• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • IT IS CLAIMED IN VIRAL MESSAGE THAT INDIAN RAILWAYS SALE VIA GOVERNMENT TO PRIVATE COMPANY NDSS

Indian Railways: क्या अब प्राइवेट हो गई भारतीय रेलवे? जानें पूरी सच्चाई

क्या अब प्राइवेट हो गई भारतीय रेलवे?

क्या भारतीय रेलवे (Indian Railways) पर सरकार ने प्राइवेट कंपनी का ठप्पा लगा दिया है...? क्या सच में भारतीय रेलवे अब प्राइवेट हाथों में चली गई है. बता दें इन दिनों सोशल मीडिया पर एक वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है.

  • Share this:
    नई दिल्ली: क्या भारतीय रेलवे (Indian Railways) पर सरकार ने प्राइवेट कंपनी का ठप्पा लगा दिया है...? क्या सच में भारतीय रेलवे अब प्राइवेट हाथों में चली गई है. बता दें इन दिनों सोशल मीडिया पर एक वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है. इस वीडियो में इसमें दिखाया जा रहा है रेलवे विभाग ने ट्रेन पर प्राइवेट कंपनी का ठप्पा लगा दिया है. जब PIB Fact Check ने इस वीडियो को देखा तो इसकी सच्चाई के बारे में पता लगाया है. आइए आपको बताते हैं क्या है सच-

    दरअसल, ये एक वीडियो है जिसमें ट्रेन के इंजन को फोकस करके दिखाया गया है. जिस पर अडानी विलमार लिखा है. बस इसी को आधार बनाकर ये मैसेज तैयार किया गया है.

    यह भी पढ़ें: SBI ने करोड़ों ग्राहकों किया सावधान, अगर किसी को दी ये जानकारी तो होगा लाखों का नुकसान!

    वीडियो में क्या दावा किया जा रहा है?
    दावा: फेसबुक पर एक वीडियो के साथ यह दावा किया जा रहा है कि सरकार ने भारतीय रेल पर एक निजी कंपनी का ठप्पा लगवा दिया है.


    PIB ने ट्वीट कर दी जानकारी
    पीआईबी ने ट्विटर पर लिखा कि फेसबुक पर वायरल हो रहा ये वीडियो पूरी तरह से भ्रामक है. यह केवल एक वाणिज्यिक विज्ञापन है जिसका उद्देश्य केवल 'गैर किराया राजस्व' को बेहतर बनाना है.

    कोरोना काल में बढ़ रहीं फेक खबरें
    कोरोना काल में देशभर में जिस तरह का हालात बने हुए हैं ऐसे में कई फेक खबरें तेजी से वायरल हो रही हैं. भारत सरकार की प्रेस इंफॉर्मेशन ब्यूरो ने वायरल खबर का खंडन करते हुए कहा है कि सरकार ने ऐसा कोई फैसला नहीं लिया है. सरकार ने भी कोरोना काल में इस तरह की फर्जी ख़बरों को फैलने से रोकने के लिए कई प्रयास किए हैं.

    यह भी पढ़ें: अगर अभी तक नहीं लिया PM Awas योजना का बेनिफिट, तो अब होगा लाखों का फायदा

    आपको भी मिले कोई मैसेज तो करवा सकते हैं फैक्ट चेक
    अगर आपको भी कोई ऐसा मैसेज मिलता है तो फिर उसको पीआईबी के पास फैक्ट चेक के लिए https://factcheck.pib.gov.in/ अथवा वॉट्सऐप नंबर +918799711259 या ईमेलः pibfactcheck@gmail.com पर भेज सकते हैं. यह जानकारी पीआईबी की वेबसाइट https://pib.gov.in पर भी उपलब्ध है.
    Published by:Shivani sharma
    First published: