खुशखबरी! रेलवे ने स्पष्ट किया फिर से चलेंगी ये दो गरीबरथ ट्रेनें

भारतीय रेल ने काठगोदाम-जम्मू और काठगोदाम-कानपुर सेंट्रल गरीब रथ ट्रेनों को फिर से बहाल कर दिया है. ये ट्रेनें आने वाले 4 अगस्त से फिर से पटरी पर दौड़ेंगी.

Chandan Kumar
Updated: July 24, 2019, 9:57 PM IST
Chandan Kumar
Updated: July 24, 2019, 9:57 PM IST
भारतीय रेल ने काठगोदाम-जम्मू और काठगोदाम-कानपुर सेंट्रल गरीब रथ ट्रेनों को फिर से बहाल कर दिया है. ये ट्रेनें आने वाले 4 अगस्त से फिर से पटरी पर दौड़ेंगी. इसके लिए रिनोटिफिकेशन की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है. ट्रेनों का किराया भी गरीब रथ का किराया होगा. न्यूज़ 18 इंडिया ने गुरुवार को ही ये खबर दे दी थी. रेल मंत्रालय  ने यह भी साफ कर दिया है कि कोई गरीब रथ ट्रेन बंद नहीं की जाएगी और न ही इसे मेल/एक्सप्रेस में बदला जाएगा.

रेलवे वर्तमान में 26 जोड़ी गरीब रथ ट्रेनें चलाता है. रेलवे ने साफ कहा है कि इनमें से किसी भी ट्रेन को बंद करने का उसका प्लान नहीं है. रेलवे ने यह भी कहा कि ये ट्रेनें काफी लोकप्रिय हैं और इनका किराया एसी 3 टियर के किराए से भी कम है.

गरीब रथ ट्रेनों को बंद करने की योजना नहीं
रेल राज्य मंत्री सुरेश अंगड़ी ने कहा है कि गरीब रथ ट्रेनों को बंद करने की कोई  योजना नहीं है और जो कुछ भी हुआ वो कोचों की कमी के चलते हुआ था. भारतीय रेल ने इसी हफ़्ते काठगोदाम- जम्मू ग़रीब रथ और काठगोदाम- कानपुर सेन्ट्रल ग़रीब रथ ट्रेन को एक्सप्रेस ट्रेन के तौर पर चलाया गया था. लेकिन गुरुवार को रेलमंत्री पीयूष गोयल और रेल राज्य मंत्री सुरेश अंगड़ी ने रेल अधिकारियों से इस मुद्दे पर बात कर इसे फिर से बहाल करने का निर्देश किया था.  दरअसल गरीब रथ ट्रेनों का किराया मेल/एक्सप्रेस ट्रेनों के किराये से 25-30 फीसदी कम होता है.

कोई garib rath ट्रेन बंद नहीं की जाएगी
कोई गरीब रथ ट्रेन बंद नहीं की जाएगी


लालू प्रसाद यादव ने शुरू की थी गरीब रथ
गरीब रथ ट्रेनों की शुरुआत साल 2006 में उस वक्त के रेलमंत्री लालू प्रसाद यादव ने की थी. पहली गरीब रथ ट्रेन सहरसा से अमृतसर के बीच चलाई गई थी. इस ट्रेन को कम पैसे में गरीबों को एसी के सफर की सुविधा देने के लिए शुरु किया गया था.
Loading...

दरअसल  ग़रीब रथ ट्रेनों के कोच पुराने डिज़ाइन के ICF कोच होते हैं और भारतीय रेल अब केवल नए डिज़ाइन के LHB कोच ही बनाता है. इसलिए ग़रीब रथ ट्रेनों को चलाने को लेकर एक सवाल जरूर खड़ा हो गया था. लेकिन अब रेल मंत्रालय तीन उपायों पर काम कर रहा है जिसमें गरीब रथ ट्रेनों के कोच फिर से बनवाने, नए कोच पर गरीब रथ ट्रेन चलाने या पुराने हो चुके कोच को हटाकर वहां नया कोच जोड़कर ट्रेन चलाना शामिल है.

ये भी पढ़ें - ठाकरे परिवार तोड़ेगा परंपरा, अब सीएम पद की रेस में आदित्य ठाकरे भी आए

MP: बल्लामार MLA के बाद अब 'खून बहाने' की धमकी देने वाले नेता पर विधानसभा में जमकर हंगामा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए कानपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 19, 2019, 6:35 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...