भारतीय फार्मा कंपनियां अमेरिकी बाजार से वापस मंगा रही हैं अपनी दवाएं, जानें वजह

भारतीय फार्मा कंपनियां अमेरिकी बाजार से वापस मंगा रही हैं अपनी दवाएं, जानें वजह
भारत की कई फार्मास्‍युटिकल कंपनियां अमेरिकी बाजार से अपनी दवाइयां वापस मंगा रही हैं.

अमेरिका के दवा नियामक प्राधिकरण (USFDA) की नवीनतम एनफोर्समेट रिपोर्ट के मुताबिक, ल्यूपिन और मार्कसंस फार्मा मधुमेह (Diabetes) की दवा वापस मंगा रही हैं. वहीं, अरबिंदो और एलेम्बिक मानसिक रोगों (Mental illnesses) में इस्‍तेमाल होने वाली दवाओं को वापस ले रही हैं.

  • Share this:
नई दिल्ली. भारतीय फार्मास्‍युटिकल्‍स कंपनी ल्यूपिन (Lupine), मार्कसंस फार्मा (Marksons Pharma), अरबिंदो फार्मा (Aurobindo Pharma) और एलेम्बिक फार्मास्युटिकल्स (Alembic Pharmaceuticals) अमेरिकी बाजार से अपनी कुछ दवाओं (Medicines) को वापस मंगा रही हैं. अमेरिका के दवा नियामक प्राधिकरण (USFDA) की नवीनतम एनफोर्समेट रिपोर्ट के मुताबिक, ल्यूपिन और मार्कसंस फार्मा मधुमेह (Diabetes) की दवा वापस मंगा रही हैं. वहीं, अरबिंदो और एलेम्बिक मानसिक रोगों (Mental illnesses) में इस्‍तेमाल होने वाली दवाओं को वापस ले रही हैं.

ल्‍यूपिन की दवा में तय से ज्‍यादा मात्रा में पाया गया एक सॉल्‍ट
यूएसएफडीए की रिपोर्ट में कहा गया है कि ल्यूपिन की अमेरिकी इकाई मौजूदा गुड्स मैन्‍युफैक्‍चरिंग प्रोविजंस का पालन नहीं किए जाने के कारण मेटफार्मिन हाइड्रोक्लोराइड टैबलेट की 6,540 बोतलें वापस ले रही है. यह दवाई कंपनी के गोवा (Goa) स्थित संयंत्र में बनाई जाती है. वहीं, मार्कसंस फार्मा भी मेटफार्मिन हाइड्रोक्लोराइड टैबलेट की 11,279 बोतलें वापस ले रही है. मार्कसंस ने अमेरिका की कंपनी टाइम-कैप लैब्स को इनकी आपूर्ति की थी. यूएसएफडीए ने कहा कि इन कंपनियों के मेटफार्मिन हाइड्रोक्लोराइड टैबलेट में एन-नाइट्रोसोडीमिथायलामाइन की मात्रा स्वीकार्य स्तर से अधिक पाई गई है.

ये भी पढ़ें- दुनिया के सबसे बड़े पेंशन फंड ने अप्रैल-जून 2020 तिमाही में कैसे गंवाए 12 लाख करोड़ रुपये
अरबिंदो फार्मा लेबल में गड़बड़ी के कारण वापस ले रही है दवा


हैदराबाद स्थित अरबिंदो फार्मा की इकाई अरबिंदो फार्मा यूएसए इंक (Aurobindo Pharmaa USA Inc) क्लोजैपीन टैबलेट की 1,440 बोतलें वापस ले रही है. इसका इस्तेमाल कुछ मानसिक समस्‍याओं के इलाज के लिये किया जाता है. एक उपभोक्ता ने शिकायत की थी कि 100 एमजी की बोतल में 50 एमजी की गोलियां मिली हैं. इसी तरह एलेम्बिक फार्मास्युटिकल्स अरिपिप्राजोल टैबलेट की 19,153 बोतलें वापस ले रही हैं. इसका इस्तेमाल शिजोफ्रेनिया (Schizophrenia) और बायपोलर डिस्‍ऑर्डर (Bipolar Disorder) के इलाज में किया जाता है. कंपनी दवा के लेबल में हुई कुछ गड़बड़ी के कारण इन्हें वापस ले रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading