अपना शहर चुनें

States

बीजेपी ने वादा पूरा किया तो किसान क्रेडिट कार्ड पर बिना ब्याज के मिलेगा एक लाख रुपये का लोन!

सिर्फ एक डॉक्यूमेंट पर मिलता है खेती के लिए 3 लाख का लोन!
सिर्फ एक डॉक्यूमेंट पर मिलता है खेती के लिए 3 लाख का लोन!

मोदी सरकार ने किसान क्रेडिट कार्ड से लोन लेना पहले से आसान कर दिया है. इस पर किया गया नया वादा पूरा होता है तो अन्नदाताओं को बड़ी राहत होगी

  • Share this:
नरेंद्र मोदी की दूसरी सरकार ने काम करना शुरू कर दिया है. गरीबों और किसानों पर उसका फोकस है. सरकार अगर बीजेपी की ओर से लोकसभा चुनाव में किए गए वादे को निभाती है तो किसानों के लिए बड़ी राहत होगी. संकल्प पत्र में किए गए वादे के मुताबिक सत्ता में वापस आने पर सरकार एक से पांच साल के लिए जीरो परसेंट ब्याज पर एक लाख का कृषि कर्ज देगी, लेकिन इसमें मूलराशि के समय पर भुगतान की शर्त होगी. यह ब्याजमुक्त किसान क्रेडिट कार्ड (केसीसी) ऋण कहलाएगा. अब बीजेपी दोबारा सत्ता में आ चुकी है, इसलिए उम्मीद कर सकते हैं कि यह बड़ा वादा पूरा होगा. क्योंकि, बीजेपी प्रवक्ता राजीव जेटली कह रहे हैं कि जो वादा किया है उसे हम निभाएंगे. (ये भी पढ़ें: पीएम किसान सम्मान निधि स्कीम: अब देश के सभी किसानों को मिलेंगे सालाना 6000 रुपये!)

मोदी सरकार ने अपने पिछले कार्यकाल में भी किसान क्रेडिट कार्ड को लेकर नियमों को काफी सरल किया था ताकि सभी किसान इसका लाभ उठाएं और साहूकारों के चंगुल में फंसने से बचें. पिछली सरकार में कृषि राज्य मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने हमसे बातचीत में दावा किया था कि केसीसी के लिए सिर्फ तीन डॉक्यूमेंट ही लिए जाएंगे. पहला यह कि जो व्यक्ति अप्लीकेशन दे रहा है वो किसान है या नहीं. इसके लिए बैंक उसके खेती के कागजात देखें और उसकी कॉपी लें. दूसरा निवास प्रमाण पत्र और तीसरा आवेदक का शपथ पत्र कि उसका किसी और बैंक में लोन तो बकाया नहीं है. सरकार ने बैंकिंग एसोसिएशन से यह भी कहा था कि केसीसी आवेदन के लिए कोई फीस न ली जाए.

ये भी पढ़ें: 3 लाख में शुरू करें ये बिजनेस, हर महीने होगी 2 लाख तक की कमाई



ऐसा इसलिए किया गया क्योंकि केसीसी की कवरेज सीमित किसानों तक ही हो सकी है. देश में 14 करोड़ किसान परिवार हैं, जिसमें से सात करोड़ के पास ही किसान क्रेडिट कार्ड है. ज्यादातर किसान इसलिए इसका लाभ नहीं ले पाते क्योंकि बैंक आसानी से इसे बनाते नहीं. इसलिए किसान साहूकारों से कर्ज लेते हैं. वे ऐसे दुष्चक्र में फंस जाते हैं कि कई बार आत्महत्या कर लेते हैं.
अभी कितना लगता है ब्याज
अभी किसान क्रेडिट कार्ड के जरिये खेती के लिए 3 लाख और पशुपालन, मछलीपालन के लिए 2 लाख रुपये तक का कर्ज 7 फीसदी ब्याज पर मिलता है. समय पर पैसा लौटा देते हैं तो 3 फीसदी की छूट मिलती है. इस तरह ईमानदार किसानों को 4 परसेंट ब्याज पर ही पैसा मिल जाता है. केसीसी पहले सिर्फ किसानों के लिए होता था. लेकिन मोदी सरकार ने इसका विस्तार करते हुए पशुपालकों और मछलीपालकों के लिए भी खोल दिया.

ये भी पढ़ें:
इन योजनाओं ने जीता वोटर्स का दिल, इसलिए हुई बीजेपी की इतनी बड़ी जीत! 

किसानों के अच्छे दिन, खेती-किसानी से जुड़ा है 17वीं लोकसभा का हर चौथा सांसद!

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज