Future Group के किशोर बियानी ने सिकंदर की क्रूरता से क्‍यों की Amazon की कोशिशों की तुलना, जानें पूरा मामला

फ्यूचर ग्रुप के सीईओ किशोर बियानी ने कहा कि अमेजन उसके सौदे में बेवजह दिक्‍कतें खड़ी कर रही है.

फ्यूचर ग्रुप (Future Group) के किशोर बियानी (Kishore Biyani) ने कहा कि अमेजन (Amazon) सिकंदर की पूरी दुनिया को क्रूरता के साथ रौंदने की महत्‍वाकांक्षा की तरह ही रिलायंस इंडस्‍ट्रीज (RIL) के साथ हमारे सौदे को रोकने की कोशिश कर रही है. इस सौदे पर छिड़े विवाद को लेकर अभी दिल्‍ली हाईकोर्ट (Delhi High Court) में सुनवाई चल रही है.

  • Share this:
    नई दिल्‍ली. फ्यूचर ग्रुप (Future Group) के मालिक किशोर बियानी (Kishore Biyani) ने अमेरिका की ई-कॉमर्स कंपनी अमेजन (Amazon) की तुलना सिकंदर से की है. उन्‍होंने कहा कि रिलायंस इंडस्ट्रीज (RIL) के साथ फ्यूचर रिटेल (Future Retail) के सौदे को रोकने की अमेजन की कोशिश ठीक वैसी ही है, जैसी दुनिया को रौंदने की क्रूर इच्‍छा सिकंदर (Alexander) की थी. बता दें कि फ्यूचर रिटेल के कोराबार को रिलायंस इंडस्ट्रीज (RIL) को 24,713 करोड़ रुपये में बेचने के सौदे को लेकर अमेजन और फ्यूचर ग्रुप के बीच विवाद चल रहा है. इस मामले की सुनवाई दिल्ली हाईकोर्ट में चल हो रही है.

    किशोर बियानी ने आरोप लगाया कि अमेजन इस सौदे में बेवजह दिक्‍कतें खड़ी कर रही है. उन्होंने कहा कि अमेजन मीडिया कैंपेन के जरिये भ्रम फैलाकर हंगामा खड़ा कर रही है. उन्होंने आरोप लगाया कि अमेजन इस तरह से भारतीय ग्राहकों पर कब्जा करना चाहती है. इस विवाद पर अपने कर्मचारियों को एक इंटरनल मेमो के जरिये किशोर बियानी ने कहा कि फ्यूचर ग्रुप और अमेजन के बीच चल रहा विवाद कॉरपोरेट लड़ाई है, जो भारतीय उपभोक्ताओं पर बर्चस्व बनाए रखने के लिए लड़ी जा रही है.

    ये भी पढ़ें- चीन से किनारा कर रहीं कंपनियां! अब Apple iPhone बनाने वाली पेगाट्रॉन करेगी तमिलनाडु में मोटा निवेश

    एलेक्‍जेंडर के नाम पर अपने प्रोडक्‍ट का नाम रखा एलेक्‍सा
    किशोर बियानी ने कहा कि सिकंदर जिसे जीत नहीं पाता था, उसे बर्बाद कर देता था. ठीक उसी तरह अमेजन भी यही चाहती है. उन्होंने तंज कसा कि अमेजन एलेक्‍जेंडर से प्रेरित है. इसीलिए उसने अपने प्रोडक्ट का नाम एलेक्‍सा (Alexa) रखा है. साथ ही कहा कि इतिहास गवाह है कि सिकंदर ने पूरी दुनिया जीत ली, लेकिन भारत में नाकाम रहा. उसी तरह अमेजन भी अपने मंसूबों में सफल नहीं हो पाएगी. किशोर बियानी के मेमो पर अमेजन ने अब तक कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है.

    ये भी पढ़ें- Budget 2021: बजट में बढ़ सकती है सेक्शन 80C की लिमिट, LIC-PPF या NSC में से कहां निवेश करने पर होगा फायदा

    फ्यूचर रिटेल ने रिलायंस इंडस्‍ट्रीज से क्‍यों किया सौदा
    फ्यूचर ग्रुप के बियानी ने रिटेल कारोबार को बेचने के फैसले पर कर्मचारियों से कहा कि कोरोना संकट के बाद रिटेल सेक्टर आर्थिक संकट में फंस गया. रिलायंस जैसे एक मजबूत ग्रुप के साथ सौदा करने के अलावा हमारे पास कोई विकल्प नहीं बचा था. यह हमारे कर्मचारियों की आजीविका, वेंडर नेटवर्क, कर्जदाताओं, बैंकों और समूचे कारोबारी तंत्र के लिए सबसे अच्‍छा समाधान था. इस सौदे से फ्यूचर ग्रुप के प्रमोटर्स को कोई लाभ नहीं हुआ है. बता दें कि दिल्ली हाईकोर्ट में इस मामले की सुनवाई चल रही है और मार्केट रेग्‍युलेटर सेबी ने फ्यूचर ग्रुप और रिलायंस रिटेल सौदे को मंजूरी दे दी है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.