तेजस एक्सप्रेस के लेट होने से IRCTC को लगा लाखों का चूना

Youtube Video

VIP सुविधाओं से लैस तेजस एक्सप्रेस (Tejas Express) की शुरुआत के दौरान ही IRCTC ने कहा था कि अगर ये ट्रेन एक घंटे से ज्यादा देर हुई तो कंपनी की ओर से जुर्माना दिया जाएगा.

  • Share this:
    नई दिल्ली. भारत की पहली प्राइवेट ट्रेन तेजस एक्सप्रेस (Tejas Express) 19 अक्टूबर को पहली बार 3 घंटे से ज्यादा लेट हो गई. दिल्ली-लखनऊ तेजस एक्सप्रेस (Delhi-Lucknow Tejas Express) के लेट होने से इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉरपोरेशन (IRCTC) को लाखों रुपये का चूना लग गया. तेजस ट्रेन के लेट होने पर IRCTC यात्रियों को 1.62 लाख रुपये का मुआवजा देगी. VIP सुविधाओं से लैस इस ट्रेन की शुरुआत के दौरान ही आईआरसीटीसी ने कहा था कि अगर ये ट्रेन एक घंटे से ज्यादा लेट हुई तो कंपनी की ओर से हर्जाना दिया जाएगा.

    भारतीय रेलवे के अधिकारी ने सोमवार को कहा कि इतिहास में पहली बार ट्रेन के लेट होने से यात्रियों को मुआवजा मिलेगा. तेजस एक्सप्रेस के 950 यात्रियों को इंश्योरेंस कंपनियों से मुआवजा मिलेगा.

    3 घंटे से भी ज्यादा की देरी
    तेजस एक्सप्रेस का नई दिल्ली स्टेशन पहुंचने का समय दोपहर 12 बजकर 25 मिनट है. लेकिन ये गाड़ी दोपहर 3 बजकर 40 मिनट पर स्टेशन पहुंची. इसके बाद रात को भी ये ट्रेन लखनऊ 11 बजकर 40 मिनट पर पहुंची. जबकि इसे रात 10:05 पर पहुंचना था.

    ये भी पढ़ें: ट्रेन टिकट बुक कराते वक्त न भूलें 49 पैसे में इस सर्विस को लेना, बुरे वक्त में मिलेगी लाखों की मदद

    950 यात्रियों को मिलेगा मुआवजा
    अधिकारी के मुताबिक लखनऊ से दिल्ली के 450 यात्रियों को 250 रुपये प्रति यात्री मुआवजा मिलेगा. वहीं दिल्ली से लखनऊ के 500 यात्रियों को 100 रुपये प्रति यात्री के हिसाब से मुआवजा मिलेगा.

    क्या है नियम?
    ट्रेन के लेट होने की स्थिति में पैसेंजर्स को पार्शियल रिफंड यानी आंशिक रिफंड किया जाएगा. अगर ट्रेन 1 घंटे से थोड़ी ज्यादा लेट होती है तो यात्रियों को 100 रुपये और दो घंटों से ज्यादा लेट होने पर 250 रुपये का रिफंड दिया जाएगा.

    25 लाख का बीमा
    IRCTC के मुताबिक दिल्ली-लखनऊ तेजस एक्सप्रेस के यात्रियों को मुफ्त में 25 लाख रुपये का रेल यात्रा बीमा मिलेगा. वहीं, यात्रा के दौरान चोरी या डकैती होने पर यात्रियों को 1 लाख रुपये का यात्रा बीमा दिया जाएगा.

    मुआवजा पाने का है ये तरीका
    आईआरसीटीसी ने कहा कि हर्जाना पाने के लिए कोई भी पैसेंजर आईआरसीटीसी की वेबसाइट पर जाकर क्लेम का तरीका जान सकता है और वहां से इस धनराशि का क्लेम ले सकता है. IRCTC ने सभी यात्रियों के मोबाइल नंबर पर एक लिंक भेज दिया है. इस लिंक पर क्लिक कर यात्री क्लेम के लिए दावा कर सकते हैं. दावा मिलने पर इंश्योरेंस कंपनी क्लेम का भुगतान करेगी. बता दें कि तेजस देश की पहली ऐसी प्राइवेट ट्रेन है, जिसका संचालन IRCTC कर रही है.

    यह भी पढ़ें-

    दिवाली और छठ पर घर जाने के लिए इन स्पेशल ट्रेनों में मिलेगा कन्फर्म टिकट!
    जल्द ही प्राइवेट कंपनी बन जाएगी एअर इंडिया, अगले महीने हो सकता है फैसला

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.