जेट एयरवेज की सभी उड़ानें बंद!

भारी नकदी से जूझ रही प्राइवेट एयरलाइन जेट एयरवेज (Jet Airways) ने अपना कामकाज बंद कर दिया है. एयरलाइन ने यह फैसला इसलिए लिया, क्योंकि संकट से उबरने और ऑपरेशन जारी रखने के लिए उसे 400 करोड़ रु. की इमरजेंसी फंडिंग नहीं मिल पाई.

News18Hindi
Updated: April 18, 2019, 10:51 AM IST
News18Hindi
Updated: April 18, 2019, 10:51 AM IST
भारी नकदी से जूझ रही प्राइवेट एयरलाइन जेट एयरवेज (Jet Airways) ने अपना कामकाज बंद कर दिया है.  एयरलाइन ने यह फैसला इसलिए लिया, क्योंकि संकट से उबरने और ऑपरेशन जारी रखने के लिए उसे 400 करोड़ रु. की इमरजेंसी फंडिंग नहीं मिल पाई. सीईओ विनय दुबे ने ऑपरेशन जारी रखने के लिए एसबीआई से तत्काल 400 करोड़ रुपए देने का आग्रह किया था.

बैंको ने इमरजेंसी फंडिंग की मांग ठुकराई


सूत्रों के मुताबिक, बैंकों ने इमरजेंसी फंडिंग की मांग ठुकराई, बोली प्रक्रिया पूरी होने तक जेट को लोन नहीं मिलेगा, जेट को अतिरिक्त लोन देने से बैंकों ने इनकार किया. 25 साल पुरानी एयरलाइन कंपनी पर 8 हजार करोड़ रुपये से अधिक का कर्ज है.

सिर्फ 5 विमानों का परिचालन

जेट एयरवेज के सिर्फ पांच विमानों का ही परिचालन हो सका जबकि एक दिन पहले सोमवार को उसके सात विमान उड़ान भर रहे थे.



जेट एयरवेज पहले ही अपने अंतर्राष्ट्रीय परिचालन को 18 अप्रैल तक स्थगित करने की घोषणा कर चुकी है. जेट एयरवेज ने कहा है कि उसे एसबीआई की अगुवाई वाले बैंकों के गठजोड़ से इमर्जेंसी कैश सपॉर्ट का इंतजार है, जिससे वह अपनी सेवाओं में आ रही गिरावट को रोक सके. बंबई शेयर बाजार को भेजी सूचना में कंपनी ने कहा कि वह अपने निदेशक मंडल के साथ विचार विमर्श कर रही है. उसकी आपात नकदी के सहयोग के लिए कर्जदाताओं के साथ बातचीत चल रही है. (ये भी पढ़ें: जेट एयरवेज डूबी तो छिनेगी 20 हजार नौकरियां, जानिए क्या है पूरा मामला!)



एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsAppअपडेट्स
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...

News18 चुनाव टूलबार

  • 30
  • 24
  • 60
  • 60
चुनाव टूलबार