Home /News /business /

जब जम्मू-कश्मीर में हर आदमी पर खर्च हो रहे थे 92 हजार, तब यूपी में सिर्फ 4300 रुपये!

जब जम्मू-कश्मीर में हर आदमी पर खर्च हो रहे थे 92 हजार, तब यूपी में सिर्फ 4300 रुपये!

जम्मू-कश्मीर में सबसे ज्यादा है प्रति व्यक्ति सरकारी खर्च!

जम्मू-कश्मीर में सबसे ज्यादा है प्रति व्यक्ति सरकारी खर्च!

दूसरे राज्य हाशिए पर, जम्मू-कश्मीर पर पैसा लुटाती रहीं सरकारें, देश की सिर्फ एक फीसदी आबादी के लिए मिलती रही 10 परसेंट केंद्रीय ग्रांट

    यह कोई कहावत नहीं है बल्कि सच है कि जम्मू-कश्मीर पर देश के किसी भी राज्य से बहुत अधिक पैसा खर्च होता है. कितना खर्च होता है यह हम आपको बता रहे हैं. आपके टैक्स का ज्यादातर हिस्सा इसी राज्य में खर्च किया जा रहा था. जम्मू-कश्मीर की आबादी भारत की कुल जनसंख्या की सिर्फ एक फीसदी है, लेकिन वहां पर कुल केंद्रीय बजट का 10 फीसदी हिस्सा दिया जा रहा था. उधर, उत्तर प्रदेश जहां देश के 13 फीसदी लोग रहते हैं वहां पर सिर्फ 8.2 प्रतिशत केंद्रीय ग्रांट मिलती थी.

    एक रिपोर्ट के मुताबिक केंद्र सरकार ने 2000 से 2016 के बीच हर कश्मीरी पर औसतन 92 हजार रुपये खर्च किए जबकि यूपी के लोगों पर सिर्फ 4300 रुपये ही खर्च हुए. 1991-92 में जब देश में प्रति व्यक्ति खर्च 576 रुपये था तब जम्मू-कश्मीर के लोगों पर 3197 रुपये खर्च किए जा रहे थे. इसी तरह 2001-02 में जब देश में प्रति व्यक्ति खर्च 1137 रुपये था तब जम्मू-कश्मीर में 8092 रुपये खर्च हो रहे थे. सूत्रों का कहना है कि इस समय जेएंडके में 14,255 रुपये प्रति व्यक्ति आवंटित किया जा रहा है, जबकि राष्ट्रीय औसत सिर्फ 3,681 रुपये है.

    expenditure of jammu and kashmir,जम्मू-कश्मीर का खर्च, Central funds of jammu and kashmir, जम्मू-कश्मीर में केंद्रीय फंड, mission kashmir, मिशन कश्मीर, Jammu And Kashmir, narendra modi, modi government, revoke article 370, 35A, special status to jammu kashmir, amit shah, bjp leader, jawahar lal nehru, जम्मू-कश्मीर, नरेंद्र मोदी, अमित शाह, मोदी सरकार, आर्टिकल 370, आर्टिकल 35ए, जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा, लद्दाख, बीजेपी, जवाहरलाल नेहरू, बसपा, कांग्रेस, सपा, BSP,congress, SP, dogra front jammu kashmir, डोगरा फ्रंट जम्मू -कश्मीर
    अक्टूबर में श्रीनगर में एक बड़ा इनवेस्टमेंट समिट ऑर्गनाइज़ किया जाएगा.


    पिछले 16 साल में जम्मू-कश्मीर पर 1.4 लाख करोड़ रुपये खर्च किए गए. यह विशेष दर्जे वाले अन्य दस राज्यों के मुकाबले 25 फीसदी ज्यादा था. 70 साल में चार लाख करोड़ रुपये से ज्यादा पैसा सिर्फ कश्मीर में खर्च हुआ. यही नहीं अलगाववादियों की सुरक्षा पर सालाना करीब सौ करोड़ रुपये खर्च हुए. इसका 90 फीसदी हिस्सा केंद्र सरकार ही उठा रही थी. जम्मू-कश्मीर सरकार सिर्फ 10 फीसदी ही देती थी.

    पूरी तरह से नहीं हटाया गया है आर्टिकल 370
    आर्टिकल 370 पूरी तरह से नहीं हटाया गया है. तीन भागों में बंटे इस आर्टिकल का सिर्फ भाग 2 और 3 हटाया गया है.  संविधान विशेषज्ञ सुभाष कश्यप का कहना है कि ये कहना गलत होगा की धारा 370 को हटाया गया है, बल्कि संशोधन किया गया है.  सरकार का फैसला ऐतिहासिक और साहसपूर्ण है. उनका कहना है कि चुनौती तो किसी भी फैसले को दी जा सकती है,  लेकिन मुझे लगता है की सरकार का फैसला संवैधानिक है और किसी तरह की कमी नहीं है. सरकार का पक्ष मजबूत है.

    ये भी पढ़ें: बीजेपी नेता ने कहा-आर्टिकल 370 नेहरु की गलती थी, अब पूरा भारत एक...!       

    डोगरा फ्रंट ने कहा, जम्मू-कश्मीर को अब मिली आजादी, कई साल से गुलाम था!

    Tags: Amit shah, Article 35A, Article 370, Central government, Jammu and kashmir, Pm narendra modi

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर