पॉलिसी होल्डर ध्यान दें! कोराेना मरीज को अस्पताल नहीं दे रहा कैशलेस इलाज? यहां करें शिकायत फौरन होगी कार्रवाई

शिकायत दर्ज कराने के 15 दिन के अंदर अगर बीमा कंपनी संताषजनक कदम नहीं उठाती है तो बीमाधारक बीमा कंपनी की शिकायत बीमा नियामक इरडा से कर सकता है.

शिकायत दर्ज कराने के 15 दिन के अंदर अगर बीमा कंपनी संताषजनक कदम नहीं उठाती है तो बीमाधारक बीमा कंपनी की शिकायत बीमा नियामक इरडा से कर सकता है.

कुछ रिपोर्टें हैं कि कई अस्पताल अपनी पॉलिसी के तहत कैशलेस इलाज पाने के हकदार पॉलिसीधारकों को कोविड -19 के इलाज के लिए कैशलेस सुविधा नहीं दे रहे हैं. इस तरह की रोज सैंकड़ों शिकायते आ रही हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 29, 2021, 1:18 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. बढ़ते कोरोना (Corona Cases in India) के बीच इलाज कराना महंगा पड़ रहा है. ऐसे में बीमा विनियामक और विकास प्राधिकरण इरडा (IRDAI) ने बीमा कंपनियों से कोरोना मरीज को कैशलेस इलाज (Cashless Treatment) की सुविधा देने को कहा है. इस बीच कुछ रिपोर्टें हैं कि कई अस्पताल अपनी पॉलिसी के तहत कैशलेस इलाज पाने के हकदार पॉलिसीधारकों को कोविड -19 के इलाज के लिए कैशलेस सुविधा नहीं दे रहे हैं. इस तरह की रोज सैंकड़ों शिकायते आ रही हैं. अगर आपके दोस्त या रिश्तेदार के साथ भी इस तरह का वाका वाक्या हुई है तो आप इसकी शिकायत बीमा कंपनी और बीमा लोकपाल अधिकारी के पास आसानी से करा सकते हैं. आइए जानते हैं क्या करना होगा-

यहां दर्ज करें शिकायत

अगर आप शिकायत कर रहे हैं तो आपको इरडा शिकायत पंजीकरण फॉर्म इरडा की वेबसाइट (http://www.policyholder.gov.in/Report.aspx#) से डाउनलोड करनी होगी. इस फॉर्म में शिकायत का ब्योरा भरकर इरडा की वेबसाइट के जरिये ऑनलाइन या ऑफलाइन शिकायर्ज कर कराई जा सकती है.

ये भी पढ़ें- मोटी कमाई के लिए रहें तैयार! आज खुलेगा इस सरकारी कंपनी का IPO, शेयर का भाव 99-100 रु, जानें सबकुछ
इस तरह से दर्ज करा सकते हैं शिकायत

-- इरडा के कंज्यूमर रिड्रैसल डिपार्टमेंट के टोल फ्री नंबर 155255 या 1800 4254 732 पर कॉल कर शिकायत दर्ज करा सकते हैं.

-- जरूरी दस्तावेजों के साथ Complaints@irdai.gov.in पर मेल कर शिकायत कर सकते हैं.



-- इरडा के पोर्टल से भी शिकायत दर्ज की जा सकती है.इसके लिए अपनी शिकायत को igms.irda.gov.in पर दर्ज कर मॉनिटर कर सकते हैं.

-- इरडा को शिकायत लिखकर भी भेज सकते हैं. इसके लिए शिकायत रजस्ट्रेशन फॉर्म को डाउनलोड कर प्रिंट निकाल लें. इसके बाद इस फॉर्म के साथ जरूरी दस्तावेज लगाकर हैदाबार के पते पर पोस्ट या कोरियर कर सकते हैं.

रेफरेंस नंबर जरूर साथ रखें

इरडा या बीमा कंपनी के पास शिकायत दर्ज करने बाद लिखित पावती या रेफरेंस नंबर लेना जरूरी है. इसकी जरूरत आपको आगे पड़ेगी. इसी के जरिये आप अपनी शिकायत पर हो रही कार्रवाई का पता लगा पाएंगे.

ये भी पढ़ें- बच्चों के नाम से यहां जमा करें 5000 रुपये, एडल्ट होते ही मिलेंगे 30 लाख, जानिए कैसे?

अस्पताल पर होगी कार्रवाई

बीमाधारक की जिस बीमा कंपनी के पास शिकायत दर्ज करानी है उसके संबंधित शिकायत निवारण सेल से संपर्क करना होगा. यहां बीमधारक को अपनी शिकायत दर्ज करानी होगी. शिकायत दर्ज कराने के 15 दिन के अंदर अगर बीमा कंपनी संताषजनक कदम नहीं उठाती है तो बीमाधारक बीमा कंपनी की शिकायत बीमा नियामक इरडा से कर सकता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज