Infosys अमेरिका से अपने कर्मचारियों और उनके परिवारों को ला रही है वापस, जानें वजह

Infosys अमेरिका से अपने कर्मचारियों और उनके परिवारों को ला रही है वापस, जानें वजह
इंफोसिस अमेरिका से अपने सैकड़ाें कर्मचारियों और उनके परिवारों को चार्टर्ड फ्लाइट के जरिये वापस भारत ला रही है.

भारतीय टेक कंपनी इंफोसिस (Infosys) चार्टर्ड फ्लाट्स के जरिये अपने सैकड़ों कर्मचारियों (Indian Employees) और उनके परिवारों को अमेरिका (US) से वापस भारत ला रही है. बता दें कि मार्च 2020 में समाप्‍त तिमाही के दौरान कंपनी की कुल कमाई (Revenue) का 61 फीसदी अमेरिकी बाजार (American Market) से आया है.

  • Share this:
बेंगलुरु. देश दूसरी सबसे बड़ी आईटी सर्विसेस कंपनी इंफोसिस लिमिटेड (Infosys Ltd) सैकड़ों भारतीय कर्मचारियों और उनके परिवारों को चार्टर्ड फ्लाइट्स के जरिये अमेरिका (US) से वापस भारत ला रही है. इंफोसिस की चार्टर्ड फ्लाइट्स 200 भारतीय कर्मियों (Indian Employees) और उनके परिवारों को लेकर सैन फ्रांसिस्‍को से बेंगलुरु (San Francisco-Bengaluru) के लिए उड़ान भर चुकी हैं.

कोविड-19 से सुरक्षा कारणों के मद्देनजर लिया गया यह फैसला
कंपनी के रिटेल, सीपरजी व लॉजिस्टिक्‍स डिपार्टमेंट के एसोसिएट वाइस-प्रेसिडेंट समीरन गोसावी ने सोशल मीडिया पर बताया कि अमेरिका में कोविड-19 (COVID-19) के बढ़ते मामलों के मद्देनजर सुरक्षा कारणों से इन सभी कर्मचारियों को भारत लाया जा रहा है. इंफोसिस ने भी पुष्टि की है कि कर्मचारियों और उनके परिवारों को भारत लाने के लिए फ्लाइट्स की व्‍यवस्‍था की गई है. इनमें H1-B वीजा (H1-B Visa) पर क्‍लाइंट लोकेशन पर ऑन-साइट काम करने के लिए भेजे गए कर्मचारी हैं.

ये भी पढ़ें- रेलवे जल्‍द शुरू करेगी नई स्‍पेशल ट्रेनें, तत्‍काल कोटा में टिकट बुक कराने की भी मिलेगी सुविधा
भारत लौटने वालों में इंफोसिस के नियमित कर्मचारी भी हैं शामिल


भारत लौटने वालों में अस्‍थायी तौर पर अमेरिकी की यात्रा करने वाले इंफोसिस के नियमित कर्मी भी शामिल हैं. इंफोसिस के लिए अमेरिका दुनिया का सबसे बड़ा बाजार है. इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि मार्च 2020 में खत्‍म हुई तिमाही के दौरान कंपनी की कुल कमाई में 61.6 फीसदी हिस्‍सेदारी अमेरिकी बाजार की ही है. कुछ समय से कंपनी अमेरिका की अपनी यूनिट्स में स्‍थानीय लोगों की नियुक्ति पर जोर देना शुरू कर दिया था. इसके बाद भी वहां काफी भारतीय कर्मचारी H1-B वीजा पर काम कर रहे थे.

ये भी पढ़ें :- चीन में प्‍लेग के मामले सामने आने पर आनंद महिंद्रा चिंतित! कहा-अब सहन नहीं होतीं ऐसी खबरें

दो साल में अमेरिका में 10 हजार स्‍थानीय कर्मियों की नियुक्ति की
इंफोसिस ने कहा कि पिछले 24 महीने में उसने 10,000 से ज्‍यादा अमेरिकी नागरिकों और स्‍थायी निवासियों की कंपनी में नियुक्ति की है. इंफोसिस के चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर यूबी प्रवीण राव ने हाल में बताया था कि इससे इस समय अमेरिका में कंपनी के 60 फीसदी कर्मचारियों के सामने वीजा को लेकर कोई समस्‍या नहीं है. पिछले साल कंपनी ने एरीजोना में अपना नया डिजिटल डिलीवरी सेंटर भी शुरू किया था. इससे उसके अमेरिका में 6 ऐसे सेंटर हो गए थे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading