लैरी चेन: कभी थे स्कूल टीचर, दुनिया के रईसों में शामिल हुए, 5 महीने में गंवाए 14 अरब डॉलर, अब खतरे में अरबपति का दर्जा

लैरी चेन (फोटो क्रेडिट-Twitter/NYSE)

लैरी चेन (फोटो क्रेडिट-Twitter/NYSE)

स्कूल टीचर से दुनिया के सबसे रईस लोगों में शामिल चीन के लैरी चेन (Larry Chen) को महज 5 महीने 14 अरब डॉलर का नुकसान हुआ है.

  • Share this:

नई दिल्ली. चीन एक गरीब गांव में स्कूल टीचर रहे लैरी चेन (Larry Chen) दुनिया के टॉप अरबपतियों में शुमार हैं. कुछ महीने पहले तक ऑनलाइन एजुकेशन का यह व्यापारी अरबपति कहलाता था लेकिन अब अरबपति का दर्जा खतरे में आ गया है. दरअसल, चेन पांच महीने के अंदर 14 अरब डॉलर की संपत्ति गंवा चुके हैं.

चेन ने एक ऑनलाइन एजुकेशन कंपनी जीएसएक्स टेकएडु (GSX Techedu) की शुरुआत की और कुछ ही समय में दुनिया के रईस लोगों की लिस्ट में शामिल हो गए. चेन ने आज से 7 साल पहले इस कंपनी की स्थापना की थी. यह कंपनी न्यूयॉर्क एक्सचेंज स्टॉक एक्सचेंज में साल 2019 में लिस्ट हुई. यह कंपनी अब न्यूयॉर्क स्टॉक एक्सचेंज में लिस्टेड सबसे बड़ी चाइनीज ऑनलाइन एजुकेशन कंपनी बन गई है.

ये भी पढ़ें- 6 करोड़ नौकरीपेशा लोगों को मोदी सरकार का बड़ा तोहफा! अगले महीने PF खाते में आएंगे ज्यादा पैसे, चेक करें डिटेल

न्यूयॉर्क शेयर मार्केट में गोल्डमैन सॉक्स के लुढ़कने के बाद जीएसएक्स टेकएडु भी चार फीसदी तक लुढ़क गया जिसके बाद लैरी चेन की संपत्ति में 14 अरब डॉलर की कमी हो गई. ब्लूमबर्ग बिलेनेयर इंडेक्स के मुताबिक इस साल जनवरी के आखिर से लेकर अब तक चेन की कंपनी के शेयर में लगभग 88 फीसदी तक की गिरावट आई है जिसके बाद अब उनके पास सिर्फ 1.9 अरब डॉलर की संपत्ति शेष रह गई है.
ये भी पढ़ें- SBI ने 44 करोड़ ग्राहकों को किया अलर्ट! 30 जून के बाद नहीं चलेगा PAN कार्ड, जानें बैंक ने क्या दी सलाह?

जीएसएक्स टेकएडु कई तरह के मसलों से जूझ रही है. चीन में ऑनलाइन एजुकेशन क्षेत्र पर क्रैकडाउन चल रहा है. चाइना मर्चेंट सिक्योरिटी के टॉमी वोंग ने बताया कि चीन सरकार की पॉलिसी से जुड़ा जोखिम इस समय जीएसएक्स टेकएडु के लिए चिंता की सबसे बड़ी वजह है. चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने इस साल मार्च में सुझाव दिया था कि ऑनलाइन एजुकेशन के कारण चीनी बच्चों पर अत्यधिक दबाव पड़ रहा है. चीन के एजुकेशन मिनिस्ट्री की योजना है कि सभी प्राइवेट एजुकेशन प्लेटफार्म पर नजर रखने के लिए एक डेडीकेटेड डिवीजन बनाया जाए. इस मामले से जुड़े लोगों ने ब्लूमबर्ग को बताया कि चीन में ऐसा पहली बार हो रहा है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज