लाइव टीवी

सीए से टैक्स रिटर्न फाइल कराने वाले रहें सावधान! हो सकता है बड़ा नुकसान

News18Hindi
Updated: November 10, 2019, 5:16 AM IST
सीए से टैक्स रिटर्न फाइल कराने वाले रहें सावधान! हो सकता है बड़ा नुकसान
इनकम टैक्स रिटर्न

अगर आयकर विभाग (Income Tax Department) की तरफ से कोई नोटिस टैक्सपेयर या उसके CA को भेजा जाता है तो वह मान्य होगा. CA को अधिकृत प्रतिनिधि के तौर पर माना जाता है. ऐसे में जरूरी है कि टैक्सपेयर लॉग इन ID और पासवर्ड अपने पास ही रखें.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 10, 2019, 5:16 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. अगर आप भी समय बचाने या टैक्स नियमों की पेचिदगियों से बचने के लिए चार्टर्ड अकाउंटेन्ट (CA) की मदद लेते हैं तो आपको इन पर आंख मूंद कर भरोसा नहीं करना चाहिए. इन दिनों रिटर्न फाइलिंग (Income Tax Return Filling) के लिए सीए की मदद लेने का चलना बढ़ता जा रहा है. इस दौरान आप CA को पर्सनल ई-मेल ID से लेकर मोबाइल नंबर व कई महत्वपूर्ण जानकारियां साझा करते हैं. लेकिन, ऐसा जरूरी नहीं कि आपका सीए हर बार आपकी परेशानियों को कम ही करें. CA आपकी परेशानियों को बढ़ा भी सकता है.

क्लाइंट तक नहीं पहुंचा नोटिस - सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में ऐसा मामला सामने आया है जहां जहां CA की गलती का खामियाजा टैक्सपेयर को भुगतान पड़ा. दरअसल, क्लाइंट को आयकर विभाग (Income Tax Department) की तरफ से एक नोटिस भेजा गया था. लेकिन, CA ने इस नोटिस को क्लाइंट तक नहीं पहुंचाया. मामले के सामने आने के बाद पता चला कि नोटिस तो क्लाइंट के CA को भेजा जा चुका ​था.

ये भी पढ़ें: अब कैश के बड़े लेन-देन में नहीं देना होगा अपना PAN कार्ड, सरकार ने नियमों में किया बड़ा बदलाव
CA होता है अधिकृत प्रतिनिधि- इस मामले में कोर्ट का कहना है कि सीए अपने टैक्सपेयर का अधिकृत प्रतिनिधि है. ऐसे में टैक्सपेयर या सीए, दोनों में से किसी के पास भी नोटिस भेजा जाता है तो वो मान्य है. ऐसे में सबसे बड़ा सवाल है कि सीए के पास जो भी नोटिस या जानकारियां आती है तो उसे क्लाइंट तक भी कैसे पहुंचाया जाए. आयकर विभाग द्वारा भेजे गए नोटिस पर कैसे नजर बनी रहे ताकि सही समय पर उसका जवाब दिया जा सके.



ऐसी मुसीबत से बचने के लिए क्या करें- इस मामले में CNBC आवाज़ से खास बातचीत में शरद कोहली ने बताया कि लॉग इन ID का पासवर्ड टैक्सपेयर को अपने पास रखना चाहिए. इस लॉगइन ID के लिए ई-मेल ID भी टैक्सपेयर्स का ही होना चाहिए. उसके बाद जब टैक्सपेयर को नोटिस आए तो वो अपने सीए को फॉरवर्ड करें. अगर ऐसा नहीं करते हैं तो भविष्य में आप भी आयकर विभाग की तरफ से नोटिस को लेकर मुश्किल में पड़ सकते हैं.

ये भी पढ़ें: SBI की खास स्कीम: एक बार जमा करें पैसा, हर महीने होगी कमाई

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 10, 2019, 5:16 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...