 अक्टूबर से होगी शुरू
तेज एक्सप्रेस ट्रेन टिकट की बुकिंग 8 अक्टूबर से होगी शुरू

IRCTC Tejas Train restart- इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉरपोरेशन (IRCTC) देश में तेजस एक्सप्रेस जैसी प्राइवेट ट्रेन चलाती है. ये ट्रेनें 22 मार्च 2020 से बंद हैं, लेकिन अब ये 17 अक्टूबर 2020 से चलेंगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 7, 2020, 11:37 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. फेस्टिव सीजन यानी दशहरा और दिवाली (Dussehra 2020, Diwali 2020) से पहले देश की पहली प्राइवेट ट्रेन तेजस फिर से पटरी पर दौड़ने लगेगी. IRCTC (Indian Railway Catering and Tourism Corporation) की ओर से ये जानकारी दी गई है. आपको बता दें कि तेजस एक्सप्रेस नाम से दिल्ली-लखनऊ, अहमदाबाद-मुंबई और वाराणसी-इंदौर के बीच प्राइवेट ट्रेनें शुरू की गई थी. लेकिन कोरोना वायरस महामारी के बाद 22 मार्च से इन ट्रेनों का परिचालन बंद है. प्राइवेट ट्रेनों का परिचालन आईआरसीटीसी करती है.

तेज एक्सप्रेस ट्रेन टिकट की बुकिंग 8 अक्टूबर से होगी शुरू-भारतीय रेलवे खानपान एवं पर्यटन निगम (आईआरसीटीसी) इस ट्रेन की सीट की बुकिंग आठ अक्टूबर से चालू करेगा. यात्रियों को ट्रेन में पैक्ड खाना मिलेगा. मंगलवार को आईआरसीटीसी और रेलवे बोर्ड के अधिकारियों के बीच हुई बैठक में इस पर निर्णय हो गया.

इन रूट्स पर चलती हैं प्राइवेट ट्रेन- देश की पहली प्राइवेट ट्रेन तेजस एक्सप्रेस लखनऊ से दिल्ली रूट पर चली. इसके बाद दूसरी प्राइवेट ट्रेन अहमदाबाद-मुंबई रूट पर शुरू हुई. तीसरी प्राइवेट ट्रेन वाराणसी से इंदौर के लिए शुरू हुई.करीब एक साल पहले लखनऊ से नई दिल्ली के लिए कॉरपोरेट सेक्टर की देश की पहली ट्रेन तेजस की शुरुआत हुई थी. आधुनिक सुविधाओं वाली यह ट्रेन यात्रियों में खासी लोकप्रिय हुई. यह देश की पहली ट्रेन है जिसके लेट होने पर यात्रियों को मुआवजा देने का नियम है.

ये भी पढ़ें-ट्रेन में 15 रुपये की पानी वाली बोतल बेचकर IRCTC ने कमाए 3.25 करोड़ रुपये



तेजस एक्सप्रेस अपनी खास यात्री सुविधाओं के लिए जानी जाती है. इस ट्रेन में बेहतरीन खाना, नाश्ता और पेय मुफ्त है. IRCTC तेजस में सफर करने वाले यात्रियों को 25 लाख रुपये तक का फ्री रेल यात्रा मिलता है.

वहीं, विलंब होने पर यात्रियों को मुआवजा दिया जाता है. एक घंटे से अधिक की देरी पर 100 रुपये और दो घंटे से अधिक विलंब होने पर 250 रुपये का मुआवजा मिलता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज