कोरोना संकट के बीच बैंक ही नहीं, ग्राहकों के लिए भी फायदे का सौदा है गोल्‍ड लोन

बैंक आजकल गोल्‍ड लोन को काफी बढ़ावा दे रहे हैं. गोल्‍ड लोन ग्राहकों और बैंकों दोनों के लिए फायदे का सौदा है.
बैंक आजकल गोल्‍ड लोन को काफी बढ़ावा दे रहे हैं. गोल्‍ड लोन ग्राहकों और बैंकों दोनों के लिए फायदे का सौदा है.

बैंकों को लॉकडाउन (Lockdown) के कारण ठप हुई आर्थिक गतिविधियों के कारण नए कर्ज के वापस नहीं लौटने (NPA) का डर सता रहा है. ऐसे में बैंक घर में रखे सोने के एवज में कर्ज (Gold Loan) को बढ़ावा दे रहे हैं. आइए जानते हैं कि गोल्‍ड लोन से बैंकों (Banks) और ग्राहकों (Customers) को क्‍या फायदा है?

  • Share this:
नई दिल्‍ली. कोरोना वायरस के कारण लगाए गए लॉकडाउन (Lockdown) से कारोबारी गतिविधियां करीब-करीब ठप पड़ गई थीं. छोटे-छोटे कारोबारियों से लेकर किसानों तक सभी को लॉकडाउन के कारण काफी नुकसान हुआ है. किसानों पर पहले बारिश की मार पड़ी और फिर लॉकडाउन के कारण फसल खेतों में ही खड़ी रही. गन्‍ना किसानों की हालत और भी खराब हो गई. कर्ज लेकर खेती करने वाले किसानों की माली हालत बदतर हो गई. ऐसे में बैंक (Banks) भी नए लोन की रिकवरी को लेकर ज्‍यादा चौंकन्‍ने हो गए हैं. बैंकों को इस दौरान दिए गए कर्ज के कारण नॉन परफॉर्मिंग एसेट्स (NPA) में वृद्धि का डर सता रहा है. ऐसे में बैंक घर में रखे सोने के एवज में कर्ज (Gold Loan) को बढ़ावा दे रहे हैं. आइए जानते हैं कि गोल्‍ड लोन से बैंकों और ग्राहकों को क्‍या फायदा है?

बैंक जमा कराए गए सोने से कर सकते हैं डूबे कर्ज की वसूली
सोने के एवज में कर्ज लेने का चलन वैसे तो भारत में नया नहीं है, लेकिन इन दिनों बैंकों की ओर से गोल्‍ड लोन को बढ़ावा देने के खास वजह है. दरअसल, बैंक सोने के एवज में दिए गए कर्ज को अपनी माली हालत के लिए सबसे सुरक्षित मानते हैं. विशेषज्ञों का मानना है कि जब कर्ज लेने वाले व्‍यक्ति का सोना बैंक के पास पड़ा होता है तो ईएमआई में चूक होने या कर्ज डूब जाने की आशंका बहुत कम होती है. अगर कर्ज डूब जाता है तो बैंक अपने पास जमा सोने से उसकी वसूली कर सकता है. इसलिए बैंक गोल्ड पर बिना किसी झिझक के आसानी से कर्ज दे रहे हैं.

ये भी पढ़ें- PNB में दो सरकारी बैंकों के मर्जर के बाद अब क्‍या बंद हो जाएंगे करोड़ों ग्राहकों के ATM कार्ड, जानिए जवाब
ग्राहकों को बिना झंझट के सस्‍ती ब्‍याज दरों पर मिल रहा लोन


वैश्विक महामारी के दौर में जब छोटे किसान, कारोबारी, दुकानदार बैंक के पास लोन लेने जाते हैं तो उन्‍हें औपचारिकताओं में उलझा दिया जाता है. इसके बाद उन्‍हें कई-कई दिन चक्कर कटवाए जाते हैं. यहां तक कि उनके लोन के लिए जमा कराए गए दस्‍तावेजों में खामियां निकालकर टाला जाता है. ऐसे में घर में बिना किसी इस्‍तेमाल के पड़े सोने के गहनों के एवज में उन्‍हें बिना ज्‍यादा मुश्किल पेश आए लोन मिल जाता है. सोना जमा कराने के कारण बैंक भी ज्‍यादा जांच नहीं करते हैं और आसानी से लोन मिल जाता है. इसमें ग्राहकों का एक फायदा ये भी है कि उन्‍हें सामान्‍य कर्ज के मुकाबले सोने के एवज में कहीं ज्‍यादा सस्‍ती ब्‍याज दरों पर लोन मिल जाता है.

ये भी पढ़ें- अब भारत की ये कंपनी बनाएगी कोरोना के इलाज में कारगर दवा रेमडेसिवीर! किया करार

'गोल्‍ड लोन लेकर अपनी वर्किंग कैपिटल बढ़ा रहे हैं लोग'
वर्ल्‍ड गोल्‍ड काउंसिल के इंडियन ऑपरेशंस के प्रमुख पीआर सोमसुंदरम ने कहा कि मौजूदा दौर में ग्राहकों के लिए अपनी पूंजी बढ़ाने का सबसे आसान तरीका गोल्‍ड लोन ही है. मुथूट फाइनेंस के प्रबंध निदेशक जॉर्ज एलेक्‍जेंडर मुथूट ने कहा कि अनिश्चितता से उबरने को कम समय का कर्ज ले रहे हैं. उन्‍होंने बताया कि सोने के एवज में कर्ज लेने वालों में हर वर्ग के लोग शामिल हैं. उनके मुताबिक, लोग इस समय औसतन 40,000 रुपये का लोन ले रहे हैं. एसबीआई समेत कई सरकारी और निजी बैंक इस समय गोल्‍ड लोन दे रहे हैं. एसबीआई 20 लाख रुपये तक का गोल्ड लोन दे रहा है.

ये भी पढ़ें-तीन पान मसाला कंपनियों ने की 225 करोड़ रुपये की जीएसटी चोरी, पाकिस्‍तानी नागरिक समेत 3 गिरफ्तार
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज