केंद्र का फैसला! अब गोल्‍ड हॉलमार्किंग अनिवार्य करने का समय नहीं बढ़ेगा आगे, जानें ग्राहकों को क्‍या होगा फायदा

राजस्थान में आज सोने और चांदी के भावों में जोरदार उछाल देखा गया है.

राजस्थान में आज सोने और चांदी के भावों में जोरदार उछाल देखा गया है.

केंद्र सरकार ने साफ कर दिया है कि 1 जून 2021 से देश में गोल्‍ड हॉलमार्किंग (Gold Hallmarking) अनिवार्य हो जाएगी. इसके बाद केवल 14, 18 और 22 कैरेट की गोल्ड ज्वेलरी (Gold Jewellery) ही बिकेगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 14, 2021, 7:56 AM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. देशभर के आभूषण बाजारों (Jewellery Markets) में जल्‍द सिर्फ हॉलमार्क वाली गोल्‍ड ज्‍वेलरी की ही बिक्री की जाएगी. दरअसल, केंद्र सरकार ने साफ कर दिया है कि 1 जून, 2021 से गोल्ड हॉलमार्किंग को अनिवार्य (Mandatory Gold Hallmarking) कर दिया जाएगा. अभी तक यह स्वैच्छिक था, लेकिन अब इसे अनिवार्य किया जा रहा है. बता दें कि हॉलमार्क सोने की शुद्धता का पैमाना होता है. केंद्र ने साथ ही साफ कर दिया है कि हॉलमार्क अनिवार्य होने के बाद देश में सिर्फ 14, 18 और 22 कैरेट सोने की ज्‍वेलरी (Gold Jewellery) ही बिकेगी.

अब ग्राहकों को मिल सकेंगे शुद्ध सोने के आभूषण

केंद्र सरकार ने नवंबर, 2019 में घोषणा की थी कि सोने के आभूषणों और कलाकृतियों के लिए हॉलमार्किंग 15 जनवरी 2021 से अनिवार्य हो जाएगी. हालांकि, कोरोना वायरस महामारी को देखते हुए इसे लागू करने का समय 1 जून 2021 कर दिया गया था. केंद्र सरकार ने साफ कर दिया है कि अब इसे आगे नहीं बढ़ाया जाएगा. केंद्र ने ज्वैलर्स को गोल्ड हॉलमार्किंग की तैयारी करने और भारतीय मानक ब्यूरो (BIS) के पास अपना रजिस्ट्रेशन कराने के लिए 1.5 साल से अधिक का समय दिया है. गोल्ड हॉलमार्किंग से सोने के गहनों की खरीदारी में धोखाधड़ी की कोई गुंजाइश नहीं रह जाएगी और लोगों को शुद्ध सोना मिल सकेगा.

ये भी पढ़ें- बार्कलेज की रिपोर्ट! अगर लगा लॉकडाउन तो भारतीय अर्थव्यवस्था को हर हफ्ते होगा 1.25 अरब डॉलर का नुकसान
बीआईएस हॉलमार्किंग अनिवार्य करने को तैयार

उपभोक्ता मामलों की सचिव लीना नंदन ने कहा कि बीआईएस ज्वैलर्स को हॉलमार्किंग की मंजूरी देने में जुटा हुआ है. वहीं, बीआईएस के डायरेक्टर प्रमोद कुमार तिवारी ने कहा कि हम 1 जून 2021 से हॉलमार्किंग अनिवार्य करने के लिए तैयार हैं. हमें इस तारीख को आगे बढ़ाने के लिए कोई प्रस्ताव नहीं मिला है. बता दें कि अभी तक देश के 35 हजार से अधिक ज्वैलर्स ने बीआईएस के पास रजिस्ट्रेशन करा लिया है. बीआईएस के डायरेक्टर ने उम्मीद जताई है कि अगले एक-दो महीने में रजिस्ट्रेशन का आंकड़ा 1 लाख पर पहुंच जाएगा. भारत दुनिया में सबसे अधिक सोने का आयात करने वाला देश है. देश में सालाना 700 से 800 टन सोना आयात किया जाता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज