Home /News /business /

january march current account deficit falls to 13 point 4 billion dollar see detail here prdm

जनवरी-मार्च तिमाही में आधा रह गया चालू खाते का घाटा, आम आदमी के लिए क्‍या हैं इसके मायने, जीडीपी पर क्‍या असर?

जनवरी-मार्च में सेवा क्षेत्र का व्‍यापार सरप्‍लस 28.3 अरब डॉलर पहुंच गया.

जनवरी-मार्च में सेवा क्षेत्र का व्‍यापार सरप्‍लस 28.3 अरब डॉलर पहुंच गया.

रिजर्व बैंक ने बीते वित्‍तवर्ष की आखिरी तिमाही के आंकड़े जारी कर बताया कि व्‍यापार घाटे में कमी की वजह से देश का चालू खाते का घाटा भी काफी कम हो गया है. एक तिमाही पहले के मुकाबले इसमें 80 फीसदी से भी ज्‍यादा गिरावट आई है. कैड को घटाने में आम आदमी का भी योगदान रहा क्‍योंकि प्राइमरी इनकम विदेशी बाजार में कम गई है.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्‍ली. निर्यात बढ़ने और प्राइमरी इनकम के विदेशी बाजार में जाने पर कमी आने से जनवरी-मार्च तिमाही में चालू खाते का घाटा (CAD) करीब आधा रह गया है. रिजर्व बैंक ने आंकड़े जारी कर व्‍यापार की बदलती तस्‍वीर और देश की मजबूत आर्थिक स्थिति का खाका पेश किया.

आरबीआई के अनुसार, 2021-22 की आखिरी तिमाही यानी जनवरी-मार्च में देश का चालू खाता घाटा 13.4 अरब डॉलर रह गया है, जो एक तिमाही पहले (अक्टूबर-दिसंबर) में 22.2 अरब डॉलर था. हालांकि, महामारी से प्रभावित जनवरी-मार्च 2021 की तिमाही में यह 8.1 अरब डॉलर था. अगर जीडीपी के अनुपात में देखें तो मौजूदा कैड जीडीपी का 1.5 फीसदी है. अक्टूबर-दिसंबर तिमाही में यह आंकड़ा 2.6 फीसदी था.

ये भी पढ़ें -अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपया 78.40 के रिकॉर्ड निचले स्तर पर बंद, आम आदमी पर क्या होगा असर?

कैड का मतलब है कि किसी देश के आयात पर किया गया कुल खर्च उसके निर्यात से हुई आय से अधिक होना. इन दोनों के बीच का अंतर ही कैड कहलाता है. आरबीआई ने कहा है कि बीते वित्‍तवर्ष की अंतिम तिमाही में कैड घटने का मुख्‍य कारण व्‍यापार घाटे में कमी और प्राइमरी इनकम के विदेशी बाजार में जाने पर रोक है.

बढ़ते निर्यात से कम हुआ व्‍यापार घाटा

2022 की पहली तिमाही में देश का वस्‍तुओं का व्‍यापार घाटा 54.5 अरब डॉलर रहा, जो एक तिमाही पहले ही 59.8 अरब डॉलर था. यह कमी निर्यात में आए उछाल की वजह से आई है. सेवा के मोर्चे पर भारत का व्‍यापार सरप्‍लस है. यानी कि हम सेवाओं का निर्यात ज्‍यादा करते हैं और आयात काफी कम रहता है. जनवरी-मार्च में सेवा ट्रेड का सरप्‍लस 28.3 अरब डॉलर पहुंच गया, जो एक तिमाही पहले तक 27.8 अरब डॉलर था.

आम आदमी की भी बड़ी भूमिका

आरबीआई ने बताया है कि देश के चालू खाते के घाटे को कम करने में आम आदमी ने भी बड़ी भूमिका निभाई है. जनवरी-मार्च तिमाही के दौरान विदेशी बाजार में कुल 8.4 अरब डॉलर की प्राइमरी इनकम गई, जो एक तिमाही पहले तक 11.5 अरब डॉलर थी. प्राइमरी इनकम का मतलब कर्मचारियों को मिलने वाले वेतन व अन्‍य भत्‍ते और निवेश से हुई आमदनी से है.

ये भी पढ़ें – तेजी से बढ़ रही भारत की खेल इंडस्‍ट्री, 2027 तक अब से 5 गुना हो जाएगा कारोबार, IPL का बड़ा रोल

सालाना आधार पर तीन साल में सबसे ज्‍यादा कैड

चालू खाते के घाटे को अगर सालाना आधार पर देखा जाए तो 2021-22 में यह बढ़कर तीन साल के उच्‍चतम स्‍तर पर पहुंच गया. बीते वित्‍तवर्ष में कुल कैड 38.7 अरब डॉलर रहा. हालांकि, इसी अवधि में व्‍यापार घाटा भी बढ़कर लगभग दोगुना हो गया. बीते वित्‍तवर्ष कुल व्‍यापार घाटा, 189.5 अरब डॉलर रहा, जो एक साल पहले 102.2 अरब डॉलर था.

अर्थव्‍यवस्‍था पर क्‍या असर

आरबीआई ने कहा कि देश के बढ़ते आयात बिल के बोझ से विकास दर भी प्रभावित होगी. साथ ही ग्‍लोबल मार्केट में महंगे कच्‍चे तेल व अन्‍य कमोडिटी का ज्‍यादा आयात करने से महंगाई भी बढ़ेगी. बीते वित्‍तवर्ष में जीडीपी के मुकाबले कुल कैड 1.2 फीसदी रहा, जो एक साल पहले तक 0.9 फीसदी था. इससे पहले 2018-19 में देश का कैड 57.3 अरब डॉलर रहा था.

Tags: Import-Export, RBI, Trade Margin

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर