पैसा लगाने से पहले जान लें कितने समय के लिए करें निवेश, वरना हो सकता है नुकसान!

बाजार में पैसा लगाने के लिए सबसे जरूरी है सही समय के हिसाब से प्लानिंग करना.
बाजार में पैसा लगाने के लिए सबसे जरूरी है सही समय के हिसाब से प्लानिंग करना.

अगर आप निवेश का प्लान बना रहे हैं तो उसके लिए सबसे जरूरी है कि आप कितने समय के लिए निवेश करें. बाजार में पैसा लगाने के लिए सबसे जरूरी है सही समय के हिसाब से प्लानिंग करना.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 26, 2020, 3:50 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली: अगर आप निवेश का प्लान बना रहे हैं तो उसके लिए सबसे जरूरी है कि आप कितने समय के लिए निवेश करें. बाजार में पैसा लगाने के लिए सबसे जरूरी है सही समय के हिसाब से प्लानिंग करना. आप अल्पअवधि (Ultra Short Duration), कम (Low Duration) और छोटी अवधि (Short term Duration) के लिए निवेश कर सकते हैं. आज हम आपको बताएंगे कि किस अवधि का निवेश आपके लिए ज्यादा फायदेमंद होता है और कहां आपको ज्यादा रिटर्न मिलने की संभावना रहती है और इन तीनों ही समयसीमा में क्या अंतर है-

कितने समय के लिए करें निवेश? 
आपको बता दें कि अल्ट्रा शॉर्ट टर्म फंड की समय अवधि 3 से 6 महीने तक की होती है. कम अवधि के फंड में निवेशक 6 से 12 महीने के लिए पैसा निवेश कर सकते हैं. छोटी अवधि के निवेश के लिए निवेशकों के पास 1 से 3 साल की मैकाले अवधि होती है. मैकाले अवधि एक टेक्निकल शब्द है इसमें फंड के पोर्टफोलियों में बॉन्ड की Maturity शामिल होती है.

यह भी पढ़ें: किसानों के लिए खुशखबरी: धान की खरीद 23 फीसदी बढ़ी, मिला 27298.77 करोड़ रुपये
क्या है इन तीनों समय सीमा के निवेश में अंतर -


आपको बता दें कि अगर आप औसत अवधि 3-6 महीने है तो इसका मतलब यह नहीं है कि फंड द्वारा रखे गए सभी कागजात या बांड 3-6 महीनों में मैच्योर हो जाएंगे. यह फंड के पोर्टफोलियो का औसत प्रोफाइल है. इसलिए पोर्टफोलियो में कुछ बांड अगले 1-3 महीनों में मैच्योर होंगे, जबकि कुछ अन्य अगले 2-3 सालों में मैच्योर हो सकते हैं.

कब करें निवेश?
अल्ट्रा शॉर्ट अवधि और कम अवधि के फंड का उपयोग अल्पकालिक निवेशों के लिए किया जा सकता है जो कुछ महीनों से थोड़े ज्यादा लंबे होते हैं, लेकिन कुछ सालों तक के लिए ही होते हैं. बता दें अल्ट्रा-शॉर्ट और कम अवधि के फंड भी दीर्घकालिक पोर्टफोलियो का हिस्सा हो सकते हैं.

यह भी पढ़ें: खुशखबरी! लॉकडाउन में समय पर चुकाई EMI, तो आपके खाते में आएंगे पैसे, सरकार ने दी जानकारी

पैसा लगाने से पहले कंपनी के बारे में जरूर जानकारी लें
बता दें निवशक कोशिश करें कि बड़े और अच्छे फंडों में ही अपना पैसा लगाएं. इसके अलावा पैसा लगाने से पहले चेक कर लें कि कौन से फंड अच्छा रिटर्न दे रहे हैं. इसके अलावा कंपनी की क्रेडिविलिटी के साथ किसी भी तरह का समझौता न करें. हमेशा अच्छी कंपनी के फंड में ही निवेश करें.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज