Warren Buffet नहीं, जमशेदजी टाटा हैं दुनिया के सबसे बड़े दानवीर, Tata Group के संस्‍थापक ने दान किए 102 अरब डॉलर

Tata Group के संस्‍थापक जमशेदजी टाटा दुनिया के सबसे बड1े दानवीर हैं.

हुरुन रिसर्च (Hurun Research) और एडेलगिव फाउंडेशन (EdelGive Foundation) की दान करने वाले टॉप-50 लोगों की सूची में टाटा ग्रुप के फाउंडर जमशेदजी टाटा (Jamsetji Tata) का नाम पहले पायदान पर है. दिग्‍गज निवेशक वॉरेन बफे (Warren Buffet) ने अब तक 37 अरब डॉलर दान किए हैं.

  • Share this:
    नई दिल्‍ली. दुनिया के बड़े निवेशकों में शुमार खरबपति वॉरेन बफे (Warren Buffet) ने आज गेट्स फाउंडेशन को 30 हजार करोड़ रुपये का भारी भरकम दान किया. इसके बाद एक बार फिर ये बहस छिड़ गई है कि दुनिया का सबसे बड़ा दानवीर (World's Biggest Donor) कौन है. हम बता दें कि इस सूची में पहले पायदान पर टाटा समूह (Tata Group) के संस्‍थापक जमशेदजी टाटा (Jamsetji Tata) का नाम है. जमशेदजी टाटा पिछले 100 साल में 102 अरब डॉलर का दान देकर दुनिया के सबसे बड़े परोपकारी के तौर पर उभरे हैं. हुरुन रिसर्च (Hurun Research) पोर्ट और एडेलगिव फाउंडेशन (EdelGive Foundation) की ओर से तैयार की गई दान करने वाले टॉप-50 लोगों की सूची में जमशेदजी टाटा सबसे ऊपर हैं.

    जमशेदजी टाटा ने 1892 से ही शुरू कर दिया था दान
    दुनिया के शीर्ष दानवीरों की सूची में दिखाया गया है कि टाटा ऐसे समूह के संस्‍थापक हैं, जो नमक से लेकर सॉफ्टवेयर तक बनाता है. वह 74.6 अरब डॉलर दान करने वाले बिल गेट्स और उनकी अलग हो चुकीं पत्नी मेलिंडा जैसे कई दानवीरों से आगे हैं. गेट्स दंपति के अलावा वॉरेन बफेट ने अब तक 37.4 अरब डॉलर, जॉर्ज सोरोस ने 34.8 अरब डॉलर और जॉन डी रॉकफेलर ने 26.8 अरब डॉलर का दान दिया है. हुरुन के अध्यक्ष और मुख्य शोधकर्ता रूपर्ट हुगवेरफ ने कहा कि भारत के टाटा समूह के संस्थापक जमशेदजी टाटा दुनिया के सबसे बड़े परोपकारी हैं. उन्होंने कहा कि जमशेदजी ने अपनी दो तिहाई संपत्ति ट्रस्‍ट को दे दी, जो शिक्षा और स्‍वास्‍थ्‍य समेत कई क्षेत्रों में काम कर रहा है. जमशेदजी टाटा ने 1892 से ही दान देना शुरू कर दिया था.


    ये भी पढ़ें- अगर आपके पास है 2 रुपये का ये खास नोट तो घर बैठे कमा सकते हैं लाखों, चेक करें डिटेल्‍स

    सूची में शामिल हैं दूसरे भारतीय अजीम प्रेमजी
    हुरुन रिपोर्ट और एडेलगिव फाउंडेशन की इस सूची में दूसरे भारतीय विप्रो (Wipro) के अजीम प्रेमजी (Azim Premji) हैं. उन्होंने परोपकारी कामों के लिए लगभग 22 अरब डॉलर की अपनी पूरी संपत्ति दान दी है. हुगवेरफ ने कहा कि अल्फ्रेड नोबेल जैसे कुछ नाम हैं, जो पिछली सदी के शीर्ष-50 दानदाताओं की सूची में भी नहीं हैं. सूची में 39 लोग अमेरिका से हैं. इसके बाद ब्रिटेन (UK) से 5 और चीन (China) से 3 लोग शामिल हैं. इसमें कुल 37 दानदाताओं का निधन हो चुका है. वहीं, सूची में से केवल 13 लोग ही जिंदा हैं. हुगवेरफ ने ये भी कहा कि आज के अरबपति जितना दान करते हैं, उससे कहीं ज्यादा तेजी से कमाई कर रहे हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.