Home /News /business /

इस बैंक को महंगा पड़ा ग्राहक के खाते से पैसा काटना, अब देना होगा इतना मुआवजा

इस बैंक को महंगा पड़ा ग्राहक के खाते से पैसा काटना, अब देना होगा इतना मुआवजा

लक्ष्मी विलास बैंक ने एक ग्राहक के खाते से बिना किसी ठोस कारण के 40.85 लाख रुपये काट लिया था. NCDRC ने अब इस रकम पर ब्याज सहित 25 हजार रुपये का मुआवजा देने का आदेश दिया है.

लक्ष्मी विलास बैंक ने एक ग्राहक के खाते से बिना किसी ठोस कारण के 40.85 लाख रुपये काट लिया था. NCDRC ने अब इस रकम पर ब्याज सहित 25 हजार रुपये का मुआवजा देने का आदेश दिया है.

लक्ष्मी विलास बैंक ने एक ग्राहक के खाते से बिना किसी ठोस कारण के 40.85 लाख रुपये काट लिया था. NCDRC ने अब इस रकम पर ब्याज सहित 25 हजार रुपये का मुआवजा देने का आदेश दिया है.

    नई दिल्ली. लक्ष्मी विलास बैंक को अपने एक ग्राहक के खाते से ‘बिना किसी ठोस कारण’ के पैसा काटना काफी महंगा पड़ गया. अब राष्ट्रीय उपभोक्ता विवाद निवारण आयोग (NCDRC) ने बैंक को इस ग्राहक को 40.85 लाख रुपये और साथ ही मुआवजा देने का निर्देश दिया है।.

    ग्राहक को मिलेगा 25 हजार का मुआवजा
    आयोग ने बैंक को कर्नाटक निवासी गोपाल के खाते से 11 अप्रैल 2015 को काटी गई धनराशि पर भुगतान किये जाने के दिन तक का ब्याज और 25,000 रुपये मुआवजा देने का निर्देश दिया.

    ये भी पढ़ें: वित्त वर्ष 2017-18 के लिए कंज्यूमर सर्वे नहीं जारी करेगी सरकार, बताया ये कारण

    ब्याज सहित पूरी रकम वापस करेगा बैंक
    एनसीडीआरसी के पीठासीन सदस्य दीपा शर्मा और सदस्य सी विश्वनाथ ने कहा, "प्रतिवादी (लक्ष्मी विलास बैंक) ने बिना किसी वैध कारण के अपीलकर्ता के खाते से 40,85,254 रुपये की राशि काट ली थी. यह स्पष्ट है कि शिकायतकर्ता (गोपाल) को 40,85,254 रुपये का नुकसान हुआ है. शिकायतकर्ता को बैंक से इस राशि का दावा करने का अधिकार है."

    ये भी पढ़ें: कम वेतन वालों के लिए सरकार की नई पहल, करोड़ों लोगों को मिलेंगी हेल्थ सर्विसेज

    Tags: Bank, Bank interest rate, Bank rates, Business news in hindi

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर