दुनिया के सबसे बड़े पेंशन फंड ने अप्रैल-जून 2020 तिमाही में कैसे गंवाए 12 लाख करोड़ रुपये

दुनिया के सबसे बड़े पेंशन फंड ने अप्रैल-जून 2020 तिमाही में कैसे गंवाए 12 लाख करोड़ रुपये
दुनिया के सबसे बड़े पेंशन फंड में वित्‍त वर्ष 2020-21 की पहली तिमाही के दौरान 11 फीसदी का नुकसान दर्ज किया गया है.

कोविड-19 महामारी के कारण दुनियाभर में कारोबारी गतिविधियां ठप हो गईं. इस दौरान जापान (Japan) सरकारी पेंशन इंवेस्‍टमेंट फंड (Government Pension Investment Fund) में रिकॉर्ड 11 फीसदी का नुकसान दर्ज किया गया.

  • Share this:
टोक्‍यो. कोरोना वायरस के कारण पूरी दुनिया पर दोहरी मार पड़ रही है. एक तरफ हर दिन कोविड-19 के मरीजों की संख्‍या बढ़ती जा रही है. वहीं, कारोबारी गतिविधियां थमने के कारण वैश्विक अर्थव्‍यवस्‍था (Global Economy) भी डांवाडोल हो गई है. इसी दौरान दुनिया के सबसे बड़े पेंशन फंड (Pension Fund) में रिकॉर्ड नुकसान दर्ज किया गया है. जापान (Japan) के सरकारी पेंशन इंवेस्‍टमेंट फंड (GPIF) में 11 फीसदी का नुकसान हुआ है. जापान की सरकार के मुताबिक, अप्रैल-जून 2020 तिमाही में पेंशन फंड को 12.32 लाख करोड़ रुपये (164.7 अरब डॉलर) का घाटा हुआ. इससे फंड की टोटल एसेट्स घटकर करीब 150 खरब येन रह गई हैं.

एसेट एलोकेशन में दी गई ओवरसीज डेट को तरजीह
जापान के पेंशन फंड में शामिल फॉरेन स्‍टॉक्‍स (Foreign Stocks) का प्रदर्शन सबसे खराब रहा. वहीं, घरेलू इक्विटीज (Domestic Equities) का प्रदर्शन भी काफी बुरा रहा है. हाल में फंड के टॉप मैनेजमेंट में बदलाव किया गया था. साथ ही एसेट एलोकेशन (Asset Allocation) में भी संशोधन कर ओवरसीज डेट (Overseas Debt) में निवेश पर जोर दिया गया. माना जा रहा है कि वित्‍त वर्ष के मुनाफे के नुकसान में तब्‍दील हो जाने के कारण जापान में राजनीतिक उठापटक शुरू हो सकती है. जापान में लाखों सेवानिृत्‍त नागरिकों की सोशल सिक्‍योरिटी बड़ा मुद्दा है.

ये भी पढ़ें- पिछली कंपनी के PF का पैसा नए अकाउंट में घर बैठे कैसे कर सकते हैं ट्रांसफर, यहां जानें पूरा प्रोसेस
सिर्फ ओवरसीज बॉन्‍ड्स ने ही दिया पॉजिटिव रिटर्न


जीपीआईएफ के अध्‍यक्ष मस्‍ताका मियाजों ने कहा कि घरेलू और विदेशी इक्विटीज (Foreign Stocks) में गिरावट के कारण वित्‍त वर्ष (Fiscal) के दौरान फंड का रिटर्न निगेटिव हो गया है. हालांकि, इससे पहले दोनों ही इक्विटीज ने अमेरिका-चीन ट्रेड वॉर (US-China Trade War) के बाद भी 2019 में शानदार प्रदर्शन किया था. कोरोना वायरस के कारण निवेशकों ने जोखिम नहीं लेते हुए इक्विटीज में निवेश से दूरी बना ली. इस दौरान ओवरसीज बॉन्‍ड्स (Overseas Bonds) ने ही पॉजिटिव रिटर्न दर्ज किया है. सिक्‍योरिटीज में 0.5 फीसदी का मुनाफा हुआ. वहीं, घरेलू बॉन्‍ड्स में 0.5 फीसदी का नुकसान हुआ.

ये भी पढ़ें- पटरी पर लौट रही हैं कारोबारी गतिविधियां! जून में हर दिन निकाले गए 14 लाख से ज्‍यादा ई-वे बिल

'पहले से थी जीपीआईएफ में नुकसान की आशंका'
मियाजों ने बताया कि तिमाही के दौरान लोकल इक्विटीज (Local Equities) में 18 फीसदी और फॉरेन स्‍टॉक्‍स (Foreign Stocks) में 22 फीसदी का नुकसान दर्ज किया गया. जीपीआईएफ ने अप्रैल 2020 के दौरान फॉरेन बॉन्‍ड्स (Foreign Bonds) में आवंटन 10 फीसदी बढ़ाकर 25 फीसदी कर दिया था. वहीं, फॉरेन और डॉमेस्टिक‍ स्‍टॉक्‍स (Domestic Stocks) के आवंटन में कोई परिवर्तन नहीं करते हुए 25 फीसदी के स्‍तर पर ही बरकरार रखा था. शिंकिन एसेट मैनेजमेंट कंपनी के चीफ फंड मैनेजर नावकी फुजीवारा ने कहा कि उन्‍हें नुकसान की पहले से ही आशंका थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading