लाइव टीवी

शेयर बाजार में हाहाकार के बीच यहां निवेश पर मिल रहा बेस्ट रिटर्न और सरकारी गारंटी

News18Hindi
Updated: March 23, 2020, 6:34 AM IST
शेयर बाजार में हाहाकार के बीच यहां निवेश पर मिल रहा बेस्ट रिटर्न और सरकारी गारंटी
NSC में निवेश से कर बेहतर रिटर्न मिल सकता है.

पिछले कुछ हफ्तों में शेयर बाजार (Share Market) में गिरावट की वजह से निवेशकों की चिंता बढ़ गई है. ऐसे में ​नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट एक बेहतर विकल्प साबित हो सकता है, जहां बेस्ट रिटर्न के साथ-साथ सरकारी गारंटी भी मिलती है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 23, 2020, 6:34 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना वायरस (Coronavirus) के खतरे ने शेयर बाजार में निवेश के जोखिम को बढ़ा दिया है. वहीं दूसरी तरफ वैश्विक बाजार में कच्चे तेल के भाव से भी निवेशकों में कुछ खास उत्साह नहीं देखने को मिल रहा है. पिछले कुछ हफ्तों में भारत समेत दुनियाभर के शेयर बाजार में ऐतिहाहिस गिरावट दर्ज की गई है. रेपो रेट में लगातार कटौती के बाद बैंकों ने फिक्स्ड डिपॉजिट पर मिलने वाले ब्याज को रिवाइज किया है. ऐसे में जरूरी है कि आप कुछ ऐसे निवेश विकल्प के बारे में जानें, जिसमें जोखिम कम हो और आपको बेहतर रिटर्न भी मिल सके. सरकारी गारंटी वाला नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट इसमें से बेहतर विकल्प है. आइए जानते हैं इसके बारे में...

Fixed Deposit से जल्दी डबल होगा आपका पैसा
देश के किसी भी पोस्ट ऑफिस ब्रांच से NSC सर्टिफिकेट्स लिया जा सकता है. NSC का मैच्योरिटी पीरियड 5 साल होता है. फिलहाल एनएससी पर 7.9 फीसदी सालाना का ब्याज मिल रहा है. NSC स्मॉल सेविंग्स में आती है और सरकार हर 3 महीने पर स्मॉल सेविंग्स के लिए ब्याज दर रिवाइज करती है. 7.9 फीसदी की ब्याज दर के हिसाब से अगर आप 1 लाख रुपये की NSC खरीदते हैं तो आपका पैसा 9 सालों में डबल होगा. वहीं अगर आप देश के सबसे बड़े बैंक SBI में एफडी करते हैं तो यहां आपका पैसा 10.5 साल से भी अधिक समय में दोगुना होगा.

यह भी पढ़ें: मैरियट ने कर्मचारियों को बिना पेमेंट छुट्टी पर भेजा, बॉस भी नहीं लेंगे सैलरी



NSC में निवेश के फायदे

>> NSC में निवेश करने पर इनकम टैक्स एक्ट के सेक्शन 80C के तहत टैक्‍स छूट मिलती है. हालांकि यह छूट 1.50 लाख रुपये तक के निवेश पर ही मिलती है.

>> NSC के VIII इश्यू को किसी अन्य व्यक्ति को ट्रांसफर किया जा सकता है. हालांकि ऐसा इसके मैच्योर होने से पहले केवल एक ही बार किया जा सकता है.

>> सर्टिफिकेट ट्रांसफर करने पर पुराने सर्टिफिकेट्स और इसकी परचेज एप्लीकेशन पर ही पुराने होल्डर का नाम काटकर नए होल्डर का नाम लिख दिया जाता है. इस दौरान ऑथराइज्ड पोस्टमास्टर के सिग्नेचर, उसकी डेजिग्नेशन यानी पोस्ट की स्टांप और पोस्ट ऑफिस की डेट स्टांप लगाई जाती है.

निवेश की कोई सीमा नहीं
​एक सिंगल होल्डर टाइप सर्टिफिकेट कोई भी एडल्ट अपने नाम से या अपने बच्चे के नाम से खरीद सकता है. NSC में 100, 500, 1000, 5000, 10,000 के सर्टिफिकेट मिलते हैं. इसमें नि‍वेश करने की कोई सीमा नहीं है.

यह भी पढ़ें:  कोरोना के डर से कहीं आपने तो बंद नहीं की म्युचूअल फंड्स SIP, जानें अब क्या

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 23, 2020, 6:34 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर