होम /न्यूज /व्यवसाय /काम की बात : रद्द हो गई आपकी फ्लाइट या हो रही देरी, ज्‍यादा रिफंड के लिए कौन सा टिप्‍स अपनाएं? आसान है प्रोसेस

काम की बात : रद्द हो गई आपकी फ्लाइट या हो रही देरी, ज्‍यादा रिफंड के लिए कौन सा टिप्‍स अपनाएं? आसान है प्रोसेस

अगस्‍त में दुनियाभर में करीब 25 हजार उड़ानें रद्द की गई हैं.

अगस्‍त में दुनियाभर में करीब 25 हजार उड़ानें रद्द की गई हैं.

तकनीकी खामी सहित तमाम कारणों की वजह से इस समय दर्जनों उड़ानें रद्द हो रही हैं. अगर आपकी उड़ान भी रद्द हो गई है और आप जल ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

अगस्‍त में 15,788 उड़ानें सिर्फ यूरोप में ही रद्द की गई हैं.
ब्रिटिश एयरवेज ने करीब 30 हजार उड़ानों को रद्द किया है.
कोई उड़ान 6 घंटे से ज्‍यादा लेट होती है तो यात्री को फुल रिफंड मिलेगा.

नई दिल्‍ली. भारत सहित दुनियाभर में इस समय उड़ानें रद्द होने अथवा घंटों देरी से चलने का सिलसिला जारी है. भारत में इंडिगो और स्‍पाइसजेट की सैकड़ों उड़ानों को या तो रद्द किया गया अथवा वे कई घंटे की देरी से चलाई गईं. दोनों कंपनियां कर्मचारियों की कमी के अलावा तकनीकी खामियों से जूझ रही हैं.

मनीकंट्रोल के मुताबिक, दुनियाभर में अगस्‍त में शिड्यूल करीब 25 हजार उड़ानों को रद्द किया गया है. इसमें 15,788 उड़ानें सिर्फ यूरोप की शामिल हैं. ब्रिटिश एयरवेज ने अप्रैल से अक्‍तूबर के बीच शिड्यूल करीब 30 हजार उड़ानों को रद्द कर दिया, जबकि टर्किश एयरलाइंस ने पिछले सप्‍ताह ही 4,408 उड़ानों को रद्द किया. फ्लाइट रद्द होने पर यात्रियों को न सिर्फ अपने गंतव्‍य तक जाने में मुश्किल आती है, बल्कि पैसे रिफंड पाने के लिए भी लंबा इंतजार करना पड़ता है. ऐसे में आपको जल्‍द रिफंड के लिए कुछ टिप्‍स अपनाने चाहिए.

ये भी पढ़ें – Business Opportunity : म्‍यूचुअल फंड डिस्‍ट्रीब्‍यूटर बनकर लाखों कमाने का मौका, कैसे और कहां करें अप्‍लाई?

आपने किस तरह का टिकट खरीदा
जीरो कैंसिलेशन : इस तरह का टिकट खरीदने पर अगर आप टिकट कैंसिल करते हैं तो एयरलाइंस बेहद कम सरचार्ज के साथ आपका पैसा वापस कर देती हैं. इसमें कोई भी एक्‍स्‍ट्रा कॉस्‍ट शामिल नहीं होता.

फ्लेक्‍सी फेयर्स : इस तरह के टिकट के साथ कई सहूलियतें जुड़ी होती हैं. ऐसे टिकट पर आप बिना अतिरिक्‍त शुल्‍क दिए यात्रा की डेट चेंज करा सकते हैं, पे-लेटर का ऑप्‍शन भी मिलेगा, कैंसिल करने पर रिफंड आसानी से मिल जाएगा.

रिफंडेबल : इस तरह के टिक पर एयरलाइंस आपको सिर्फ बेस फेयर ही वापस करेंगी जबकि उसके साथ जुड़े अन्‍य शुल्‍क ग्राहक को वापस नहीं दिए जाएंगे.

सीधे एयरलाइन से बुक करें टिकट
यात्रियों को अपना टिकट सीधे एयरलाइन से बुक कराना चाहिए. कई एयरलाइन जीरो कैंसिलेशन वाले टिकट ऑफर करती हैं. अगर आप थर्ड पार्टी साइट से टिकट बुक करते हैं तो सर्विस शुल्‍क सहित अन्‍य चार्ज देना पड़ेगा और आपको टिकट कैंसिल करने पर पैसे भी वापस नहीं मिलेंगे. कुछ एयरलाइन टिकट कैंसिल करते समय आपसे रिबुकिंग करने के लिए भी पूछती हैं, आप चाहें तो यात्रा किसी अगली डेट पर कर सकते हैं.

ये भी पढ़ें – आपके पास भी है YES Bank की FD, अब समय से पहले तुड़वाई तो देना होगा अधिक जुर्माना, कितनी बढ़ गई पेनॉल्‍टी?

उड़ान रद्द होने या देरी से चलने पर क्‍या हैं आपके अधिकार
consumerhelpline.gov.in के मुताबिक, टिकट बुक करते समय ही एयरलाइन इस बात को साफ बता देती हैं कि कितना रुपया रिफंड दिया जाएगा. अगर कोई यात्री ओवर बुकिंग की वजह से फ्लाइट में बैठने से इनकार करता है तो उसे एयरलाइन क्षतिपूर्ति नहीं देंगी. ऐसा तब होगा जबकि यात्री को मूल फ्लाइट के उड़ान के समय से एक घंटे के भीतर दूसरी फ्लाइट में बोर्डिंग के लिए कहा जाए.

-अगर एयरलाइन ने उड़ान के 24 घंटे पहले यात्री को इसकी सूचना नहीं दी और फ्लाइट रद्द होने की वजह से कनेक्टिंग फ्लाइट नहीं मिली तो एयरलाइन को क्षतिपूर्ति देनी होगी.

-अगर कोई उड़ान 6 घंटे से ज्‍यादा लेट होती है तो एयरलाइन को इसे रीशिड्यूल करने के लिए यात्री को मूल उड़ान के समय से 24 घंटे के अंदर इसकी जानकारी देनी होगी. साथ ही एयरलाइन को यात्री से यह अल्‍टरनेट फ्लाइट लेने या फुल रिफंड पाने के बारे में पूछना होगा.

-अगर एयरलाइंस ने उड़ान के 24 घंटे पहले यात्री को फ्लाइट रद्द होने की जानकारी दे दी है तो ऐसे मामले में कस्‍टमर को दो विकल्‍प दिए जा सकते हैं. इसमें टिकट का फुल रिफंड या अल्‍टरनेट फ्लाइट का ऑप्‍शन होगा.

ये भी पढ़ें – Rupee Update: गिरता रुपया आपकी जेब को कैसे प्रभावित करता है, देखिए क्या-क्या हो जाएगा महंगा?

-अगर एयरलाइन ने यात्री को 24 घंटे पहले उड़ान रद्द होने की जानकारी नहीं दी है, जिसकी वजह से कोई कनेक्टिंग फ्लाइट छूट गई तो कंपनी को क्षतिपूर्ति के तौर पर 5-10 हजार रुपये देने पड़ेंगे.

-अगर उड़ान में किसी राजनीतिक अस्थिरता, प्राकृतिक आपदा, दंगे, बाढ़, सरकार के नियम, मौसम की खराबी अथवा सुरक्षा जोखिम की वजह से देरी होती है अथवा रद्द होती है तो कंपनी क्षतिपूर्ति के तौर पर कोई भुगतान नहीं करेगी.

-अगर यात्री अपना टिकट रद्द करता है तो एयरलाइन को रिफंड के तौर पर टैक्‍स, डेवलपमेंट और पैसेंजर सर्विस शुल्‍क भी लौटाना होगा. विदेशी उड़ानों के मामले में यह एयरलाइन की पॉलिसी पर निर्भर करेगा.

Tags: Business news in hindi, Flight cancelled, Flight fare, Flight schedule, Tips and Tricks

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें