भारत में हो रही है नौकरियों की कमी! पिछले 6 महीनों में नौकरी खोजने वाले हुए डबल: LinkedIn रिपोर्ट

भारत में नौकरियों की कमी! पिछले 6 महीनों में नौकरी खोजने वाले हुए डबल:LinkedIn

भारत में नौकरियों की कमी! पिछले 6 महीनों में नौकरी खोजने वाले हुए डबल:LinkedIn

देश में नौकरी ढूंढ़ने वाले लोगों का तादाद काफी बढ़ गई है. इसका सबसे बड़ा सबूत है प्रोफेशनल नेटवर्किंग सोशल मीडिया साइट लिंक्डइन (LinkedIn) पर पिछले छह महीने में बढ़ने वाली जॉब सर्च (jobs search) की संख्या. भारत में लिंक्डइन पर पिछले छह महीने में जॉब सर्च करने वाले लोगों की संख्या दोगुनी हो गई है.

  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना वायरस (Covid-19) महामारी के कारण दुनियाभर में करोड़ों लोगों की नौकरियां गईं हैं. भारत भी इससे अछूता नहीं है. कोविड-19 के कारण देश में फॉर्मल और अनफॉर्मल सेक्टर (formal and informal sector) में काम करने वाले लाखों लोगों को नौकरियां से हाथ धोना पड़ा है. इससे उनकी आजीविका पर संकट आ गया है. देश में नौकरी ढूंढ़ने वाले लोगों का तादाद काफी बढ़ गई है. इसका सबसे बड़ा सबूत है प्रोफेशनल नेटवर्किंग सोशल मीडिया साइट लिंक्डइन (LinkedIn) पर पिछले छह महीने में बढ़ने वाली जॉब सर्च (jobs search) की संख्या. भारत में लिंक्डइन पर पिछले छह महीने में जॉब सर्च करने वाले लोगों की संख्या दोगुनी हो गई है. लेकिन अच्छी खबर यह है कि इस प्लेटफॉर्म के जरिये नौकरी पाने वाले लोगों की संख्या में 35 फीसदी का इजाफा हुआ है.

LinkedIn ने अपने बयान में कहा है कि भारत में हरेक सेक्टर में जॉब सर्च करने वाले लोगों की संख्या दोगुनी से अधिक बढ़ी है, चाहे वह मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर से संबंधित जॉब हो या सर्विस सेक्टर से संबंधित. कंपनी ने कहा कि उसके प्लैटफॉर्म पर पोस्ट की गई हरेक job opening के लिए जून में औसतन 180 लोगों ने आवेदन किया. वहीं, इस साल जनवरी में एक job opening के लिए अप्लाई करने वाले लोगों की औसत संख्या 90 से कम थी.

LIC की खास स्कीम, एक बार प्रीमियम जमा कर जीवनभर करें कमाई, ऐसे उठाएं फायदा



कंपनी ने कहा कि बाजार में जितनी नौकरियां अभी उपलब्ध हैं, उससे कई गुना आधिक अप्लाई करने वाले लोगों की संख्या है. यानी कि सप्लाई से कहीं अधिक डिमांड है जिसके कारण पिछले छह महीनों में लिंक्डइन पर नौकरी खोजने वालों का संख्या में इजाफा हुआ है. कंपनी ने अपने बयान में कहा कि मार्च के अंतिम सप्ताह में देशभर में लॉकडाउन (lockdown) लगने के बाद से लाखों लोगों की नौकरियां गई हैं, स्टाफ की सैलरी में कटौती हुई है, ऐसे में इस अवधि के बाद से ही jobs की डिमांड बढ़ने लगी.
हायरिंग रेट अभी सिर्फ 15%
LinkedIn ने कहा कि भारत के लिए अच्छी खबर यह है कि हमारे प्लैटफॉर्म के जरिये अप्राल से जुलाई के बीच नौकरी पाने वाले लोगों की संख्या में 35 फीसदी की वृद्धि हुई है. यह बढ़ोतरी इसलिए महत्वपूर्ण है क्योंकि कोरोना महामारी के कारण कंपनियों की हायरिंग रेट (hiring rate) में काफी कमी आई है. क्पनी ने कहा कि हायरिंग रेट अभी सिर्फ 15% है जो चिंताजनक है.

अगर स्थिति जल्दी नहीं सुधरी तो बेरोजगारी की संकट और बढ़ेगा. वहीं, सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी (Centre for Monitoring Indian Economy- CMIE) के मुताबिक, देश में रोजगार की स्थिति ठीक हो रही है. अप्रैल में जहां देश की बेरोजगारी दर (Unemployment rate) 24% थी वह जुलाई में 8% पर आ गई है. आपको बता दें कि भारत में LinkedIn के 6.9 करोड़ से अधिक एक्टिव यूजर्स हैं और दुनियाभर की पांच करोड़ कंपनियां इस प्लैटफॉर्म से जुड़ी हुई हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज