जनधन खातों में कुल डिपॉजिट कोरोना काल से पहले के स्तर पर, अब तक खुल चुके हैं 40.21 करोड़ अकांउट्स

जनधन खातों में कुल डिपॉजिट कोरोना काल से पहले के स्तर पर, अब तक खुल चुके हैं 40.21 करोड़ अकांउट्स
जनधन अकाउंट्स में कुल 1.29 लाख करोड़ रुपये डिपॉजिट

देशभर में अब तक 40.21 करोड़ जनधन अकांउट खोले जा चुके हैं. हाल के कुछ महीनों में इन अकाउंट्स में कुल डिपॉजिट बढ़ा है. 5 अगस्त तक इन अकाउंट्स में कुल 1.29 लाख करोड़ रुपये जमा थे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 15, 2020, 10:20 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. जनधन अकाउंट्स (Jan Dhan Accounts) में डिपॉजिट्स कोरोना काल के पहले के स्तर पर पहुंच गया है. बीते कुछ सप्ताह में इसमें इजाफा हुआ है. इसके बाद से अब इस बात पर​ फिर से जोर पड़ रहा कि कोविड-19 संकट के प्रभाव से भारतीय अर्थव्यवस्था (Indian Economy) उभर रही है. खासकर ग्रामीण भारत में इसका असर कम हो रहा है. 5 अगस्त तक के प्राप्त डेटा से पता चलता है कि कुल 40.21 करोड़ जनधन अकाउंट्स में कुल 1.29 लाख करोड़ रुपये जमा हैं. 25 मार्च तक यह आंकड़ा 1.18 लाख करोड़ रुपये था. इसी दौरान देशभर में लॉकडाउन का ऐलान किया गया था.

हालांकि, 10 जून को इन जन धन अकाउंट्स में कुल डिपॉजिट 1.35 लाख करोड़ रुपये के स्तर पर था. जिसके बाद इसमें कुछ कमी आई है. केंद्र सरकार ने लॉकडाउन के बाद इन अकाउंट्स में लगातार तीन महीनों तक कुल 1,500 रुपये जमा करने का ऐलान किया था.

क्या हैं वो दो कारण जिसकी वजह से इन अकाउंट्स में डिपॉजिट बढ़ा है?
अर्थव्यवस्था पर कोरोना वायरस के पड़ने वाले प्रभाव से निपटने के लिए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने ऐलान किया था कि इन अकाउंट्स में प्रति महीने 500 करोड़ रुपये डिपॉजिट किए जाएंगे. इसमें 20.4 करोड़ महिला जन धन खाते थे, जिनमें केंद्र सरकार ने पैसे ट्रांसफर किया है. दूसरा कारण यह भी है कि लॉकडाउन के बाद से अब तक बैंकों ने करीब 1.9 करोड़ नये जन धन खाते खोले हैं. दोनों कारण हैं कि इन जन धन खातों में कुल डिपॉजिट बढ़ा है.
यह भी पढ़ें: पीएम मोदी ने की हेल्थ आईडी कार्ड की घोषणा, जानिए क्या होगा आम आदमी को फायदा



अगस्त 2014 में पीएम मोदी ने किया था लॉन्च
आपको बता दें कि मोदी सरकार ने अपने पहले कार्यकाल के अगस्त 2014 में जन धन योजना की शुरुआत की थी. इस योजना के तहत देश के गरीबों का खाता जीरो बैलेंस पर बैंक, पोस्ट ऑफिस और राष्ट्रीयकृत बैंको में खोला जाता है. प्रधानमंत्री जन धन योजना (PMJDY) के तहत खुलवाए गए खातों में ग्राहकों को कई सुविधाएं दी जाती हैं. इस स्कीम की शुरुआत से ही हर महीने लाखों अकाउंट खोले जा रहे थे. हालांकि, ​2015 अंतिम कुछ महीनों में अकाउंट खोलने की प्रक्रिया में कमी आई थी.

कैसे खोला जाता है नया जनधन अकाउंट?
अगर आप अपना नया जनधन खाता खोलना चाहते हैं तो नजदीकी बैंक में जाकर आसानी से ये काम कर सकते हैं. इसके लिए बैंक में आपको एक फॉर्म भरना होगा. उसमें नाम, मोबाइल नंबर, बैंक ब्रांच का नाम, आवेदक का पता, नॉमिनी, व्यवसाय/रोजगार और वार्षिक आय व आश्रितों की संख्या, एसएसए कोड या वार्ड नंबर, विलेज कोड या टाउन कोड आदि की जानकारी देनी होगी.

यह भी पढ़ें: ...तो क्या अब पुराना Gold और जूलरी बेचने पर देना होगा GST? जानिए क्या है मामला

इस अकाउंट के फायदे:
- 6 महीने बाद ओवरड्राफ्ट सुविधा
- 2 लाख रुपये तक एक्सिडेंटल इंश्योरेंस कवर
- 30,000 रुपये तक का लाइफ कवर, जो लाभार्थी की मृत्यु पर योगयता शर्ते पूरी होने पर मिलता है.
- डिपॉजिट पर ब्याज मिलता है.
- खाते के साथ फ्री मोबाइल बैंकिंग की सुविधा भी दी जाती है.
- जन धन खाता खोलने वाले को रुपे डेबिट कार्ड दिया जाता है जिससे वह खाते से पैसे निकलवा सकता है या खरीददारी कर सकता है.
- जनधन खाते के जरिए बीमा, पेंशन प्रोडक्ट्स खरीदना आसान है.
- जनधन खाता है तो पीएम किसान और श्रमयोगी मानधन जैसी योजनाओं में पेंशन के लिए खाता खुल जाएगा.
- देश भर में पैसों के ट्रांसफर की सुविधा
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज