केवी कामथ ने मोदी मंत्रिमंडल में कोई भूमिका निभाने की अटकलों को किया खारिज

केवी कामथ ने मोदी मंत्रिमंडल में कोई भूमिका निभाने की अटकलों को किया खारिज
मोदी मंत्रिमंडल में भूमिका निभाने की अटकलों को किया खारिज

न्यू डेवलपमेंट बैंक (New Development Bank) के पूर्व प्रमुख केवी कामथ के बारे में कुछ महीने तक मीडिया में खबरें आईं थी कि उनको केंद्रीय मंत्रिमंडल में शामिल किया जा सकता है और वो वित्त मंत्रालय में भूमिका निभा सकते हैं.

  • Share this:
नई दिल्ली. न्यू डेवलपमेंट बैंक (New Development Bank) के पूर्व प्रमुख केवी कामथ ने नरेंद्र मोदी मंत्रिमंडल में भूमिका निभाने की अटकलों को खारिज करते हुए कहा कि वह किसी भी सरकारी भूमिका को नहीं देख रहे हैं. नेटवर्क 18 के ग्रुप एडिटर-इन-चीफ राहुल जोशी के साथ एक्सक्लूसिव इंटरव्यू में केवी कामथ ने कहा, 'मेरा विचार हमेशा देश के साथ है, लेकिन लेकिन मुझे अपने पैरों को ऊपर रखने की जरूरत है.' उन्होंने कहा, 'भारत की किस्मत महान चीजों के लिए है.'

कुछ महीने तक मीडिया में खबरें आई थीं कि कामथ को केंद्रीय मंत्रिमंडल में शामिल किया जा सकता है और वो वित्त मंत्रालय में भूमिका निभा सकते हैं. ट्रेनिंग के तौर पर मैकेनिकल इंजीनियर और IIM-अहमदाबाद से पास आउट 72 वर्षीय कामथ के बारे में कहा जा रहा था कि वो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उनको भारत सरकार में एक वरिष्ठ भूमिका दे सकते हैं.

यह भी पढ़ें :- केवी कामथ ने कहा-आत्मनिर्भर भारत वक्त की जरूरत

भारत को दोहरे अंकों की वृद्धि का लक्ष्य बनाना है तो पीएम मोदी को उनका कौशल, अनुभव और उनके कॉन्टैक्ट्स की आवश्यकता हो सकती है. कामथ, 2009 तक 13 साल के लिए भारत के दूसरे सबसे बड़े निजी क्षेत्र के बैंक आईसीआईसीआई बैंक (ICICI Bank) के सीईओ और करीब चार वर्षों 2015 तक आईटी कंपनी इंफोसिस के चेयरमैन भी रहे. करीब 50 सालों के अपने करियर में उन्होंने वित्त और व्यापक अर्थव्यवस्था के बारे में गहन ज्ञान प्राप्त किया है जबकि भारतीय कंपनियों के साथ संपर्क बनाए रखा है.



यह भी पढ़ें :- Exclusive: भारत में इकोनॉमिक रिकवरी अनुमान से बेहतर होगी- केवी कामथ

कामथ ने आईसीआईसीआई बैंक में शीर्ष नौकरी लेने से पहले 8 साल तक मनीला में एशियाई विकास बैंक (ADB) में काम किया है. उनके मल्टीलैटरल वित्त क्रेडेंशियल्स के चलते उन्हें शंघाई में पांच देशों के न्यू डेवलपमेंट बैंक के संस्थापक-अध्यक्ष के रूप में पांच साल के लिए जिम्मेदारी दी गई थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज