नए वित्त वर्ष में ऐसे डबल करें अपना पैसा, करना होगा बस ये छोटा सा काम

नए वित्त वर्ष में ऐसे डबल करें अपना पैसा, करना होगा बस ये छोटा सा काम
फाइल फोटो

नया वित्तीय वर्ष शुरू होने के साथ आप अगर टैक्स सेविंग के लिए निवेश शुरू कर देते हैं तो यह आपको कई तरह के फायदा पहुंचाता है.

  • Share this:
नए वित्त वर्ष 2019-20 की शुरुआत हो चुकी है. अगर आप नौकरी करते हैं तो आपके लिए टैक्स प्लानिंग करना और भी जरूरी है. कंपनियां अप्रैल महीने में आपका इन्‍वेस्‍टमेट प्‍लान मांगती हैं. अगर आपने यह प्‍लान नहीं दिया तो कंपनी आपकी इनकम पर टीडीएस काटना शुरू कर देंगी. अगर आप जल्‍द ही टैक्‍स प्‍लानिंग शुरू कर देते हैं तो आपके पास सेविंग या निवेश के लिए ज्‍यादा पैसा बचेगा और आपको कम टैक्‍स देना होगा. (ये भी पढ़ें: आज से लागू हुआ होम-पर्सनल और ऑटो लोन का नया नियम, जानें आपकी EMI पर क्या असर होगा!)

जल्द निवेश शुरू करने के फायदे- वित्तीय वर्ष शुरू होने के साथ आप अगर टैक्स बचत के लिए निवेश शुरू कर देते हैं तो यह आपको कई तरह के फायदा पहुंचाता है. आप अपनी जरूरत के अनुसार सही निवेश माध्यम का चुनाव कर पाते हैं. इससे आपके किए निवेश पर शानदार रिटर्न भी मिलता है और अच्छी कर बचत भी होती है. वहीं जो लोग अपने टैक्स बचत योजना को लागू करने के लिए वित्तीय वर्ष के आखिरी कुछ दिनों का इंतजार करते हैं, वे अक्सर गलतियां कर बैठते हैं.

पब्लिक प्रॉविडेंट फंड- टैक्‍स बचाने के लिए पब्लिक प्रॉविडेंट फंड यानी पीपीएफ भी एक शानदार ऑप्‍शन है. आप पीपीएफ में एक साल में अधिकतम 1.5 लाख रुपए निवेश कर सकते हैं. हालांकि आपको पीपीएफ में निवेश करते समय यह पता होना चाहिए अगर आप लंबी अवधि के लिए निवेश कर सकते हैं तभी इसमें पैसा लगाएं. पीपीएफ अकाउंट 15 साल के लिए होता है. फिलहाल मौजूदा ब्याज दर 8 फीसदी है. इस योजना के तहत निवेश 500 रुपये से शुरू होकर 1.5 लाख रुपये तक किया जा सकता है. आप अपने या नाबालिग बच्चे के नाम पर एक PPF खाता खोल सकते हैं. इसमें कम्पाउंडिंग का फायदा मिलता है.



ये भी पढ़ें: आज से इन चीजों के लिए आपको चुकाने होंगे ज्यादा पैसे, जेब पर पड़ेगा भार
सुकन्या समृद्धि योजना- इस योजना में एक लड़की के माता-पिता या कानूनी गार्जियन निवेश कर सकते हैं. निवेश किसी ऐसी लड़की के लिए किया जाना चाहिए जिसकी उम्र 10 साल या उससे कम हो. सुकन्या समृद्धि योजना खाता ज्यादा से ज्यादा दो बच्चों के लिए खोला जा सकता है. अगर किसी के जुड़वा बच्चे हैं तो उस मामले में वो तीसरी लड़की को भी शामिल कर सकते हैं. इस योजना में किए गए निवेश को सेक्शन 80C के तहत टैक्स में छूट मिलती है. इस योजना के तहत, आप लगातार 14 साल तक, हर साल पैसे जमा कर सकते हैं. खाता खुलने के 21 साल बाद ये स्कीम पूरी हो जाती है. पढ़ाई या शादी पर खर्च के लिए, लड़की के 18 साल पूरे करने पर 50 फीसदी निवेश की रकम को निकाला जा सकता है. ये खाता किसी भी सरकारी बैंक या डाकघर में खोला जा सकता है. आज के समय में इसकी ब्याज दर 8.5 फीसदी है और आप 1,000 रुपये से 1.5 लाख रुपये तक हर साल इस योजना में निवेश कर सकते हैं.

हेल्‍थ इन्‍श्‍योरेंस- नए फाइनेंशियल ईयर में मेडिकल इन्‍श्‍योरेंस को लेकर इनकम टैक्‍स के नियमों में बदलाव हुआ है. इसके तहत अगर आप अपने लिए अपनी पत्‍नी के लिए, अपने माता पिता के लिए या अपने बच्‍चो के लिए मेडिकल कवर खरीदते हैं तो सालाना 25,000 तक के प्रीमियम पर आपको टैक्‍स छूट मिलेगी. पहले मेडिकल इन्‍श्‍यारेंस प्रीमियम पर टैक्‍स छूट की लिमिट 15,000 थी. ऐसे में आपको अगर आपने खुद के लिए या फैमिली के लिए हेल्‍थ इन्श्‍योरेंस कवर नहीं खरीदा है तो अभी खरीद लें.

ये भी पढ़ें: सस्ते AC-फ्रिज खरीदने का शानदार मौका, मिल रही इतने रुपये की छूट

नेशनल पेंशन स्कीम- नए वित्त वर्ष में नेशनल पेंशन सिस्टम (NPS) पूरी तरह टैक्स फ्री हो गया. रिटायमेंट के लिए इस योजना आप निवेश कर सकते हैं. इसमें निवेश करने पर रिटायरमेंट के बाद पेंशन मिलती है. आप ज्यादा से ज्यादा 1.5 लाख रुपये का निवेश कर सकते हैं. अपने रिस्क फैक्टर के हिसाब से आप अलग-अलग NPS योजनाओं में निवेश कर सकते हैं. बजट 2016 के अनुसार, आप अलग से 50,000 रुपए का सेक्शन 80CCD(1B) के तहत टैक्स में डिडक्शन ले सकते हैं.

इक्विटी लिंक्ड सेविंग स्कीम- इक्विटी लिंक्ड सेविंग स्कीम एक ओपन-एंडेड इक्विटी म्यूचुअल फंड है जो निवेश की तारीख से तीन साल के लॉक-इन पीरियड के साथ आता है. एक्सपर्ट्स मानते हैं कि निवेशक जो लंबे समय के लिए निवेश करने की योजना बना रहे हैं, जैसे 5-7 साल, उन्हें इस इक्विटी योजना में निवेश करना चाहिए. इस योजना के तहत लगभग 65 प्रतिशत फंड इक्विटी बाजार में निवेश किया जाता है. ELSS में निवेश की रकम को सेक्शन 80C के अन्दर डिडक्शन मिल जाती है. निवेश पर ब्याज की दर सीधे बाजार से जुड़ी होती है. आप 500 रुपए से लेकर कितने भी पैसे इस योजना में निवेश कर सकते हैं.

ये भी पढ़ें: ध्यान दें! सुकन्या, PPF में है खाता तो घर बैठे आज जरूर निपटा लें ये काम, वरना होगी परेशानी!

लाइफ इंश्योरेंस- अगर आपने लाइफ इंश्योरेंस नहीं खरीदा है तो नए वित्त वर्ष में इसे खरीद सकते हैं. एक्सपर्ट्स का कहना है कि लाइफ इंश्योरेंस के लिए टर्म इंश्योरेंस बेहतर विकल्प होता है क्योंकि इसमें कम प्रीमियम में डेथ बेनिफिट ज्यादा मिलता है. रेगुलर प्लान के मुकाबले टर्म इंश्योरेंस लेना फायदेमंद होता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading