17 फीसदी गिरावट के बाद आज bitcoin में तेजी, जल्द एक करोड़ हो सकती है 1 सिक्के की कीमत!

जल्द एक करोड़ हो सकती है 1 सिक्के की कीमत!

दुनिया की सबसे लोकप्रिय क्रिप्टोकरेंसी बिटकॉइन (Bitcoin) में सोमवार को बड़ी गिरावट देखने को मिली थी. इस गिरावट के मंगलावर को यह तेजी के साथ ट्रेड कर रहा है.

  • Share this:
    नई दिल्ली: दुनिया की सबसे लोकप्रिय क्रिप्टोकरेंसी बिटकॉइन (Bitcoin) में सोमवार को बड़ी गिरावट देखने को मिली थी. इस गिरावट के मंगलावर को यह तेजी के साथ ट्रेड कर रहा है. सोमवार को इस एख सिक्के की कीमत में करीब 17 फीसदी तक की गिरावट देखने को मिली थी. मौजूदा समय में एक बिटकॉइन की कीमत 22 लाख रुपए के पार जा चुका है. वहीं, अमेरिकी कंपनी जेपी मार्गेन ने बताया कि आने वाले दिनों में एक सिक्के की कीमत एक करोड़ रुपए तक जा सकती है.

    क्या कहती है जेपी मार्गेन की रिपोर्ट
    जेपी मार्गेन के मुताबिक, बिटकॉइन ने निवेशकों को एक साल में 300 फीसदी की रिटर्न दिया है, जिन भी निवेशकों ने इसमें पैसा लगा रखा है. वह मालामाल हो गए हैं. रिपोर्ट के मुताबिक, 31 दिसंबर 2019 को बिटकॉइन की कीमत 7212 डॉलर थी, जो 30 दिसंबर 2020 तक 28,599.99 डॉलर हो गई थी.

    यह भी पढ़ें: Budget 2021-22: वित्त सचिव ने दिए संकेत, बजट में इन सेक्टर्स को मिल सकती है बड़ी राहत

    आगे भी रहेगी तेजी
    आपको बता दें जेपी मार्गेन का अनुमान है कि आने वाले कुछ सालों में एक बिटकॉइन की कीमत करीब 1,46,000 डॉलर ( करीब 1,06,74,352 रुपए) तक जा सकती है. इसका मार्केट कैप करीब 4.6 गुन बढ़कर 575 बिलियन डॉलर का हो सकता है.

    क्या होती है क्रिप्टोकरेंसी?
    बता दें कि क्रिप्टोकरेंसी एक डिजिटल करेंसी होती है, जो ब्लॉकचेन तकनीक पर आधारित है. इस करेंसी में कूटलेखन तकनीक का प्रयोग होता है. इस तकनीक के जरिए करेंसी के ट्रांजेक्शन का पूरा लेखा-जोखा होता है, जिससे इसे हैक करना बहुत मुश्किल है. यही कारण है कि क्रिप्टोकरेंसी में धोखाधड़ी की संभावना बहुत कम होती है. क्रिप्टोकरेंसी का परिचालन केंद्रीय बैंक से स्वतंत्र होता है, जो कि इसकी सबसे बड़ी खामी है.



    यह भी पढ़ें: Gold Prices: 8 हफ्ते के उच्चतम स्तर पर पहुंचने के बाद फिर लुढ़का सोना, जानिए क्यों कम हुआ गोल्ड का दाम

    जानिए कैसे होती है बिटकॉइन में ट्रेडिंग?
    बिटकॉइन ट्रेडिंग डिजिटल वॉलेट (Digital wallet) के जरिए होती है. बिटकॉइन की कीमत दुनियाभर में एक समय पर समान रहती है. इसलिए इसकी ट्रेडिंग मशहूर हो गई. दुनियाभर की गतिविधियों के हिसाब से बिटकॉइन की कीमत घटती बढ़ती रहती है. इसे कोई देश निर्धारित नहीं करता बल्कि डिजिटली कंट्रोल (Digitally controlled currency) होने वाली करंसी है. बिटकॉइन ट्रेडिंग का कोई निर्धारित समय नहीं होता है. इसकी कीमतों में उतार-चढ़ाव भी बहुत तेजी से होता है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.