कोरोना संकट के बीच आर्थिक तंगी में भी PNB ने क्‍यों खरीदीं 3 ऑडी कार?

कोरोना संकट के बीच आर्थिक तंगी में भी PNB ने क्‍यों खरीदीं 3 ऑडी कार?
लॉकडाउन के बीच पंजाब नेशनल बैंक में दो सरकारी बैंकों का विलय 1 अप्रैल 2020 से प्रभावी हो गया है.

सार्वजनिक क्षेत्र के पंजाब नेशनल बैंक (PNB) ने अपने टॉप मैनेजमेंट के लिए पिछले महीने तीन ऑडी कारें (Audi Cars) खरीदी हैं, जबकि भगोड़ा हीरा कारोबारी नीरव मोदी (Nirav Modi) की धोखाधड़ी के बाद से बैंक की माली हालत काफी खराब है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: June 10, 2020, 10:25 AM IST
  • Share this:
मुंबई. कोरोना वायरस (Coronaviru) को फैलने से रोकने के लिए लगाए गए लॉकडाउन के कारण देश की अर्थव्यवस्था (Indian Economy) संकट में हैं. ज्‍यादातर कंपनियां कर्मचारियों की छंटनी करने के साथ ही बेवजह के खर्चों में कटौती कर रही हैं. कंपनियां कोरोना संकट के कारण पैदा हुई मांग में कमी से बनी आर्थिक तंगी (Financial Downturn) के दौर में पूंजी बचाने का हरसंभव उपाय कर रही हैं. इसी बीच, सार्वजनिक क्षेत्र के पंजाब नेशनल बैंक (PNB) ने 3 ऑडी कार (Audi Car) खरीदी हैं. इन कारों की अनुमानित कीमत करीब 1.34 करोड़ रुपये है. इन कारों की डिलिवरी मई में हो चुकी है.

तीनों कारों की कीमत पर हर साल होगा 20 लाख का डेप्रिसिएशन
पीएनबी ने तीनों ऑडी कार अपने शीर्ष प्रबंधन (Top Management) के आने-जाने के लिए खरीदी हैं. सूत्रों के मुताबिक, इनका इस्‍तेमाल बैंक के प्रबंध निदेशक (MD) और दो अन्य वरिष्ठ अधिकारियों को लाने-ले जाने में किया जाएगा. इन कारों पर खर्च की राशि (Expenses) हर साल करीब 20 लाख रुपये कम होती जाएगी यानी इन कारों की कीमत में हर साल इतना डेप्रिसिएशन (Depreciation) होगा. इन कारों की खरीद बैंक के निदेशक मंडल (Board of Directors) की मंजूरी के बाद की गई है.

ये भी पढ़ें- चीन-विरोधी माहौल का इस भारतीय कंपनी को हुआ बड़ा फायदा, बेचे रिकॉर्ड टीवी सेट्स
नीरव मोदी के घोटाले से पीएनबी की माली हालत हो गई थी खराब


केंद्र सरकार (Central Government) और कई कैबिनेट स्तर के मंत्री (Cabinet Ministers) देश में बनी मारुति सुजुकी की सियाज का इस्तेमाल करते हैं. सियाज पीएनबी की ओर से खरीदी गई जर्मनी (Germany) की ऑडी कार से कई गुना सस्ती है. बता दें कि भगोड़ा हीरा कारोबारी नीरव मोदी (Nirav Modi) और मेहुल चौकसी (Mehul Choksi) के 14,000 करोड़ रुपये के घोटाले के कारण बैंक की माली हालत पर बुरा असर पड़ा था. अक्टूबर-दिसंबर 2019 तिमाही में बैंक को 501.93 करोड़ रुपये का घाटा हुआ था, जबकि 2018 की इसी तिमाही में बैंक का शुद्ध लाभ 249.75 करोड़ रुपये था.

पद में बड़े एसबीआई के चेयरमैन भी टोयोटा की कार से चलते हैं
बैंक का फंसे कर्ज (NPA) के लिए प्रावधान इस दौरान 4,445.36 करोड़ रुपये रहा. इससे पिछले साल की इसी अवधि में यह 2,565.77 करोड़ रुपये था. सरकारी प्रोटोकॉल के हिसाब से सार्वजनिक क्षेत्र के प्रबंध निदेशक का पद केंद्र सरकार में अतिरिक्त सचिव (Additional Secretary) के बराबर होता है. देश के सबसे बड़े बैंक भारतीय स्टेट बैंक (SBI) के चेयरमैन भी जब दिल्ली में होते हैं तो टोयोटा कोरोला ऑल्टिस का इस्‍तेमाल करते हैं. पद में उन्हें सभी राष्ट्रीयकृत बैंकों (Nationalized banks) के प्रबंध निदेशकों से ऊपर माना जाता है.

ये भी पढ़ें- इंडियन रेलवे ने रचा इतिहास, पिछले 15 महीने में एक भी यात्री की रेल दुर्घटना में नहीं गई जान

सरकार ने खर्च कम करने के लिए रोक रखी हैं मंजूर योजनाएं भी
कोविड-19 संकट को देखते हुए वित्त मंत्रालय (Finance Ministry) ने पिछले हफ्ते सभी मंत्रालयों और विभागों को चालू वित्त वर्ष में किसी भी तरह की नई योजना शुरू करने से परहेज करने के निर्देश दिए थे. साथ ही संसाधनों का विवेकपूर्ण इस्तेमाल करने के लिए कहा था. वहीं, पहले मंजूर हो चुकी योजनाएं भी 31 मार्च 2021 या अगले आदेश तक निलंबित रहेंगी. सूत्रों ने बताया कि प्रबंध निदेशक के अलावा बैंक के परिचालन को देखने के लिए चार अन्‍य कार्यकारी निदेशक हैं. इन कारों की खरीद को नियमित तौर पर कारों को बदलने की गतिविधि बताया जा रहा है.

ये भी पढ़ें- कोरोना संकट के बीच घरेलू खर्चों के लिए नहीं, इस बात को लेकर ज्‍यादा चिंतित हैं भारतीय

ये भी पढ़ें- इस कार कंपनी ने शुरू की खास सुविधा, EMI में पैसे चुकाकर करा सकेंगे गाड़ी की सर्विस
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading