'मंदी' की चपेट में आया जूलरी सेक्टर, खतरे में हजारों नौकरियां!

News18Hindi
Updated: September 10, 2019, 12:19 PM IST
'मंदी' की चपेट में आया जूलरी सेक्टर, खतरे में हजारों नौकरियां!
अखिल भारतीय रत्न एवं आभूषण घरेलू परिषद (Gem and Jewellery Domestic Council (GJC) ने बताया कि देश का आभूषण (Jewellery) उद्योग भी मंदी (Slowdown) के दौर से गुजर रहा है.

अखिल भारतीय रत्न एवं आभूषण घरेलू परिषद (Gem and Jewellery Domestic Council (GJC) ने बताया कि देश का आभूषण (Jewellery) उद्योग भी 'मंदी' (Slowdown) के दौर से गुजर रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 10, 2019, 12:19 PM IST
  • Share this:
अखिल भारतीय रत्न एवं आभूषण घरेलू परिषद (Gem and Jewellery Domestic Council (GJC) ने बताया कि देश का आभूषण उद्योग भी 'मंदी' (Slowdown) के दौर से गुजर रहा है. लोग आभूषणों (Jewellery) की खरीदारी कम रहे हैं जिसका सीधा असर लोगों की नौकरियों पर पड़ता दिखाई देगा. इससे कुशल कारीगरों के समक्ष रोजगार का संकट पैदा हो सकता है. ज्वेलरी सेक्टर को मंदी के दौर में फंसने से बचाने के लिए काउंसिल ने मांग की है कि आयातित सोने पर सीमा शुल्क की दरें कम की जाएं और आभूषणों पर जीएसटी की दर घटाई जाए.

आपको बता दें कि आम बजट 2019-20 में इम्पोर्टेड सोने पर सीमा शुल्क 10 फीसदी से बढ़ाकर 12.5 फीसदी किया गया था. वहीं आभूषण पर माल एवं सेवा कर (जीएसटी) की दर 3 फीसदी तय की गई है. पूर्ववर्ती मूल्य वर्धित कर (वैट) प्रणाली में यह एक प्रतिशत थी.

अखिल भारतीय रत्न एवं आभूषण घरेलू परिषद के वाइस चेयरमैन शंकर सेन ने कहा कि मांग कम होने की वजह से आभूषण उद्योग मंदी के दौर से गुजर रहा है. इससे हजारों कुशल कारीगरों का रोजगार छिनने का अंदेशा पैदा हो गया है. GJC ने मांग की है कि इस सेक्टर की 55 लाख नौकरियों को बचाने के लिए सरकार गोल्ड पॉलिसी में बड़े बदलाव करे. सेन ने कहा कि सरकार को पैन कार्ड पर खरीददारी की सीमा को 2 लाख से बढ़ाकर 5 लाख कर देनी चाहिए.

ये भी पढ़ें: 

SBI में FD कराने वालों के लिए बड़ी खबर! 15 दिन में 2 बार बदल गए हैं FD रेट्स
आधार अपडेट करवाने से जुड़े नए नियम जान लीजिए!

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 10, 2019, 11:12 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...