ITR Filing last Date: आज आईटीआर फाइल करने का अंतिम मौका, इन बातों का जरूर ध्यान रखें

वित्त वर्ष 2019-20 का आईटीआर फाइल करने के लिए यह आखिरी मौका है. इसके बाद आपको भारी जुर्माना भरना पड़ सकता है.

वित्त वर्ष 2019-20 का आईटीआर फाइल करने के लिए यह आखिरी मौका है. इसके बाद आपको भारी जुर्माना भरना पड़ सकता है.

वित्त वर्ष (Financial Year) 2019-20 या एसेसमेंट इयर (Assessment year) 2020-21 का इनकम टैक्स रिटर्न (Income Tax Returns, ITR) अभी तक नहीं फाइल किया है तो इसे आज 31 मार्च को जमा कर दें.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 31, 2021, 5:29 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. यदि आपने वित्त वर्ष (Financial Year)2019-20 या एसेसमेंट इयर (Assessment Year) 2020-21 का इनकम टैक्स रिटर्न (Income Tax Returns, ITR) अभी तक नहीं फाइल किया है तो इसे 31 मार्च यानी को ही फाइल कर लें. आज भी इसे लेट फाइन के साथ ही फाइल करना होगा. फिर भी आप भारी जुर्माने से बच सकते हैं.

वित्त वर्ष 2019-20 का आईटीआर फाइल करने के लिए यह आखिरी मौका है. इसके बाद आपको भारी जुर्माना भरना पड़ सकता है. यही नहीं, विशेषज्ञों के मुताबिक इनकम टैक्स विभाग आपको नोटिस कर सवाल-जवाब भी कर सकता है. लिहाजा, आज टाइम निकालकर ऑनलाइन आईटीआर फाइल करने का विकल्प आ आजमा सकते हैं. यदि आप आईटीआर फाइल कर रहे हैं ताे बदलावों पर जरूर ध्यान दें. इस बार आईटीआर फॉर्म्स में कुछ बड़े बदलाव हुए हैं जैसे कि रिपोर्टिंग रिक्वायरमेंट्स, टैक्स डिडक्शंस आदि.

यह भी पढें : कपड़े के लिए मोहताज हुए पाकिस्तानी, भारत से इस प्रतिबंध को हटाने की लगाई गुहार

Youtube Video

आधार नंबर को पैन नंबर माना जा सकता है

2019 के बजट में पैन और आधार को लगभग एक समान (इंटरचेंजिबिलिटी) मान लिया गया. इसका मतलब यह हुआ कि जिन लोगों के पास पैन कार्ड नहीं है, वे आधार नंबर को भी आईटीआर में भर सकते हैं, जहां भी पैन नंबर भरना है. जैसे कि किसी अचल संपत्ति के खरीदार, हाउस प्रापर्टी से होने वाली आय जैसे मामलों में आधार नंबर को भी स्वीकार कर लिया गया है. इसके अलावा आईटीआर फाइलिंग में एक और अहम बदलाव आया है कि अब उनके लिए भी फाइलिंग अनिवार्य कर दिया गया है, जिनकी ग्रास टोटल इनकम बेसिक एग्जेंप्शन लिमिट से कम है.

यह भी पढें : पत्नी, बेटी, बहन और मां के नाम पर घर खरीदेंगे तो मिलेंगे यह तीन फायदे, जाने सबकुछ



31 जुलाई 2020 तक के निवेश को दिखाकर छूट पा सकते हैं

वित्तीय वर्ष 2019-20 केंद्र सरकार ने टैक्स सेविंग इंवेस्टमेंट्स के लिए 31 जुलाई 2020 तक का समय दिया था. आईटीआर में एक शेड्यूल डीआई के तहत इन सभी निवेश और क्लेम डिडक्शन की डिटेल्स देनी है. इसी प्रकार आईटीआर में सेक्शन 54 से सेक्शन 54बी के तहत 30 सितंबर तक निवेश पर कैपिटल गेन्स एग्जेंप्शंस की जानकारी देनी है. वहीं, एक या एक से अधिक चालू खाते में कुल 1 करोड़ या उससे भी अधिक राशि वित्तीय वर्ष 2019-20 में जमा कराया है तो आपको इनकम टैक्स रिटर्न भरना जरूरी है. इसके अलावा, किसी विदेशी यात्रा पर खुद या किसी और शख्स के लिए 2 लाख से अधिक खर्च करने व बिजली की खपत पर 1 लाख रुपए से अधिक खर्च करने पर भी आपको आय का हिसाब देना होगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज