क्या यह घर खरीदने का सबसे अच्छा समय है? क्या कहता है सीआईआई-एनारॉक सर्वे

प्रतीकात्मक तस्वीर

प्रतीकात्मक तस्वीर

सीआईआई-एनारॉक सर्वे (CII-ANAROCK Survey) में कहा गया है कि COVID-19 ने घर खरीदने के फैसले को काफी प्रभावित किया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 17, 2021, 5:44 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. क्या यह भारत में घर खरीदने का सबसे अच्छा समय है? डील्स, डिस्काउंट और सस्ते होम लोन की वजह से लगभग 62 फीसदी लोग मानते हैं कि यह रियल एस्टेट मार्केट में प्रवेश करने के लिए एक आदर्श समय है. सीआईआई-एनारॉक सर्वे (CII-ANAROCK Survey) में यह बात सामने आई है.

उपभोक्ताओं, डेवलपर्स, निवेशकों, विक्रेताओं और मालिकों को भारतीय प्रॉपर्टी बाजार में जानकारी देने के लिए एनारॉक प्रॉपर्टी कंसल्टेंट्स (ANAROCK Property Consultants) ने कन्फेडरेशन ऑफ इंडियन इंडस्ट्री (Confederation of Indian Industry) के साथ हाथ मिलाया है. जनवरी 2021 में आयोजित ऑनलाइन सर्वेक्षण में लगभग 3,900 प्रतिभागियों ने भाग लिया. इस सर्वेक्षण से महामारी के बीच होमबायर्स की रिफ्रेंश में का पता चलता है. इससे रियल एस्टेट इंडस्ट्री में रुझान की जानकारी मिलती है.

ये भी पढ़ें- सीमा पर सुधर रहे हालात के बीच अब चीनी कंपनियों के लिए खुलेंगे दरवाजे! FDI प्रस्‍तावों को मंजूरी दे सकता है भारत

महामारी के कारण 59 फीसदी लोगों ने बदले फैसले
सर्वेक्षण में कहा गया है कि COVID-19 ने घर खरीदने के फैसले को काफी प्रभावित किया है. सर्वे में खुलासा हुआ है कि 24 फीसदी लोगों ने पहले ही प्रॉपर्टी बुक कर लिए. सर्वे से पता चलता है कि 59 फीसदी लोगों ने कोरोना महामारी के कारण घर खरीदने के अपने फैसले बदल दिए हैं. सर्वे में शामिल 92 फीसदी का कहना है कि वे कोरोना वायरस के कारण बदलती आर्थिक स्थिति के बावजूद अपनी बुकिंग जारी रखेंगे.

ये भी पढ़ें- गुजरात के इन खूबसूरत लोकेशन पर घूमने का शानदार मौका, 5 हजार से भी कम आएगा खर्च, जानें पैकेज की डिटेल्स...

न्यू नॉर्मल बन गया है वर्क फ्रॉम होम 



महामारी से त्रस्त दुनिया में वैश्विक कंपनियों द्वारा अपनी कामकाजी आदतों को बदलने के साथ ही वर्क फ्रॉम होम एक न्यू नॉर्मल बन गया है. इसलिए लोग अब पहले की तुलना में घर के मालिक बनने में ज्यादा रुचि ले रहे हैं.एनारॉक प्रॉपर्टी कंसल्टेंट्स के चेयरमैन अनुज पुरी ने कहा, ''घर का मालिक बनना मिलेनियल पीढ़ी के लिए सर्वोच्च प्राथमिकता है, जो पहले इससे दूर थे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज