लाइव टीवी

एक मजदूर को मिला 1.05 करोड़ का टैक्स नोटिस, एक्सपर्ट्स ने बताया ऐसे में क्या करें

News18Hindi
Updated: January 18, 2020, 3:11 PM IST
एक मजदूर को मिला 1.05 करोड़ का टैक्स नोटिस, एक्सपर्ट्स ने बताया ऐसे में क्या करें
टैक्स नोटिस

कुछ तकनीकी खामियों की वजह से इनकम टैक्स विभाग की तरफ से कई लोगों गलत टैक्स नोटिस भेज दिया गया है. ऐसे में जरूरी है कि आप सही कदम उठाएं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 18, 2020, 3:11 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. महाराष्ट्र के एक मज़दूर को झटका तब लगा, जब उसे पता चला कि इनकम टैक्स विभाग ने उसे 1.05 करोड़ रुपये का नोटिस भेजा. भाउसाहेग अहिरे नाम के इस शख्स को इनकम टैक्स विभाग ने वित्त वर्ष 2017-18 के ​लिए कुल 1,05,83,564 रुपये का टैक्स नोटिस भेजा. इस नोटिस में लिखा गया है कि भाउसाहेब ने 21 लाख रुपये की कमाई के स्त्रोत के बारे में सरकार को कोई जानकारी नहीं दी है. वहीं, उनके नाम पर अन्य बैंकों में कुल 56,81,000 रुपये का डिपॉजिट है, जिसके बारे में भी उन्होंने कोई जानकारी नहीं दी है.

भाउसाहेब अहिरे ने क्या कहा
इस नोटिस में भाउसाहेग अहिरे का कहना हे कि वो एक लेबर है और मुश्किल से सप्ताह में केवल दो दिन ही काम कर पाते हैं. वो इसी प्रकार अपनी जीविका चला रहे हैं. उन्होंने कहा कि अपने जीवन में एक लाख रुपये तक नहीं देखे हैं, ऐसे में 1.95 करोड़ रुपये कहां से जमा करेंगे. पूरे मामले से को देखते हुए लगता है कि इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने उन्हें गलत नोटिस भेज दिया है. ऐसे ही कई अन्य मामले में भी सामने आए हैं.

यह भी पढ़ें: ID और पासवर्ड भूलने की टेंशन खत्म! ICICI Bank ने लॉन्च किया नया सिस्टम

आपको क्या करना चाहिए
ऐसे में लिए जरूरी है कि आप ये जान लें कि अगर आपके भी ऐसा कोई नोटिस आता है तो इसके लिए आपको क्या करना चाहिए. ऐसी किसी नोटिस पर आपको हताश नहीं होना चाहिए. इस मामले में टैक्स जानकारों का कहना है कि इसके बारे में इनकम टैक्स विभाग को जानकारी दे सकते हैं. कई बार सिस्टम में खामियों की वजह से ऐसी परेशानी देखने को मिली है. अगर आपके पास भी ऐसा कोई नोटिस आता है तो इस पर किसी एक्सपर्ट की राज जरूर लेना चाहिए.

एक टैक्स जानकार बताते हैं कि उन्हें ऑनलाइन माध्यम से इनकम टैक्स विभग को जानकार देनी चाहिए.>> सबसे पहले आपको इनकम टैक्स विभाग की आधिकारिक साइट पर जाकर अपने यूजरनेम और पासवर्ड की मदद से 'ई-फाइलिंग पोर्टल' पर लॉग-इन करना चाहिए. आपका यूजरनेप पैन कार्ड होगा.

>> लॉग-इन करने के बाद ई-फाइल टैब में में जाकर ‘Response to Outstanding Demand’ के विकल्प पर क्लिक करना होगा.

>> यहां क्लिक करने के बाद जो रिस्पॉन्स कॉलम होगा, उसके नीचे सबमिट बटन दिया गया है, जिसपर आपको क्लिक करना होगा.

यह भी पढ़ें: वोडाफोन के शेयर में आई 39 फीसदी की भारी गिरावट, आपके पैसों पर होगा सीधा असर

>> आप दिए रिस्पॉन्स की लिस्ट में से कोई एक रिस्पॉन्स चुन सकते हैं. आप वो ही रिस्पॉन्स चुनें, जिसकी वजह से आपको परेशानी हुई है.

>> अगले स्टेप में, आपको ‘Disagree with the demand’ के विकल्प पर क्लिक करना होगा.

>> इस रिस्पॉन्स को चुनने के बाद आपको ड्रॉप डाउन मेन्यू से उचित कारण को चुनना होगा.

>> इसके बाद आपको जरूरी फील्ड्स को भरना होगा और जरूरी डॉक्युमेंट्स अपलोड करने होंगे.

>> ये प्रक्रिया पूरा करने के बाद आपको ट्रांजैक्शन आईडी के साथ आपको एक मैसेज दिखाई देगा. बाद में इस ट्रांजैक्शन आईडी की मदद से ही आप अपना रिस्पॉन्स के बारे में बाद में पता कर सकते हैं कि उसपर क्या कार्रवाई हुई है.

आपके द्वारा रिस्पॉन्स सबमिट करने के बाद इनकम टैक्स अधिकारी इसकी जांच के लिए आपको रिप्लाई करेग, या फिर आपको इनकम टैक्स विभाग के कार्यालय में बुलाया जाएगा. आप चाहें तो आप अपने केस का प्रति निधित्व आप खुद कर सकते हैं या फिर आप किसी एक्सपर्ट की मदद ले सकते हैं. आपके लिए बेहतर होगा कि आप टैक्स एक्सपर्ट की मदद लें, ताकि ये एक्सपर्ट टैक्स अधिकारी को उचित रिप्लाई दे सके.

यह भी पढ़ें: PPF में पैसा लगाने वाले इस नियम के जरिए पा सकते हैं हर साल ज्यादा मुनाफा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 18, 2020, 2:49 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर