अमेजन और फ्लिपकार्ट को झटका, कर्नाटक हाईकोर्ट ने खारिज की CCI जांच के खिलाफ याचिका

अमेजन

अमेजन

कर्नाटक हाईकोर्ट (Karnataka High Court) ने सीसीआई जांच के खिलाफ अमेजन (Amazon) और फ्लिपकार्ट (Flipkart) की रिट याचिका खारिज कर दी.

  • Share this:

बेंगलुरु. कर्नाटक हाईकोर्ट (Karnataka High Court) से दिग्गज ई-कॉमर्स कंपनी अमेजन (Amazon) और फ्लिपकार्ट (Flipkart) को झटका लगा है. दरअसल, हाईकोर्ट ने भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग यानी सीसीआई (Competition Commission of India) जांच के खिलाफ रिट याचिका खारिज कर दी. हाईकोर्ट ने शुक्रवार को कहा कि सीसीआई (CCI) अमेजन और फ्लिपकार्ट के खिलाफ प्रतिस्पर्धा कानूनों के प्रावधानों का कथित उल्लंघन की जांच कर सकता है.

यह मामला लगभग 18 महीने पहले शुरू हुआ था, जब दिल्ली में स्मॉल और मीडियम बिजनेस मालिकों का प्रतिनिधित्व करने वाले ग्रुप दिल्ली व्यापार महासंघ यानी डीवीएम (Delhi Vyapar Mahasangh) ने देश के दो सबसे बड़े ई-कॉमर्स प्लेयर्स अमेजन और फ्लिपकार्ट के खिलाफ सीसीआई में एक याचिका दायर की थी, जिसमें उन पर कथित प्रतिस्पर्धा विरोधी आचरण अपनाने, बहुत ज्यादा छूट देकर कदाचार करने और अपने पसंदीदा दुकानदारों के साथ तालमेल के आरोप लगाया गया था.

ये भी पढ़ें- LIC की चेतावनी! भूल कर भी ना करें ये काम वरना अब भुगतना होगा बुरा अंजाम, होगी कानूनी कार्रवाई

हाईकोर्ट की दो जजों की बेंच या सुप्रीम कोर्ट में जाने का विकल्प
अदालत ने अंतरिम आदेश के दो सप्ताह के विस्तार के लिए फ्लिपकार्ट के वरिष्ठ वकील की याचिका को भी खारिज कर दिया. यह आदेश न्यायमूर्ति पीएस दिनेश कुमार ने सुनाया. अमेजन और फ्लिपकार्ट के पास अब या तो हाईकोर्ट की दो जजों की बेंच या सुप्रीम कोर्ट में जाने का विकल्प होगा.

जनवरी में सीसीआई ने दिए थे जांच के आदेश

बता दें कि सीसीआई ने दिल्ली व्यापार महासंघ सहित व्यापारियों के संगठनों की शिकायत पर जनवरी में अमेजन और फ्लिपकार्ट के खिलाफ कथित आरोपों की जांच का आदेश दिया था. इसके खिलाफ अमेजन ने फरवरी में कर्नाटक हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी. हाईकोर्ट ने राहत प्रदान करते हुए सीसीआई जांच के आदेश पर अंतरिम रोक लगा दी थी.



ये भी पढ़ें- Sensex- Nifty फिर नए उच्चतम स्तर पर पहुंचे, जानिए वो पांच महत्वपूर्ण बातें जो मार्केट को गति दे रही

स्मार्टफोन के लॉन्च पर चुनिंदा विक्रेताओं को तरजीह देने का आरोप

अक्टूबर 2019 में, दिल्ली व्यापार महासंघ ने आरोप लगाया था कि अमेजन और फ्लिपकार्ट अपने ऑपरेशंस, विशेष रूप से स्मार्टफोन के लॉन्च पर चुनिंदा विक्रेताओं को तरजीह दे रहे हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज