Covid-19 Impact: भविष्य में Work From Home बनेगा ट्रेंड, इस सेक्टर में काम करने वालों को मिल सकता है फायदा

वर्क फ्रॉम होम

वर्क फ्रॉम होम

इस महामारी को देखते हुए भारत सरकार ने 3 मई तक देश में लॉकडाउन घोषित कर दिया गया है. इससे ज्यादातर कंपनियों के कर्मचारी घर से काम कर रहे हैं. जाहिर है कि ऐसे में बहुत से लोगों की दिनचर्या में बदलाव आया है. रोज के कामकाज में काफी बदलाव देखा जा रहा है. कर्मचारियों की जो मैराथन मीटिंग्स होती थीं, अब वो वीडियो कॉल में बदल गई हैं.

  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना वायरस के चलते पूरी दुनिया में हाहाकार मचा हुआ है. इस महामारी को देखते हुए भारत सरकार ने 3 मई तक देश में लॉकडाउन घोषित कर दिया गया है. इससे ज्यादातर कंपनियों के कर्मचारी घर से काम कर रहे हैं. जाहिर है कि ऐसे में बहुत से लोगों की दिनचर्या में बदलाव आया है. रोज के कामकाज में काफी बदलाव देखा जा रहा है. कर्मचारियों की जो मैराथन मीटिंग्स होती थीं, अब वो वीडियो कॉल में बदल गई हैं.

कोरोना वायरस के चलते बड़ी कंपनियों में कामकाज में आए बदलाव को देखते हुए मनीकंट्रोल ने इन्फोसिस (Infosys) के को-फाउंडर (co-founder) और Axilor Ventures के चेयरमैन (chairman) गोपालकृष्णन (Gopalakrishnan) से खास बातचीत की है.

ये भी पढ़ें: कोरोना वायरस से जूझ रहे देशों को IMF देगा 1000 अरब डॉलर, ये देश हैं शामिल



अब हमें लोगों से बात करने के लिए मिल पा रहा काफी समय 
गोपालकृष्णन से जब पूछा गया कि कोरोना वायरस के पहले और बाद की स्थिति को आप किस तरह से देखते हैं, इस सवाल के जवाब में उन्होंने बताया कि सभी मीटिंग्स टेली कॉन्फ्रेंसिंग (Tele-conferencing) या वीडियो कॉन्फ्रेसिंग (Video-conferencing) के जरिए होती है. अब आपके पास अधिक वक्त है. आप अधिक प्रोडक्टिव हैं. मेरे मानना है कि कोरोना वायरस के बाद काम काज करने में काफी बदलाव देखने को मिल रहा है. अब हमें लोगों से बात करने के लिए काफी समय मिल रहा है. हालांकि आमने-सामने न सही, वर्चुअली तौर पर हम लोगों से अधिक बातचीत कर पा रहे हैं. ज्यादातर समय में आप यगर पर ही होते हैं, तौ आपके पास टाइम भी काफी होता है. कोरोना वायरस के चलते लोग घर से भी काम कर रहे हैं.

कोरोना वायरस के चलते स्टार्टअप कंपनियों के जवाब में उन्होंने कहा कि स्टार्टअप(start-up) कंपनियां इस स्थिति से निपटने के लिए एक साथ आ गई हैं. स्टार्टअप के कामकाज में काफी बदलाव आया है. वीडियो (video) और कंटेट (content) वाले स्टार्टअप के कारोबार में काफी ग्रोथ देखने को मिली है. हालांकि हॉस्पिटैलिटी वाले स्टार्टअप को काफी नुकसान झेलना पड़ा है.

ये भी पढ़ें: पॉलिसीहोल्डर्स को राहत! हेल्थ-ऑटो इंश्योरेंस रिन्यू कराने के लिए मिली मोहलत

IT Sector में work-from-home का प्रचलन बढ़ने की उम्मीद
कोरोना वायसर की वजह से जिस तरह से घर से काम (work-from-home) का चलन बढ़ा है, इस पर गोपालकृष्णन ने कहा कि भविष्य में खासतौर से IT Sector में work-from-home का प्रचलन बढ़ने की उम्मीद है. यानी आईटी सेक्टर की कंपनियां अपने कर्मचारियों के लिए वर्क फ्रॉम होम पर फोकस बढ़ा सकती है. हो सकता है कि आने वाले समय में आई सेक्टर में 20 फीसदी स्टाफ को वर्क फ्रॉम होम किया जा सकता है.

ऐसा भी अनुमान जातया जा रहा है कि स्टार्टअप कंपनियां रेस्टोरेंट जैसी जगहों का मीटिंग्स के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं. इस तरह के ट्रेंड से स्टार्टअप कंपनियों को लगात कम करने में मदद मिल सकती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज