सरकार ने टैक्सपेयर्स को दी बड़ी राहत! वित्त वर्ष 2018-19 के लिए ITR फाइल करने की तारीख 31 जुलाई तक बढ़ाई

असेसमेंट ईयर 2019-20 के लिए ITR 31 जुलाई तक भरें
असेसमेंट ईयर 2019-20 के लिए ITR 31 जुलाई तक भरें

कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus Pandemic) के चलते केंद्र सरकार ने पहले ही वित्त वर्ष 2019-20 (असेसमेंट ईयर 2020-21) के लिए इनकम टैक्स रिटर्न की अंतिम तारीख को भी बढ़ाकर 30 नवंबर, 2020 कर दिया गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: June 24, 2020, 10:18 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. केंद्र सरकार टैक्सपेयर्स को बड़ी राहत देते हुए वित्त वर्ष 2018-19 के लिए इनकम टैक्स रिटर्न (ITR) फाइल करने की डेडलाइन को बढ़ाकर 31 जुलाई, 2020 कर दी है. इसके साथ ही सरकार ने पैन कार्ड (PAN Card) को आधार कार्ड (Aadhaar Card) से लिंक करने की अंतिम तारीख को बढ़ाकर 31 मार्च 2021 कर दी है. बता दें कि कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus Pandemic) के चलते केंद्र सरकार ने पहले ही वित्त वर्ष 2019-20 (असेसमेंट ईयर 2020-21) के लिए इनकम टैक्स रिटर्न की अंतिम तारीख को भी बढ़ाकर 30 नवंबर, 2020 कर दिया गया है.

केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (CBDT) ने एक अधिसूचना के माध्यम से 2019-20 वित्तीय वर्ष के लिए IT अधिनियम के तहत कटौती का दावा करने के लिए विभिन्न निवेश करने की समय सीमा को 31 जुलाई, 2020 तक एक महीने तक बढ़ा दिया. सीबीडीटी ने हाल ही में असेसमेंट ईयर 2020-21 के लिए इनकम टैक्स रिटर्न फॉर्म 1 से फॉर्म 7 को नोटिफाइड किया था.

सेल्फ असेसमेंट टैक्स पेमेंट की तारीख में कोई विस्तार नहीं
हालांकि, टैक्सपेयर्स के लिए सेल्फ असेसमेंट के भुगतान की तारीख का कोई विस्तार नहीं होगा, जिसमें सेल्फ असेसमेंट टैक्स लायबिलिटी 1 लाख रुपए से अधिक है. इस स्थिति में, आयकर अधिनियम, 1961 (आईटी अधिनियम) में निर्दिष्ट नियत तारीखों तक पूरा सेल्फ असेसमेंट टैक्स देय होगा और विलंबित भुगतान आईटी अधिनियम की धारा 234 ए के तहत ब्याज भी देना होगा.
यह भी पढ़ें- आयकर विभाग ने PAN और Aadhar को लिंक करने की समयसीमा बढ़ाई, जानें कब तक है छूट





आईटी अधिनियम के Chapter-VIA-B के तहत कटौती का दावा करने के लिए विभिन्न निवेश / भुगतान करने की तारीख जिसमें धारा 80C (LIC, PPF, NSC आदि), 80D (मेडिक्लेम), 80G (Donation) आदि को भी आगे बढ़ाकर 31 जुलाई, 2020 कर दिया गया है. इसलिए वित्त वर्ष 2019-20 के लिए इन सेक्शन के तहत कटौती का दावा करने के लिए 31 जुलाई, 2020 तक निवेश / भुगतान किया जा सकता है.

2019-20 के लिए इनकम टैक्स रिटर्न की आखिरी तारीख 31 जुलाई 2020 से बढ़ाकर 30 नवंबर 2020 कर दी गई. टैक्स ऑडिट की तारीख 31 अक्टूबर 2020 कर दी गई है.

किनके लिए जरूरी है इनकम टैक्स रिटर्न भरना?
अगर आप नौकरी या कारोबार से कमाई कर रहे हैं और एक वित्त वर्ष में कुल आय 2.5 लाख रुपये या उससे अधिक है, तो आपको उस साल आयकर रिटर्न (ITR) भरना जरूरी है. अगर आप तय समय तक आईटीआर फाइल नहीं करते और तो आपको 10,000 रुपये तक का जुर्माना देना पड़ सकता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज