होम /न्यूज /व्यवसाय /नए लिस्ट हुए IPO stocks में आपका भी पैसा फंस गया है ? एक्सपर्ट से समझिए अब क्या करें ?

नए लिस्ट हुए IPO stocks में आपका भी पैसा फंस गया है ? एक्सपर्ट से समझिए अब क्या करें ?

 2021 में लिस्ट हुए 63 कंपनियों के शेयरों में 34 से 54 फीसदी तक की गिरावट देखने को मिली है और ये हालिया गिरावट में अपने इश्यू प्राइस से भी नीचे चले गए हैं.

2021 में लिस्ट हुए 63 कंपनियों के शेयरों में 34 से 54 फीसदी तक की गिरावट देखने को मिली है और ये हालिया गिरावट में अपने इश्यू प्राइस से भी नीचे चले गए हैं.

एक्सपर्ट के मुताबिक, हाल ही में लिस्टेड तमाम आईपीओ को भारी मार पड़ी है. इसकी कई वजह रही है. इसकी पहली वजह यह है कि बढ़त ...अधिक पढ़ें

मुंबई . Share Market में साल 2021 में रिकॉर्ड संख्या में आईपीओ आए. इन आईपीओ से निवेशकों ने पैसा भी बहुत बनाया. लेकिन धीरे -धीरे कुछ महीने बाद इनमें से ज्यादातर नए लिस्टेड आईपीओ अब निवेशकों के लिए सर दर्द बन गए हैं. इनमें से बहुत सारे अपने इश्यू प्राइस से बी नीचे चले गए हैं. जिसके चलते निवेशकों के अरबों डॉलर डूब गए हैं.

हालांकि जब ये आईपीओ आए थे तब भी तमाम मार्केट एक्सपर्ट्स इनके महंगे वैल्यूएशन को लेकर चितिंत दिखाई दे रहे थे. इसके बावजूद इनमें से कई की तो बंपर लिस्टिंग हुई. इसके बावजूद तमाम एक्सपर्ट निवेशकों को लगातार सतर्क कर रहे थे.

वैल्यूएशन बड़ा मुद्दा

JST Investments के आदित्य कोंडवार (Aditya Kondawar)का कहना है कि हाल ही में लिस्टेड तमाम आईपीओ को भारी मार पड़ी है. इसकी कई वजह रही है. इसकी पहली वजह यह है कि बढ़ती महंगाई की वजह से तमाम केंद्रीय बैंक अब ब्याज दरों में बढ़ोतरी के लिए तैयार नजर आ रहे हैं. इसके अलावा रूस-यूक्रेन संकट ने कोढ़ में खाज का काम किया है. इसके साथ ही हाल में लिस्ट हुए आईपीओ का वैल्यूएशन निवेश के नजरिए से काफी महंगा नजर आ रहा था.

यह भी पढ़ें- वोलेटाइल बाजार में म्यूचुअल फंडों के टॉप 10 पसंदीदा शेयर, क्या आपके पास भी हैं ये स्टॉक्स ?

जानकारों का कहना हैकि यूएस फेड की तरफ से ब्याज दरों में बढ़ोतरी और रूस-यूक्रेन युद्ध के चलते उत्पन्न संकट के कारण उभरते बाजारों में डॉलर का प्रवाह थम गया है. भारतीय आईपीओ के वैल्यूएशन में आई गिरावट इस बात का साफ संकेत है कि बाजार में डॉलर के भारी प्रवाह की वजह से आए फुलाव की हवा निकल चुकी है.

मंहगा वैल्यूएशन

गौरतलब है कि 2021 में लिस्ट हुए 63 कंपनियों के शेयरों में 34 से 54 फीसदी तक की गिरावट देखने को मिली है और ये हालिया गिरावट में अपने इश्यू प्राइस से भी नीचे चले गए हैं. नेगेटिव टेरिटेरी में नजर आने वाले तमाम आईपीओ स्टॉक आईटी पर आधारित नए युग के कारोबार वाले स्टॉक थे. आईपीओ के समय इनका वैल्यूएशन काफी महंगा था. उसके अलावा jewellery, retail, dairy, diagnostics, cement, health insurance और real estate से जुड़े आईपीओ में भी काफी गिरावट देखने को मिली है. इनमें से इसमें तमाम कंपनियां अपने इश्यू प्राइस से नीचे चल रही हैं.

यह भी पढ़ें- क्या खराब CIBIL की वजह से आपका भी नहीं हो पा रहा है लोन, जानिए कैसे सुधारें सिबिल स्कोर?

सस्ता समझ कर खरीदारी करने से बचें

HDFC Securities के दीपक जसानी का कहना है कि इन्वेस्टरों को इस समय बहुत ज्यादा उत्साह में आकर सिर्फ इस आधार पर इन शेयरों में नई खरीद नहीं करनी चाहिए कि वे इस समय अपने हाल के हाई से बहुत नीचे मिल रहे हैं. हालांकि इनमें बाउंसबैक की संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता है लेकिन हम यह भी नहीं कह सकते कि इसमें से कितने शेयर लॉक इन पीरियड के समाप्ति पर बिक्री के लिए उपलब्ध होंगे.

रुक-रुक कर किस्तों में पैसे लगानें चाहिए 

अगर निवेशकों को किसी कंपनी का कारोबारी मॉडल अच्छा लगता है और उनको उम्मीद है कि जल्द ही यह कंपनी प्रॉफिट में आ सकती है तभी उनको इन शेयरों में अच्छे रिसर्च के बाद रुक-रुक कर किस्तों में पैसे लगानें चाहिए और साथ ही उनको इन शेयरों से संबंधित आने वाली खबरों पर करीबी से नजर रखनी चाहिए.

Tags: Paytm, Share market, Stock Markets, Stock tips, Stocks, Zomato

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें