NCLT के अप्रूवल के 6 महीने के अंदर ऑपरेशन शुरू करने की तैयारी में Jet Airways

कभी 120 विमान थे बेड़े में जेट एयरवेज के

bankruptcy court में हाल में दाखिल किए गए हलफनामे में MCA और DGCA ने कहा था कि स्लॉट मांगने के लिए जेट एयरवेज इतिहास का हवाला नहीं दे सकती है. सरकार और DGCA ने कहा था कि स्लॉट का आवंटन इसके लिए निर्धारित नियमों और गाइडलाइंस के मुताबिक ही होगा.

  • Share this:
    नई दिल्ली. CNBC-TV18 की एक रिपोर्ट के मुताबिक जेट एयरवेज नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल  (NCLT) से मंजूरी मिलने के 6 महीने के अंदर अपना कामकाज शुरु करने की तैयारी में है. जेट एयरवेज के नए ओनर  Kalrock-Jalan consortium की सरकार के साथ स्लॉट्स की उपलब्धता पर बातचीत चल रही है. सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक जेट एयरवेज plus/minus 15 basis पर अल्टरनेटिव स्लॉट के विकल्प के लिए भी तैयार है. CNBC-TV18 की रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि जेट एयरवेज एक पंच वर्षीय योजना के तहत एयरबस और बोईंग के साथ अपने फ्लीट के विस्तार पर भी बातचीत कर रही है. इस रिपोर्ट के मुताबिक जेट एयरवेज की योजना अपने वर्तमान बेड़े के सभी 11 एयरक्राफ्ट को रिटायर करने और लीज पर कम ईंधन खपत वाले एयरक्राफ्ट हासिल करने की है. इस बात की संभावना है कि कंपनी प्रति एयरक्राप्ट 50 से 75 कर्मचारियों की नियुक्ति करेगी.

    स्लॉट मांगने के लिए जेट एयरवेज इतिहास का हवाला नहीं दे सकती है

    बता दें कि कंपनी का कामकाज बंद होने के बाद उसके स्लॉट दूसरे एरलाइंस को दे दिए गए थे. bankruptcy court में हाल में दाखिल किए गए हलफनामे में MCA और DGCA ने कहा था कि स्लॉट मांगने के लिए जेट एयरवेज इतिहास का हवाला नहीं दे सकती है. सरकार और DGCA ने कहा था कि स्लॉट का आवंटन इसके लिए निर्धारित नियमों और गाइडलाइंस के मुताबिक ही होगा. बिजनेस स्टैंडर्ड की एक दूसरी रिपोर्ट में कहा गया है कि करीब 30 एयरपोर्ट्स ने Kalrock-Jalan consortium को जेट एयरवेज के लिए 170 जोड़े स्लॉट्स की उपलब्धता का आश्वासन दिया है.

    ये भी पढ़ें - डेबिट-क्रेडिट कार्ड नहीं है तब भी आसान किस्‍तों में कर सकेंगे ऑनलाइन खरीदारी, ICICI Bank ने शुरू की सुविधा, जानें सबकुछ

    25 विमानों से साथ भरेगी उड़ान

    Jalan Kalrock Consortium ने पिछली बार मीडिया में दिए अपने बयान में कहा था कि शुरुआत में जेट एयरवेज लगभग 25 विमानों के साथ उड़ान शुरू करेगा. कंपनी भारतीय विमानन के बारे में बहुत सकारात्मक है और भविष्य उज्ज्वल है. NCLT की ओर से मंजूरी मिलने के बाद रिजॉल्यूशन प्लान (Resolution Plan) को सिविल एविएशन मंत्रालय के पास भेजा जाएगा. उसके बाद इसे सिविल एविएशन डायरेक्टरेट (DGCA) के पास भेजा जाएगा.

    17 हजार कर्मचारी सड़क पर आ गए थे

    बता दें कि भारी घाटे और कर्ज के कारण जेट एयरवेज अप्रैल 2019 में बंद हो गई थी. उस समय कंपनी के प्रमोटर नरेश गोयल को 500 करोड़ रुपए की जरूरत थी, लेकिन वे इसे जुटा नहीं पाए. हालात यह हो गई कि कर्मचारियों की सैलरी और अन्य खर्च भी नहीं निकल पा रहे थे. जेट एयरवेज बंद होने के बाद इसके करीब 17 हजार कर्मचारी सड़क पर आ गए थे. इसके बाद जेट एयरवेज को कर्ज देने वाले बैंकों के कंसोर्टियम ने नरेश गोयल को कंपनी के बोर्ड से हटा दिया था.

    ये भी पढ़ें - आईफोन यूजर्स सावधान! फोन को न करें इस वाई-फाई से कनेक्ट, वरना कभी नहीं कर पाएंगे दोबारा इस्तेमाल

    कभी 120 विमान थे बेड़े में 

    एयरलाइन के बेड़े में एक समय 120 विमान थे, जो इसके बंद होने के समय सिर्फ 16 रह गए थे. फंड की समस्या की वजह से कंपनी को संचालन बंद करना पड़ा. कंपनी जून 2019 में कॉर्पोरेट दिवाला समाधान प्रक्रिया के तहत चली गई. इसका घाटा मार्च 2019 को समाप्त वित्त वर्ष में बढ़कर 5,535.75 करोड़ रुपए हो गया. विशेषज्ञों का कहना है कि जेट को फिर से उड़ान सेवा शुरू करने के लिए बड़ी संख्या में नई नियुक्तियां करनी होगी. यह कोरोना के बाद सुस्त पड़े जॉब मार्केट में तेजी लाने का काम करेगा.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.